Relax Quotes in Hindi | विश्राम पर अनमोल विचार

Relax Quotes in Hindi

Relax Quotes in Hindi ( रिलैक्स कोट्स इन हिंदी ) – काम करना जितना जरूरी हैं उतना ही जरूरी आराम (विश्राम) करना हैं. कई बार ज्यादा कम करने से तनाव बढ़ जाता हैं ऐसे में विश्राम करना जरूरी होता हैं. एक संतुलित और स्वस्थ जीवन जीने के लिए काम और आराम का संतुलन होना ज़रूरी हैं. इस पोस्ट में रिलैक्स कोट्स ( Relax Quotes ) दिए हुए हैं. इन कोट्स को जरूर पढ़े.

रिलैक्सेशन कोट्स इन हिंदी | Relaxation Quotes in Hindi

जब किसी व्यक्ति को अपने काम से प्यार हो जाता हैं तो वह उस कार्य को करने में थकान महसूस नहीं करता हैं और न ही विश्राम की आवश्यकता होती हैं.

कार्य करने के पश्चात ही विश्राम से असीम आनन्द की अनुभूति होती हैं.

जब कोई व्यक्ति अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए तन-मन-धन से लग जाता हैं तो उसे विश्राम की आवश्यकता नहीं पड़ती हैं.

यदि आपका मन काम में नहीं लग रहा हैं तो इतना विश्राम कीजिये कि इससे आप उब जाएँ. आपके विश्राम करने की इच्छा ही खत्म हो जाए.

कार्य के लिए विश्राम वैसा ही है जैसा नेत्रों के लिए पलकों का होना. – रवीन्द्रनाथ ठाकुर

जो लोग ज्यादा चिंता करते हैं उन्हें अधिक विश्राम की आवश्यकता होती हैं.

बिना काम किये विश्राम करना आलस्य हैं.

हृदय में चिंता और निराशा को मत आने दो बिना आराम किये रिलैक्स महसूस करोगे.

जब मैं किसी बुजुर्ग को कार्य करते देखता हूँ तो आराम करने का ख्याल भी मेरे मन में नहीं आता हैं.

श्रम का अन्त ही विश्राम हैं. – अरस्तू

रिलैक्स या विश्राम करने से मानसिक और शारीरिक ऊर्जा में वृद्धि हो जाती हैं.

उस दिन इंसान सबसे ज्यादा थकान महसूस करता है जिस दिन वो अपने चेहरे पर मुस्कान या हंसी नहीं लाता हैं.

विश्राम आलस-भरी मदिरा का प्याला हैं. – स्वेट मार्डेन

बहुत अधिक विश्राम स्वयं दर्द बन जाता हैं. – होमर

समय पर ठीक तौर से काम न करने की आदत का ख्याल रखों. जो कुछ करना हो शीघ्र कर डालो और काम कर लेने के बाद आराम करो, पहले आराम करने की कोशिश मत करो. – स्वेट मार्डेन

आप तब तक रिलैक्स या विश्राम नहीं कर सकते हैं जब तक हृदय में आंतरिक शन्ति नही हैं.

इंसान सबसे ज्यादा रिलैक्स माँ की गोद में करता हैं.

युवाओं को आलस्य और विश्राम में अंतर करना बड़ा कठिन होता हैं.

यदि आप के पास रिलैक्स करने का टाइम हैं तो आप अभी कार्य पूरे मन से नहीं कर रहे हैं.

तीव्र काम विश्राम हैं. हर सच्चा काम विश्राम हैं. – स्वामी रामतीर्थ

इसे भी पढ़े –