World Day Against Child Labour Shayari Status Quotes Slogan in Hindi

World Day Against Child Labour Shayari Status Quotes Slogan in Hindi – इस आर्टिकल में बाल श्रम के खिलाफ विश्व दिवस पर शायरी स्टेटस कोट्स स्लोगन इमेज आदि दिए हुए है. बाल श्रम के खिलाफ होने की वजह यह कि बच्चों की अच्छी पढ़ाई और शारीरिक विकास हो सके. बचपन में पढ़ना-लिखना, खेलना-कूदना उनका अधिकार है. जिसे मजबूरी और स्वार्थ के कारण थोड़े से लोग छीनने पर लगे है.

प्रतिवर्ष 12 जून को बाल श्रम के खिलाफ विश्व दिवस ( वर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर ) मनाया जाता है. इसको मनाने का मुख्य उद्देश्य यह है कि लोगो में जागरूकता आये और बालश्रम को जड़ से खत्म किया जा सके. पूरे विश्व में बालश्रम के मामले बढ़ रहे है. बालश्रम को लेकर हर देश की सरकारों को चिंतित होना चाहिए। क्योंकि बाल श्रम देश के विकास में बाधक होता है.

भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में विकास का अभाव है और गरीबी भी अपने चरम सीमा पर है. माँ-बाप किसी तरह मजदूरी और दुसरे के खेतों में काम करके अपने बच्चों का लालन-पालन करते है. शुरूआत में सभी बच्चे स्कूल जाते है लेकिन सरकारी प्राइमरी स्कूलों में पढ़ाई न होने के कारण कम उम्र में ही बच्चे स्कूल जाना छोड़ देते है. कुछ बच्चे कक्षा 5 तक तो कुछ कक्षा 8 तक पढ़ाई कर लेते है. उसके बाद इनके माता-पिता इन पर काम करने और पैसा कमाने के लिए दबाव बनाने लगते है, क्योंकि इनकी भी मजबूरी होती है. शुरूआत में ये बच्चे गाँव पर ही काम करते है फिर 14-15 वर्ष की आयु में दिल्ली और मुम्बाई जाकर पैसा कमाने लगते है.

बाल श्रम को रोकना आसान नहीं है. कुछ लोग मजबूरी में अपने कम उम्र के बच्चों को काम पर लगाते है, तो कुछ लोग स्वार्थ में कम उम्र के बच्चों से काम लेते है. सरकार को ऐसा नियम लाना चाहिए कि अगर किसी का बच्चा ( लड़का हो या लड़की ) 18 वर्ष तक स्कूल में पढ़ाई ना करें तो उसे कोई सरकारी लाभ ना मिले। लेकिन इसकी केवल कल्पना ही की जा सकती है. क्योंकि बाल श्रम करने वाले बच्चों के माता-पिता की भी मजबूरी रहती है. वही सरकार की राजनीतिक मजबूरी रहती है. अगर सरकार जनता पर थोड़ी भी सख्ती दिखाएगी तो अगली बार चुनाव बुरी तरह हार जायेगी।

बाल श्रम रोकने के लिए भारत सरकार ने क़ानून और नियम बनाये है, लेकिन उनका कड़ाई से पालन नहीं होता है. क्योंकि सरकारी अधिकारियों का रवैया बड़ा लापरवाही पूर्ण होता है. ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी प्रतिव्यक्ति आय बहुत कम है। जब तक ग्रामीण क्षेत्रों में व्यक्ति की आय नहीं बढ़ेगी तब तक वे अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा नहीं दे पाएंगे और बाल श्रम बढ़ता रहेगा। हमें मिलकर प्रयास करना चाहिए कि हर बच्चा बढे और आगे बढे. भारत से बालश्रम को जड़ से मिटाने के लिए सरकार और जनता को प्रयासरत रहना होगा। यहाँ मैंने सिर्फ एक कारण बताया है जबकि कई और कारण है जिसकी वजह से बालश्रम को बढ़ावा मिलता है.

World Day Against Child Labour Shayari in Hindi

World Day Against Child Labour Shayari in Hindi
World Day Against Child Labour Shayari in Hindi

बालश्रम और बाल मजदूरी एक व्यापार है,
बचपन में पढ़ना-खेलना बच्चों का अधिकार है.


बालश्रम के अभिशाप से अपने बच्चो को बचाएं,
ये भी सरकारी साहब बन सके, इन्हे इतना पढ़ाएं।


अगर अशिक्षित समाज ही बालश्रम को बढ़ावा देता है,
तो फिर शिक्षित समाज इस पर लगाम क्यों नहीं लगाता है.


World Day Against Child Labour Status in Hindi

World Day Against Child Labour Status in Hindi
World Day Against Child Labour Status in Hindi

माँ-बाप की मजबूरी चाहे कितनी भी हो,
लेकिन बच्चों से मजदूरी मत करवायें।


बच्चे करेंगे काम तो कैसे होगा देश का नाम,
पढ़ कर करेंगे बड़े काम तभी तो बढ़ेगा देश का मान।


बच्चों को शिक्षित करने का कार्य करो,
बाल मजदूरी को तुम ना स्वीकार्य करो.


World Day Against Child Labour Quotes in Hindi

बालश्रम जब कोई करवाता है,
तब वह एक बच्चे का सपना छीन लेता है,
तब वह एक देश का अब्दुल कलाम छीन लेता है,
तब वह देश की तरक्की को रोकता है.


बालश्रम को रोकने के कई तरीके है,
लेकिन सरकारी साहब इतनी मेहनत
क्यों करें। उन्हें जब बिना कुछ किये
भी महीने की पगार मिल जाती है.


यह मनुष्य के लालच और स्वार्थ का परिणाम है,
कि कम उम्र के बच्चे जिनके हाथों में किताब और
आँखों में बड़े-बड़े ख्वाब होने चाहिए। वो बालश्रम
करते है. ऐसी तरक्की पर धिक्कार है.


World Day Against Child Labour Slogan in Hindi

World Day Against Child Labour Slogan in Hindi
World Day Against Child Labour Slogan in Hindi

अपने बच्चों से तुम मत लो काम,
आज पढ़ेंगे तो कल ऊँचा होगा नाम.


बालश्रम को जड़ से मिटाना होगा,
सरकार को कड़ा क़ानून बनाना होगा।


बाल मजदूरी को मिटाना होगा,
अशिक्षित को शिक्षित बनाना होगा।


इसे भी पढ़े –

Latest Articles