चुनाव शायरी 2019 | Political Shayari | Chunav Shayari

Election Shayari

Political Shayari in Hindi – इस पोस्ट में बेहतरीन Chunav Shayari in Hindi ( चुनाव शायरी हिंदी में ), Election Shayari ( इलेक्शन शायरी ), Political Shayari ( पोलिटिकल शायरी ), Rajneti Shayari ( राजनीति शायरी ) आदि दिए गये हैं. इस पोस्ट को जरूर पढ़े और अपने दोस्तों को भी शेयर करें.

 

Chunva Shayari in Hindi

चुनाव शायरी | Chunav Shayari | Election Shayari

‘सरहदों पर बहुत तनाव है क्या,
कुछ पता तो करो चुनाव है क्या,
और खौफ बिखरा है दोनों समतो में,
तीसरी समत का दबाव है क्या’.
डॉ. राहत इंदोरी


राजनीति का रंग भी बड़ा अजीब होता हैं,
वही दुश्मन बनता है जो सबसे करीब होता हैं.


Chunav Shayari 2019

जरूरत पर सब यार होते हैं,
जरूरत न हो तो पलट कर वार होते हैं,
चुनाव नजदीक आ रहा हैं बच के रहना
क्योंकि ज्यादातर नेता गद्दार होते हैं.


पैसा लेकर चुनाव न करें,
किसी नेक को मतदान करें,
भारत का निर्माण करें,


नए किरदार आते जा रहे हैं
मगर नाटक पुराना चल रहा है
– राहत इंदौरी


जरूरी नही है कि चोरों का एक ही हो घराना,
दर्द और राजनीति का रिश्ता है पुराना.


राजनीति की मार ने नेताओं को क्या-क्या सिखा दिया,
बड़े-बड़े वीर नेता को जनता के क़दमों पर झुका दिया.


राजनीति भी रंग-रंगीली हैं,
कुछ ने तो बाप की ज़ागीर समझ ली हैं.


किसी पेड़ के कटने का किस्सा न होता,
अगर कुल्हाड़ी के पीछे लकड़ी का हिस्सा न होगा.


चुनाव जीत की शायरी | Chunav Jeet Ki Shayari

राजनीती में साम-दाम-दंड-भेद सब अपनाया जाता हैं,
जरूरत पड़े तो दुश्मन को भी दोस्त बनाया जाता हैं.


बदल जाओ वक्त के साथ या फिर वक्त बदलना सीखो,
मजबूरियों को मत कोसो हर हाल में चलना सीखो.


मेरी बातों से जो जाहिर हैं छिपायें कैसे,
तेरी मरजी के मुताबिक़ नजर आएं कैसे.


जिन्दा रहे चाहे जान जाएँ,
वोट उसी को दो जो काम आएँ.


सुना है आज समन्दर को बड़ा गुमान आया हैं,
उधर ही ले चलो कश्ती जहाँ तूफ़ान आया हैं.


नेताओं ने ये कैसा हिन्दुस्तान कर दिया,
बेजान इमारतों को भी हिन्दू मुसलमान कर दिया.


हर आदमी में होते है दस बीस आदमी
जिस को भी देखना हो कई बार देखना
निदा फ़ाजली


फिर्फ़ हंगामा खड़ा करना मिरा मक्सद नहीं
मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए.
दुष्यंत कुमार


आप भी सुनिए नेता जी क्या-क्या कह रहे हैं,
दौरे तरक्की में भी दर्द गरीब ही सह रहे हैं.


चुनावी दौर है क्या किसी पर ऐतबार करना,
अबकी बार कुछ अच्छा होगा,
ये सोचकर क्या दिल बेकरार करना.


चुनाव शायरी बीजेपी | Chunav Shayari BJP

ना किसी नेता के अनुरक्त बनों,
ना किसी पार्टी के भक्त बनों
दोस्तों सिर्फ़ देश भक्त बनों.


अपनी तिजोरी तो हर कोई भरता हैं,
ऐसा नेता चुनो जो देश के लिए कुछ करता हैं.


इसे भी पढ़े –