आचार्य प्रशांत के प्रेरणादायक विचार | Acharya Prashant Quotes in Hindi

Acharya Prashant Quotes Thoughts Suvichar in Hindi for Inspiration and Motivation – इस आर्टिकल में आचार्य प्रशांत के अनमोल विचार दिए हुए है. इन्हे जरूर पढ़े.

आचार्य प्रशांत एक आध्यात्मिक गुरू, लेखक और अच्छे वक्ता है. आपका जन्म 7 मार्च, 1978 को हुआ. एक आध्यात्मिक गुरू बनने से पहले प्रशासनिक सेवा अधिकारी भी रहे है. आचार्य प्रशांत आगरा, उत्तर प्रदेश ( भारत ) के रहने वाले है.

Acharya Prashant Quotes in Hindi

Acharya Prashant Quotes in Hindi
Acharya Prashant Quotes in Hindi | आचार्य प्रशांत कोट्स इन हिंदी

दुःख वो देना कि छाती फट जाएँ,
और छाती वो देना कि कैसा भी दुःख झेल जाएँ।
आचार्य प्रशांत


बुद्धि भिड़ाओ, साहस दिखाओ
सही काम के लिए जितना भी
श्रम करना पड़े कम है.
आचार्य प्रशांत


- Advertisement -

तुम्हारा जन्म
दूसरों से अपनी चलने करने
के लिए नहीं हुआ है.
तुम्हारा जन्म
अपनी सच्चाई को अभिव्यक्ति
देने के लिए हुआ है.
आचार्य प्रशांत


तन को बस एक निश्चित मात्रा में धन चाहिए।
उतना धन तुम तन को दे दोगे,
तन संतुष्ट हो जाएगा।
मन को अनंत धन चाहिए,
और मन को तुम अनंत धन दे भी दोगे
तो भी वह संतुष्ट नहीं होगा।
धन कमाओ तन के लिए
या फ़िर धन कमाओ धर्म के लिए,
मन के लिए नहीं।
आचार्य प्रशांत


अध्यात्म पूरा यही है –
जानना कि कल नहीं रहोगे।
क्या करना है इस एक पल का?
इस ज़रा से समय का,
जो उपलब्ध है जीने के लिए!
आचार्य प्रशांत


आचार्य प्रशांत के प्रेरणादायक विचार

आचार्य प्रशांत के प्रेरणादायक विचार
आचार्य प्रशांत के प्रेरणादायक विचार | Inspirational thoughts of Acharya Prashant

किसको तुम ‘ना’ कहते हो,
और किसको ‘हाँ’ कहते हो,
इसी से तुम्हारी जिंदगी
तय हो जाती है.
आचार्य प्रशांत


ऐसे जियो कि जैसे खेल हो,
जान लो कि खेल है,
फिर जान लगाकर खेलो!
आचार्य प्रशांत


‘आनंद’ क्या है?

जब मन पर
न सुख हावी है,
न दुःख हावी है,
तब मन का
जो निर्बोझ होना है,
जो ख़ालीपन है,
उसे ‘आनंद’ कहते हैं।
आचार्य प्रशांत


डर रहेगा,
हमेशा रहेगा
लेकिन तुम जितना
मन को साफ़ करते जाओगे,
जितना तुम हृदय
का साथ देते जाओगे
डर उतना कम
जरूर होता जाएगा।
आचार्य प्रशांत


मूर्खतापूर्ण चीजों को दूर करो,
अपनी सारी ऊर्जा को
सही जगह केंद्रित करो.
जिस नाते जन्म, जीवन मिला है
उसको सार्थक करो; मुक्त जिओ!
आचार्य प्रशांत


Acharya Prashant Quotes on Life in Hindi

Acharya Prashant Quotes on Life in Hindi
Acharya Prashant Quotes on Life in Hindi | जीवन पर आचार्य प्रशांत के सुविचार

बहुत सारी बातों से डरते हो
लेकिन जीवन के बेकार चले जाने
से क्यूँ नहीं डरते हो.
आचार्य प्रशांत


जिंदगी जिंदगी तब है जब उसमें
आनंद हो, मुक्ति हो, उड़ान हो…!
आचार्य प्रशांत


जीने का मजा तब आता है,
जब एक बहुत ऊँचा मकसद
तुम्हारी जिंदगी पर छा जाता है.
आचार्य प्रशांत


मौत को याद रखो,
और मौज को साथ रखो.
आचार्य प्रशांत


खेल तो चलता रहेगा,
लेकिन खेल कौन रहा,
जीवन तुमसे या तुम जीवन से.
आचार्य प्रशांत


Acharya Prashant Thoughts in Hindi

Acharya Prashant Thoughts in Hindi
Acharya Prashant Thoughts in Hindi | आचार्य प्रशांत थॉट्स इन हिंदी

जिस आदमी में लालच नहीं
वो किसी का ग़ुलाम नहीं हो सकता।
और जिस आदमी के भीतर
तुमने लालच दौड़ा दिया,
अब वो बड़ी आसानी से
तुम्हारे काबू में आ जाएगा।
आचार्य प्रशांत


वो प्रेम कैसा जो सीमाएँ मान ले
वो सत्य क्या जो बंधा हुआ है…!
आचार्य प्रशांत


जिसे पाने का लालच नहीं,
उसे छिनने का डर भी नहीं।
आचार्य प्रशांत


जब तक तुम्हारे पास कुछ ऊँचा
और कुछ सुंदर नहीं होगा,
तब तक तुम्हारे पास
कोई विकल्प ही नहीं होगा
सिवाय इसके कि तुम
बहुत छोटी, क्षुद्र और
बदबूदार बातों में लिप्त रहो.
आचार्य प्रशांत


संसार नहीं किसी को हराने आता है,
तुम्हारी आंतरिक दुर्बलताएँ हराती है तुमको।
आचार्य प्रशांत


Acharya Prashant Quotes on Love in Hindi

Acharya Prashant Quotes on Love in Hindi
Acharya Prashant Quotes on Love in Hindi | प्रेम पर आचार्य प्रशांत के सुविचार

प्रेम दिया जा सकता है,
लिया नहीं जा सकता,
और माँगा तो बिल्कुल
नहीं जा सकता।
आचार्य प्रशांत


प्रेम में डूबते है,
अंजाम का अनुमान नहीं लगाते।
आचार्य प्रशांत


मन की बेचैनी का
चैन के प्रति खिंचाव
ही प्रेम है.
आचार्य प्रशांत


वास्तव में देने लायक कुछ है,
तो प्रेम ही है.
आचार्य प्रशांत


अगर वास्तव में प्रेम करते हो,
तो दूसरे को सच्चाई तक लेकर जाओ.
आचार्य प्रशांत


Quotes on Acharya Prashant in Hindi

Quotes on Acharya Prashant in Hindi
Quotes on Acharya Prashant in Hindi | आचार्य प्रशांत पर हिंदी में उद्धरण

परेशानियों में अगर उलझना ही है,
तो जरा ऊँची परेशानियाँ आमंत्रित करो.
आचार्य प्रशांत


कुछ मिला है
नया-नया जिंदगी में
कि जैसे फूल खिल गए
और सुगंध तैर गई.
बस ये पूछ लीजियेगा
कितनी देर?
और लग रहा है कि लुट गए,
बर्बाद ही हो गए,
कुछ बचा नहीं
तो भी पूछ लीजिएगा
कितनी देर?


जो अपने दोषो को याद रखता है,
वह धीरे-धीरे दोषों से मुक्त भी होता चलता है.
आचार्य प्रशांत


नजर साफ़ होने लगी हो,
बेहतर दिखाई देने लगा हो,
तो जान लो कि रोशनी की तरफ बढ़ रहे हो.
जो बातें पहले उलझी-उलझी थी,
अगर वो अब सरल और
सुलझी हुई हो गई है,
तो जान लो कि
रोशनी की तरफ बढ़ रहे हो.
और उलझने यदि यथावत है,
तो समझो अँधेरा कायम है.
आचार्य प्रशांत


समाधान
समस्या में ही छुपा होता है.
आचार्य प्रशांत


Acharya Prashant Status in Hindi

Acharya Prashant Status in Hindi
Acharya Prashant Status in Hindi | आचार्य प्रशांत स्टेटस इन हिंदी

समय डरकर बिता दिया,
तुमने अपना क्या बचा लिया।
आचार्य प्रशांत


बड़ा काम वो होता है,
जो आपको छोटा न रहने दे.
आचार्य प्रशांत


ना एकांत ना विश्राम,
धर्म है अथक काम…!
आचार्य प्रशांत


जिंदगी में साथ उसके चलो,
जो दूरियाँ निभाना जानता हो.
आचार्य प्रशांत


हमारे कष्ट ही प्रमाण है,
हमारे भ्रमित होने का…!
आचार्य प्रशांत


Acharya Prashant Suvichar

Acharya Prashant Suvichar
Acharya Prashant Suvichar | आचार्य प्रशांत सुविचार

चीजों को कीमत देते-देते हम
जिंदगी को कीमत देना भूल जाते है.
आचार्य प्रशांत


तुम जितने ऊँचे उठते जाओगे
दुनिया को देखने का तुम्हारा नजरिया
उतना ही साफ़ होता जायेगा।
आचार्य प्रशांत


जिस क्षण आप ईमानदारी से
ये स्वीकार कर लेते है कि
आपका जीवन आपका चुनाव है,
उस क्षण आपके जीवन में
एक बड़ी क्रांति आ जाती है.
सब बदल जाता है. आप कुछ और ही हो जाते है.
आचार्य प्रशांत


तुम्हारा डर कितना गहरा है,
ये जानना हो तो बस ये देख लो
कि तुम्हारे मन में भविष्य
कितना घूमता है.
आचार्य प्रशांत


अगर डरे नहीं होते तुम,
तो जिंदगी कितनी अलग होती सोचना।
आचार्य प्रशांत


आचार्य प्रशांत के अनमोल विचार

दुनिया कितनी भी रंगीन हो,
उसका इस्तेमाल पुल की तरह ही करना।
पुल से गुजर जाते है,
पल पर घर नहीं बनाते।
आचार्य प्रशांत


अकेलेपन के कारण जो भी
संबंध बनेगा, वो दुःख ही देगा।
आचार्य प्रशांत


अपने सब उत्तेजक क्षणों के बारे में सोचों,
कितनी देर चलते हैं?
और पीछे क्या छोड़ हैं? गंदगी, निराशा, खालीपन।
उत्तेजना का नशा थोड़ी देर का होता है
और पछतावा लम्बा।
आचार्य प्रशांत


बंधन तुम्हारा स्वभाव नहीं,
खुला रहना, मुक्त रहना स्वभाव है.
आचार्य प्रशांत


तुमने जिस किसी को कुछ चाहा,
तुम्हें उसी के सामने झुकना पड़ेगा।
आचार्य प्रशांत


आचार्य प्रशांत के अनमोल वचन

मैं चाहता हूँ
आप बैसाखियाँ छोड़कर
दर्द से गुजरें, गिरें, चोट खाएँ!
वो चोटें ही आपको निखारेंगी
आप नहीं मिटेंगे, मिटेंगी
आपकी कमजोरियाँ।
आचार्य प्रशांत


ताकतवर से रिश्ता सब रखना चाहते है,
पर इंसान वही है जो कमजोरो से भी
प्यार निभा सके.
आचार्य प्रशांत


जिंदगी ही माया है.
दिल लग ही जाता है,
और जितना दिल लगाओगे,
वो उतना दिल तोड़ेगी।
तुम दर्द के साथ भी मगन रहना।
यह आनंद है!
आचार्य प्रशांत


तुम्हारा काम ही तुम्हारी जिंदगी है.
जीवन का ज्यादातर समय काम में ही बीतना है.
तो काम ऐसा हो कि दर्द आए, लालच आए, डर आए
तुम कहो – भाई, अभी व्यस्त हूँ.
आचार्य प्रशांत


जिस दिन अपना कद
शरीर की ऊंचाई से नहीं,
बल्कि मन की गहराई से
नापने लगो, उस दिन
समझ लेना बड़े हो गए.
आचार्य प्रशांत


आचार्य प्रशांत के विचार

कमजोरियों का रोना रो के
हम भीतर के दानवों की पूजा कर रहे है.
आचार्य प्रशांत


जहां हो,
उसके बारे में ईमानदार रहो,
और वहीं से एक कदम उठाओ,
बस इतना।
आचार्य प्रशांत


बुद्धि, तर्क और स्मृति
आपके गुलाम होने चाहिए,
मालिक नहीं।
आचार्य प्रशांत


पुराने रास्तों पर चलते हुए,
नयी मंजिल तक कैसे पहुँच जाओगे।
आचार्य प्रशांत


इससे पहले कि मौत आ जाए
जी उठो
जी उठना अनिवार्य नहीं है
पर मौत पक्की है.
आचार्य प्रशांत


Acharya Prashant Quotes

आजादी हल्की चीज़ नहीं होती है,
बड़ी कीमत माँगती है.
आचार्य प्रशांत


जिंदगी की सबसे बड़ी बर्बादी है,
छोटी-छोटी बातों में फंस जाना।
आचार्य प्रशांत


दुःख आग है
आग या तो जगा देती है या जला देती है
जागना है या जलना है?
आचार्य प्रशांत


चाँद की तरह शीतल होना हो तो,
पहले सूरज की तरह जलना सीखो।
आचार्य प्रशांत


अपने खिलाफ जाए बिना,
कोई आध्यात्मिक प्रगति सम्भव नहीं है,
जो अपना विरोध करने को तैयार नहीं,
वो वहीं पड़ा रह जाएगा जहाँ वो है.
आचार्य प्रशांत


Acharya Prashant Quotes in English

Know What is risht,
do what is risht,
nothing else matters.
Acharya Prashant


If you really love somebody,
do not make yourself
important for that person.
Let the Truth be important.
That is the action of Love.
Acharya Prashant


Have some compassion
towards yourself first.
Before you bear
all the responsibilities
towards the world,
be a little sensitive
to your own state, please.
Acharya Prashant


Truth, Joy, Love, Freedom.
This is what makes life worthy.
Acharya Prashant


You rest within yourself,
and the rest will be taken care of.
That is the secret of Joyful relationships.
Acharya Prashant


Quotes on Acharya Prashant

If you resist pain, you get suffering.
If you embrace pain, you get strength.
Acharya Prashant


To meditate is to be continuously
in love with the Truth.
Acharya Prashant


A spiritual mind is a mind
in which thoughts do not
needlessly arise at all.
Acharya Prashant


Your helplessness is
just a thought, not a fact.
Why have you made
yourself so helpless?
There is no need.
Acharya Prashant


In the right battle
Even defeat is Victory.
Acharya Prashant


आचार्य प्रशांत के दार्शनिक विचार

मजबूरी सिर्फ उनके लिए है,
जिन्हें कुछ खोने का डर हो.
आचार्य प्रशांत


आपकी तकलीफें
आपसे दूर नहीं हो सकती,
आप अपनी तकलीफों
से दूर हो सकते है.
आचार्य प्रशांत


मंजिल सही है,
तो यात्रा में कितनी भी परेशानियाँ आएँ,
छोटी हो या बड़ी हो
सबका स्वागत है.
आचार्य प्रशांत


तुम अपने आप को हर चीज़ के लिए
माफ़ कर सकते हो,
बुजदिली के लिए नहीं।
आचार्य प्रशांत


आचार्य प्रशांत के आध्यात्मिक विचार

एक बात जितनी जल्दी समझ लो अच्छा है,
इस सफर में रास्ते के अलावा
तुम्हारा कोई हमसफ़र नहीं हो सकता।
Acharya Prashant


जवान आदमी सुरक्षा
माँगता नहीं है,
वो सुरक्षा देता है!
Acharya Prashant


दुनिया में तुम्हें जो
बुरे-से-बुरा जीवन में
अनुभव हो रहा है
वो भी तुम्हारा शिक्षक
हो सकता है अगर तुम्हारी
सीखने की नीयत हो
Acharya Prashant


जिसकी ज़रूरतें जितनी बढ़ेंगी,
वो उतना बिकेगा!
Acharya Prashant


आचार्य प्रशांत शायरी | Acharya Prashant Shayari in Hindi

अड़े ही रहते हैं
जो सच के दीवाने हैं
जो गिरना चाहते हैं
उन पर सौ बहाने हैं!


जो भयानक है
वो कुछ छीन नहीं सकता,
जो आकर्षक है
वो कुछ दे नहीं सकता!


आचार्य प्रशांत के जीवन बदलने वाले सुविचार

यही धर्म है आपका
कि जब दस लोग
मूर्खता कर रहे हों,
तो आप मूर्खता ना करें!
आप मूर्खता ना करें तो
उन दस के सुधरने की
संभावना बढ़ जाती है।
आचार्य प्रशांत


हम डरे हुए हैं कि
हमारा कुछ बुरा
ना हो जाए,
पर डर से बुरा
और क्या होगा?
आचार्य प्रशांत


तुम्हारी दिशा ठीक होनी चाहिए
लोग साथ हों तो ठीक, न हों तो ठीक


आचार्य प्रशांत स्टेटस

अपने कल्याण की ज़िम्मेदारी
तो व्यक्ति की ही है।
तुम दे भी लो दूसरे को दोष,
तुम्हें मिल क्या जाएगा?


हार कब है?
जब हारना ही छोड़ दो
हार के डर से।


गलती वो नहीं
जो आपने अतीत में करी थी।
अतीत में जो हो गया, सो हो गया।
अतीत में कोई गलतियाँ नहीं होती।
गलती होती है मात्र वर्तमान में!


इसे भी पढ़े –

Latest Articles