उत्साहवर्धक शायरी और स्टेटस | Motivational Shayari

यदि अंधकार से लड़ने का संकल्प कोई कर लेता हैं,
तो एक अकेला जुगनू भी सब अन्धकार हर लेता हैं.

कायरता जिस चेहरे का श्रृंगार करती हैं,
मक्खी भी उसपर बैठने से इंकार करती हैं.

ये कैसे लोग हैं जो बम बनाते हैं,
इनसे अच्छे तो कीड़े हैं जो रेशम बनाते हैं.

तुम्हारे घर में दरवाजा हैं लेकिन तुन्हें ख़तरे का अंदाजा नही हैं,
हमे ख़तरे का अंदाजा हैं लेकिन हमारे घर में दरवाजा नही हैं.

सूरज पर प्रतिबंध अनेको, और भरोसा रातों पर,
नयन हमारे सीख रहे हैं, हंसना झूठी बातों पर.

उन का जो फ़र्ज हैं वो अहल-ए-वतन जानें,
मेरा पैगाम मोहब्बत हैं जहाँ तक पहुँचे.