Bravery Quotes in Hindi | वीरता पर अनमोल विचार

Bravery Quotes in Hindi

Bravery Quotes in Hindi ( Brave Quotes in Hindi ) – वीर पुरूष अपनी वीरता और कार्यों का दिखावा नहीं करते हैं, वे सिर्फ अपना कर्म करते हैं क्योंकि वे जानते हैं कि इतिहास एक दिन उनके वीरता की कहानी जरूर सुनाएगा. इस पोस्ट में वीरता पर अनमोल विचार दिए हुए हैं. इन विचारों को जरूर पढ़े.

जीवन उनका नहीं युधिष्ठिर! जो उससे डरते हैं,
वह उनका, जो चरण रोप, निर्भय होकर लड़ते हैं.

ब्रवेरी कोट्स | Bravery Quotes

प्राणों का मोह, धन का मोह और सम्बन्धों का मोह त्याग करना वीरता का रहस्य हैं.

मृत्यु निश्चित हैं फिर भी मृत्यु से डरते हैं, जो अपनी आत्मा को एकाग्रचित करके मृत्यु के डर को ही खत्म कर देते हैं ऐसी वीरता अनुकरणीय होती हैं.

आत्मविश्वास से ही वीरता की शुरूआत होती हैं.

जिनके अंदर वीरता होती हैं वो अपने कर्मों से ही अपनी पहचान बनाते हैं.

दुनिया रुपी समुन्द्र में से मोती जैसे कामों की ही खोज करना बहादुरों का काम हैं. – महात्मा गांधी

ब्रेव कोट्स | Brave Quotes

किसी जीव को कष्ट देना कभी भी वीरता नहीं हो सकती हैं.

वीरता के साथ नैतिकता का होना अति आवश्यक हैं, नहीं तो वीरता पाश्विक प्रवृति के समान हो जाती हैं.

खुद को कष्ट में रखकर दूसरों की मदत वीरपुरूष ही करते हैं

असफलताओं के बावजूद सफलता के लिए वहीं प्रयास करते हैं जिनके अंदर वीरता होती हैं.

अपने सिद्दांतों के लिए अपनी जगह पर डटे रहकर मर जाना वीरता हैं, मगर अपने सिद्धांतों के लिए लड़ने और जीतने के वास्ते निकल पड़ना और भी अधिक वीरता हैं. – राल्फ़ वाल्डो एमर्सन

Brave Quotes in Hindi
Brave Quotes in Hindi

विजय और वसुधा ये दोनों,
बड़े बाप की बेटी हैं,
कापुरुषों की नहीं, सदा ये,
बलवानों की चेटी हैं.

वीरता पर अनमोल विचार | Veerta Par Anmol Vichar

साहसिक और वीरता पूर्ण कार्य इंसान को सबसे ज्यादा आनंद देते हैं.

जब किसी समस्या के किसी व्यक्ति का साथ देने वाला कोई नहीं होता हैं तो उसके अंदर की छुपी वीरता ही उस समस्या का हल ढूढ़ती हैं.

मुसीबतें और कठिनाईयाँ वीरों को डरा नहीं सकती हैं. ये तो इन्हें और वीर बनाती हैं.

वीरता किसी व्यक्ति के आंतरिक शक्ति को प्रदर्शित करता हैं.

वीर पुरूष मुक्तात्मा होते हैं, जब तक जीते हैं निर्द्वन्द्व जीते हैं, मरते हैं तो निर्द्वन्द्व मरते हैं. – प्रेमचंद

Veerta Par Anmol Vachan
Veerta Par Anmol Vachan

मेरी कलम नहीं बोलती है प्रेम की भाषा,
ये तो सिर्फ लिखती हैं वीरता की परिभाषा.

इसे भी पढ़े –