सजा शायरी | Saza Shayari Status Quotes in Hindi

Saza Shayari

Saza Shayari Status Quotes in Hindi for Whatsapp and Facebook – ये जिंदगी ही एक सजा है, पर मुस्कुरा के जियों क्योंकि इसी में मजा है. हर इंसान को कोई न कोई दुःख है. जीवन दुःख और सुख से मिलकर ही बना है. एक के बिना दुसरे का कोई अस्तित्व नहीं है.

व्यक्ति के जीवन में कई ऐसे पहलू होते है जो इंसान को समझ में नहीं आता है. जब कोई किसी से सच्चे दिल से मोहब्बत करता है. तो फिर उसे क्यों दर्द, तनहाई, खामोशी, बेबसी, आँसू मिलते हैं. शायद जिस मोहब्बत को दुनिया अधूरी समझती है वहीं पूरी होती हो.

कुछ लोगों को मानना है कि जिसे सच्चा इश्क मिल जाता है. उसे खुदा मिल जाता है. तो मेरे हिसाब से खुदा को पाने के लिए दर्द के सागर से होकर गुजरना तो पड़ेगा ही।

Saza Shayari

तू साथ है तो फिर कोई गम नहीं,
पर तेरा रूठना भी किसी सजा से कम नहीं।


इश्क़ के खुदा से पूछो उसकी रजा क्या है,
इश्क़ अगर गुनाह है तो इसकी सजा क्या है.


ऐसे भी मोहब्बत की सजा देती है दुनिया,
मर जाएँ तो जीने की दुआ देती है दुनिया।


सजा भी अब अदा बन गई है,
लगता है उनसे मोहब्बत हो गई है.


ऐ खुदा मोहब्बत को इतनी अता दे,
जिसका दिल सच्चा हो उसे सजा न दे.


सजा शायरी

क्यों ना मिलती हमे मोहब्बत में आखिर,
हमने भी बहुत दिल तोड़े थे उस सख्स की खातिर।


सजा जो भी दोगी वो मंजूर होगी,
पर तेरी बेरुखी ना मंजूर होगी।


कुरेद कर जख्म को खुद को सजा देता हूँ,
जब दर्द कुछ कम रहता है दर्द को जगा देता हूँ.


इश्क में बड़े अदब से सजा दिया जाता है,
पहले बड़े प्यार से मिलने बुलाया जाता है,
फिर बहाना बना कर भुलाया जाता हैं,
फिर अपनी मजबूरियों को दिखाया जाता है.


इश्क में कभी कोई ऐसी खता न हो,
मिले तो बिछड़ने की सजा न हो.


Saza Shayari in Hindi

Saza Shayari | Saza Status | Saza Shayari in Hindi | Saza Quotes in hindi | सजा शायरी

प्यार करते हो तुम या सजा देते हो,
जब हँसने का वक़्त होता है रुला देते हो.


सजा-ए-इश्क़ में दर्द, यादें
और तन्हाई मिली थी,
अकेले में बैठकर अक्सर सोचता हूँ
कि मैंने क्यों मोहब्बत की थी.


जिस जान की खातिर जान क़ुर्बान की,
उस बेवफा ने क्या खूब सजा दी,
हम उस के शुक्र गुजार है कि उस ने
कुछ पल के लिए हमें दिल में पनाह दी.


Saza Status

कुछ लोगो की मोहब्बत सजा सी होती है,
ज़ख़्म देकर मरहम लगाना उनकी अदा सी होती हैं.


मैं अपनी जिंदगी को तबाह कर आई,
इश्क़ की और उम्र भर की सजा पाई.


मोहब्बत की अदालत में इन्साफ कहाँ होता है,
सजा उसी को मिलती है जो बेगुनाह होता है.


जुदाई में दर्द सहने की सजा सीख ली,
तेरी मोहब्बत में हमने वफ़ा सीख ली.


खता हुई हो कोई तो सजा दिजिये,
और बस अपने इश्क़ से रिहा कीजिये।


Saza Quotes in Hindi

मुझसे खफा होना,
पर दूर मत होना,
मुझे सजा देना
पर छोड़ने को मजबूर मत होना।


इश्क़ कोई गुनाह नहीं होता,
फिर क्यों ये दिल है रोता,
ये कैसी मोहब्बत करने की सजा पाई है,
मेरे अंदर ये कैसी बेबसी और तन्हाई है.


इश्क़ वो खता है,
जो अपने आप हो जाती है,
गलती दिल करता है,
और सजा आँखों को दी जाती है.


मोहब्बत नशा है… ये कैसी सजा है,
दिल के तड़पने का भी अपना मजा है.


तुझे चाहना जैसे एक सजा है,
पर दुआ है कि मुझे इसमें उम्र कैद मिले।


Saza Status in Hindi

Saza Shayari | Saza Status | Saza Shayari in Hindi | Saza Quotes in hindi | सजा शायरी

सब गुनाहो की सजा तुझको मेरा रब देगा,
तू भी मेरी तरह नाकाम-ए-मोहब्बत होगा।


जिंदगी तू ही बता तेरी रजा क्या है,
तू हर वक्त देती है सजा, तेरी वजह क्या है.


बिना कसूर के सजा क्यों देते हो,
मोहब्बत नहीं है तो बता क्यों नहीं देते हो.


वो जिंदगी मेरे लिए सजा होगी,
अगर तू मेरे साथ नहीं होगी।


मेरा गुनाह था जो मैंने उनसे प्यार किया,
सजा काट रहे है क्योंकि कभी इजहार नहीं किया।


Saza Shayari Hindi

अगर सजा दे चुके हो
तो किसी से मेरा जिक्र मत करना,
अगर मैं बेगुनाह निकला तो
तुम्हे जिदंगी भर अफ़सोस होगा।


कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है,
कोई कहता है प्यार सजा बन जाता है,
पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से
तो प्यार जीने की वजह बन जाता है.


किस बात की सजा दे रहे हो,
प्यार किया इसलिए,
या तुमसे ज्यादा प्यार किया इसलिए।


तरस जाओगे एक दिन महफ़िल-ए-वफ़ा के लिए,
किसी से प्यार ना करना खुदा के लिए,
जब लगेगी इश्क़ की अदालत,
तुम ही चुने जाओगे सजा के लिए.


खुलकर दिल से मिलो तो सजा देते है लोग,
इश्क़ की छाँव में बैठे दो परिंदों को भी उड़ा देते है लोग.


Saza Shayari 2 Line

कत्ल तुम्हारी नशीली आँखों ने किया,
सजा-ए-इश्क़ के जख़्म पर मरहम लगा रहा हूँ.


Saza Shayari | Saza Status | Saza Shayari in Hindi | Saza Quotes in hindi | सजा शायरी

लौटा जब वो बिना जुर्म की सजा काटकर,
सारे परिन्दें रिहा कर दिए उसने घर आकर.


जिसमें बसी इश्क की बेकरारी है,
उसकी जिंदगी बड़ी भारी है.


Galti Ki Saza Shayari

मेरे आँखों में आज आँसू न होती,
कुछ गलतियों की माफ़ी नहीं होती,
काश ऐसी गलतियाँ मैंने की न होती,
तो जिंदगी भर किसी के इश्क़ में
जलने की सजा न होती।


रिश्तें निभाते-निभाते
हम ख़ुद के ही गुनाहगार हो गए,
बिना खता के ही हम
सजा के हकदार हो गए.


बहुत दर्द देती है वो सजा,
इश्क़ में वफ़ा करने के बाद जो मिलती है.


लोग कहते है मोहब्बत में
क्यों सिर्फ लोग दगा देते है,
जरा नजदीक से देखों यारों
वो खुद को सजा देते है.


Pyar Karne Ki Saza Shayari

उनकी खामोशी ही मेरी सजा है,
जानबूझकर दर्द देना उनकी अदा है.


नाराज होना, लड़ना-झगड़ना,
मगर भूल कर भी कभी खामोश मत हो जाना,
क्योंकि इश्क में ख़ामोशी से बड़ी कोई सजा नहीं।


जिंदगी से बड़ी सजा ही नहीं,
और क्या जुर्म है पता ही नहीं।


इश्क़ करने की सजा काट रहा हूँ,
मुझसे दूर रहना क्योंकि मैं दर्द बाँट रहा हूँ.


Saza Shayari in Urdu

दिल पर लगी तेरी तस्वीर हटा दी है,
दर्द तो बहुत हुआ पर मैंने खुद को ये सजा दी है.


मैंने भी दुखाया है बहुत दिल कभी,
इसलिए मुझे इश्क़ में सजा मिली है अभी.


इश्क में खता हो तो बेसक उसे सजा दो,
पर दिल पर पत्थर रखकर उसे बुला मत दो.


इसे भी पढ़े –