दहेज़ शायरी स्टेटस कोट्स | Dahej Shayari Status Quotes in Hindi

Dahej Shayari

Dowry Dahej Shayari Status Quotes Slogans Images Wallpaper in Hindi for Whatsapp and Facebook – दहेज़ एक ऐसी सामाजिक कुप्रथा है जिसे शिक्षित वर्ग के द्वारा बढ़ावा मिलता रहा है. भारतीय क़ानून के अनुसार दहेज लेना और देना दोनों ही अपराध है. लेकिन भारत में 97% शादियों में दहेज़ दिया और लिया जाता हैं.

दहेज के कारण ही माँ-बाप को अपनी बेटियाँ बोझ से लगती है. जिसकी वजह से लोग भ्रूण हत्या जैसे निकृष्ट कार्य को भी कर देते हैं. ऐसे शिक्षित समाज को लानत है जो दहेज़ देता या लेता है. क्या आपको पता है बहुत से लोग दहेज़ के लिए लोन लेते है और सही समय पर किश्त न भर पाने की वजह से उन्हें चिंता होती हैं. और यह चिंता हार्टअटैक, मानसिक निष्क्रियता के कारण मौत भी हो जाती है. क्या किसी के जान की कीमत पैसों से ज्यादा है.

भारत के वीरों, युवाओं, पढ़े-लिखे लोगों, विद्यार्थियों अब तुम्हें जागना होगा. और दहेज रुपी कुप्रथा को जड़ से मिटाना होगा. हर सामाजिक कुरीति का शिकार किसी न किसी दिन हम और आप भी होंगे. निश्चय करें – उससे पहले इस देहज के दानव को मार देंगे.

इस पोस्ट में बेहतरीन दहेज़ शायरी, दहेज़ पर शायरी, दहेज प्रथा पर शायरी, दहेज़ प्रथा पर शायरी हिंदी में, दहेज़ स्टेटस, दहेज़ स्टेटस इन हिंदी आदि इस पोस्ट में दिए हुए हैं. इसे जरूर पढ़े.

दहेज़ शायरी

दहेज़ प्रथा के अंधविश्वास को तोड़ना होगा,
दौलत से नहीं, प्यार से अब दिल जोड़ना होगा.


एहतियात बरत के करना बिटियाँ का विवाह,
ये लुटेरों का मुल्क है,
यहाँ बेटे की कीमत करोड़ो है और
बहू की जान निःशुल्क है.


खुलेआम लेना दहेज,
ये चलन हुआ व्यापारों सा,
अब विवाह के पावन मंडप
लगता है बाजारों सा.


दहेज प्रथा पर शायरी

लगती रोज़ नुमाइश बेटों की खुल कर लगती बोली,
लूट मचाती घूम रही पापी बटमारों की टोली,
कब उसने आँसू के अंतर्मन में झाँका जाता है,
मूल्य वधू का केवल कुछ सिक्कों से आँका जाता है,
कब किसकी दयनीय दशा पर पाते हैं पाषाण पिघल।
इस दहेज के दानव ने सारे समाज को दिया है कुचल।।
महावीर प्रसाद ‘मधुप’


कब तक वो यूं अबला बनकर चीखेगी चिल्लायेगी,
कब तक नारी यूँ तू दहेज की बलि चढ़ाई जायेगी.


दहेज़ तो समाज पर वह अभिशाप है,
जहाँ बाप पूछता है…क्या बेटी होना कोई पाप है?


Dahej Shayari

दहेज क्या है? ये उस बाप से पूछो…
जिसकी जमीन भी गयी और बेटी भी…


पैसा कमाना नहीं जानते,
तो अपना हाथ फैला दिया,
कुछ ऐसे लोगों ने
दुल्हे को बिकाऊ बना दिया.


दहेज़ लेकर अपने आपको बड़ा बताते हो,
तुम्हें नहीं पता कि तुम अपना घर जलाते हो.


Dahej Par Shayari

समाज के तरीको ने ही बनाया हैं बेटी को पराया,
दहेज हो या कन्या भ्रूणहत्या अपनों ने ही कहर है बरसाया.


दहेज़ के दानव को जड़ से मिटायें कैसे,
पढ़े-लिखे ही दहेज़ लेते है, इन्हें समझायें कैसे.


चीखे उठती उठकर घुटती,
उनका क्रन्दन होता मौन,
मूक बन है मानव
नारी का अस्तित्व बचायें कौन.


Dahej Status

स्वार्थों की खूनी दलदल हैं
नैतिकता भी लाश बनी
पीड़ित शोषित और सिसकती,
नारी टूटी श्वास बनी


दहेज के लोभ ने लाखों बेटियों की जान ली है,
ये समाज के लिए अभिशाप है ये मान ली है.


इस दहेज के दावनल में, झुलसे हैं कितने श्रृंगार
कितनी लाशें दफन हुई हैं, कितने उजड़े हैं संसार


Dahej Status in Hindi

नारी ने ही प्यार लुटाया,
दिया सभी को नूतन ज्ञान,
लेकिन इस दानव दहेज ने
छीना नारी का सम्मान.


कब तक यूँ खूनी दलदल में
फंसा रहेगा मनुज समाज,
कब तक औरत को रौंदेगा,
ये दहेज का कुटिल रिवाज.


कब तक इस समाज में ये अंधी रीत चलाई जायेगी,
कब तक नारी यूं दहेज़ की बलि चढ़ाई जायेगी.


एक रीति यदि हो कुरीति, तो सब फैलें फिर अपने आप
इस दहेज से ही जन्मा है, आज भ्रूण हत्या सा पाप


Dowry Shayari in Hindi

वो घर आंगन को महकाती, रचती सपनों का संसार
पर निष्ठुर समाज नें उसको, दिया जन्म से पहले मार


बिकता है लड़का
शर्मिंदा क्यूँ है लड़की,
औकात लड़के की ही दिखती है,
बाजार में लड़की नहीं बिकती है.


दहेज से जली बेटी की चिता को
बाप ने जब आग देनी चाही,
लाश बोल पड़ी – फिर से मत जलाओ
पापा, जलने से बड़ा दर्द होता हैं.


Shayari on Dowry System in Hindi

तेरी ही बगिया में खिली हूँ,
तितली बन आसमां में उड़ी हूँ,
मेरी उड़ान को तू शर्मिंदा ना कर,
बाबुल मुझे दहेज़ देकर विदा ना कर.


सुना है वो खुद को बेचने निकले हैं,
आज लड़के वाले लड़की देखने निकले हैं.


अब हर शिक्षित युवा को आवाज उठाना चाहिए,
दहेज के दानव को पैरों तले कुचल देना चाहिए.


दहेज एक अभिशाप पर शायरी

अबला को सबला बनने का मौका दो,
तुम दहेज़ के दानव को अब चौका दो.


दहेज़ के ख़ातिर लड़की को मत जलाओ,
अगर सच में मर्द हो तो उसे कम के खिलाओं.


शादी का धंधा देखिये जनाब
एक अपने लड़के की बोली लगाकर इतरा रहा था,
दूजा लड़की की कीमत चुकाना फर्ज बता रहा था.


Dahej Pratha Shayari in Hindi

बेटी के लिए दामाद देखे,
लालच भरा दानव नहीं…
दहेज प्रथा को जड़ से मिटाना है,
अब हर कदम आगे ही बढाना है.


बहु गाय जैसी सीधी चाहिए
और दहेज की उम्मीद भी रखते हो,
संस्कार चाहिए सीता जैसे
और कैकेई सा व्यवहार करते हो.


कितना भी दे दीजिये , तृप्त न हो यह शख़्श
तो फिर यह दामाद है अथवा लैटर बक्स ?


Dowry Shayari , Dowry Shayari in Hindi, Dahej Shayari , Dahej Par Shayari, Dahej Pratha Par Shayari in Hindi, Dahej Status in Hindi, Dahej Status, dahej Pratha par Shayari Hindi Mai, Dahej Ek Abhishap Shayari.

इसे भी पढ़े –