ट्रेन शायरी | Train Shayari

Train Shayari

Train Shayari Status Quotes in Hinid ( ट्रेन शायरी स्टेटस कोट्स ) – ट्रेन का सफर बड़ा ही रोमांचक होता है. यदि आपने भी सफ़र किया होगा तो आपको पता होगा. ट्रेन पर कितने अजनबी लोग मिलते है. उनसे अजीबों गरीब बातें होती हैं. भारतीय ट्रेन की विशेषता है कि वो कभी भी समय पर नहीं पहुँचती है. अगर कुछ एक ट्रेन को छोड़ दिया जाए. भारत में सबसे अधिक रोजगार रेलवे विभाग ही देता है.

इस पोस्ट में कुछ बेहतरीन ट्रेन शायरी, ट्रेन स्टेटस, ट्रेन कोट्स, Train Shayari, Train Status, Train Quotes in Hindi, Train Shayari in Hindi आदि दिए हुए हैं. इन्हें जरूर पढ़े और पेज को लाइक करें.

ट्रेन शायरी | Train Shayari

फरिश्तें आ कर उन के जिस्म पर ख़ुश्बू लगाते है,
वो बच्चे रेल एक डिब्बों में जो झाडू लगाते है.


दिल में ठहर जाते हो तुम ऐसे,
रेल का आखिरी स्टेशन हो जैसे.
Train Shayari


भारतीय ट्रेन सी हो गई है जिंदगी की रफ़्तार,
जैसे मैं माया के जाल में हो गया हूँ गिरफ़्तार.


आज मैंने ट्रेन के सफ़र में ये जाना,
कितना मुश्किल होता ट्रेन का पंचर बनाना.
Train Shayari


नींद भी कमबख्त भारतीय रेल हो गई,
आजकल समय पर आती नहीं.


रिश्तें भी नफा-नुकसान के खेल बन गये है,
प्लेटफार्म पर आती-जाती रेल बन गये है.


कुहरे का आसमां से धरती तक कहर,
कि दूर दूर तक लोहपथगामिनी आये ना नजर.


अपनी जिन्दगी भारतीय रेल की तरह है,
लेट हो सकती है पर मंजिल पर जरूर पहुंचेगी.
Train Shayari


तुम ठहरी CBSE टॉपर, मैं बिहार बोर्ड में फिल प्रिये,
मैं हूँ भोजपुरिया खांटी, तू इंग्लिश में रेलम रेल प्रिये.


प्रवासियों के लिए ख़ुशी का सबसे बड़ा पैगाम होता है,
जब गाँव की रेल की रिजर्वेशन लिस्ट में अपना नाम होता है.


जिन्दगी की ट्रेन जब तक पटरी पर चलती है,
तब तक जिन्दगी की हकीकत का पता नहीं चलता है.


रेल की पटरियों पर दौड़ती जिन्दगी की रेल,
रेल की पटरियों पर दम तोडती जिन्दगी की खेल.


इश्क ना हुआ रेल हो गई,
देरी से भी आती है,
इंतजार भी कराती है
और अगले ही स्टेशन पर
बेवफा भी हो जाती है.


तू किसी रेल सी गुजर गई,
मैं कोई स्टेशन सा थम गया,
मैं रहता हूँ बस इसी इन्तजार में,
कब फिर तेरा सफर यहाँ खत्म होगा.


छोटी छोटी बातों में पराया क्या करना,
मुँह फेरकर किसी से वक्त बिताया क्या करना,
जिन्दगी रेल की तरह गुजर जायेगी मन
हसीन वक्त नफरतों में जाया क्या करना .


चलती रेल से भागती हुई पेड़ को जो गिनते है,
वो अपनी जिन्दगी में गजब की तरक्की करते हैं.


तू आता है और
बारिश आ बरस जाता है,
मैं पत्ते पर बूँद सी ठहर जाती हूँ
तू रेल सा गुजर जाता है.


रेल की पटरियों की माफ़िक है ये जिन्दगी,
साथ-साथ चलती है फिर भी कोसो दूर है ये जिन्दगी.


जीते जी न हो सकेगा अपना ये मेल प्रिये,
चाहे तेरे पापा लेकर दे दे रेल प्रिये.


किसी रेल सी है तू
मैं किसी मुसाफिर सा
जब भी गुरता हूँ तुझमे
सफर का मायना बदल जाता है.


वो गुजर गई मेरे जीवन से,
एक तेज रफ़्तार रेल की तरह,
और मैं थरथराता रह गया,
एक खाई पर लटकते हुए पुल की तरह.


दिल को मेरे लोगों ने कोई खेल समझा है,
जो रहता है जल्दी में वो मुझे रेल समझा है.


ये मेरी जिन्दगी थी या रेल का सफर,
सारे खूबसूरत नजारे पलक झपकते ही गुजर गये.
Train Shayari


पटरी हर वक्त साथ साथ चलती,
लेकिन दूर से देखो तो लगे गले मिलती,
पटरी खुद आपस में कभी न मिलती
पटरी खुद अंजानी राहों पर चलती
लेकिन साथ चले लोगो को मंजिल पहुँचाती.


बहुत से लोग करते बहुत सी बातें,
जब हम ट्रेन में सफ़र करने जाते.


मेरा उसका साथ है ऐसे
जैसे हो रेल की पटरियां
जो मीलों तक साथ निभाए
पर इक ना होने पाए.


करीब होकर भी नजदीक होते है क्या सब
पास होकर, दिल में उतरना जरूरी तो नहीं,
मीलों साथ चलते रहना रेल की पटरियों सा,
ऐसा साथ, मान ले एक साथ है, जरूरी तो नहीं.


ट्रेन को कहते है लोहपथगामिनी,
तुम मेरी दिल की धड़कन हो यामिनी.


छुक-छुक करके आगे बढ़ना, रेल कभी बनाते थे,
बचपन में एक दुसरे के पीछे हम लग जाते थे,


मैं रेल सा, मुश्किलें पटरी सी,
छोर के अंत में थोड़ा सा सुकून
फिर मीलों ला तन्हा सफर.


रफ़्तार से गुजरती, दोस्ती की रेल के नीचे पाई जाती हूँ,
मैं वो गिट्टी हूँ, जो कुचलने को बिछायी जाती हूँ.
Train Shayari


ट्रेन से यात्रा करते ये ध्यान आया,
कि किसी ज्ञानी पुरूष ने कहा था
कि पटरी पर सिक्का रख दो तो चुम्बक बन जाता है.


इसे भी पढ़े –