किसी की याद क्यों आती है? | Why do you miss someone?

Kisi Ki Yaad Kyon Aati Hai? – प्यार की वजह से किसी को याद आती है। अक्सर प्यार में जब किसी की याद आती है तो दिन-रात उसी का ख्याल रहता है। उससे थोड़ी सी बात हो जाएं तो हृदय प्रसन्न हो जाता है। यह एक सकारात्मक विचार का सूचक है। प्रेम में याद और एहसास सबसे अनमोल खजाने होते है।

आजकल स्वार्थ की वजह से भी लोग याद करते है। अगर किसी को आपसे कोई काम है तो वह आपको जरूर याद करेगा। अगर आपसे कोई कर्ज ले लें तो आप उसे दिन-रात याद करेंगे। जीवन में कई परिस्थितियां ऐसी होती है जिसमें लोग अक्सर याद आते है।

किसी की याद क्यों आती है?

जीवन के कुछ पहलुओं को देखते है, जिनमें लोग अक्सर इन्हें याद करते है। प्रेम में किसी को याद करना सुखद और सकारात्मक आनन्द देता है।

प्यार हो तो महबूब और अपने याद आता है

अगर किसी प्रेम हो जाएं तो प्रेमी को प्रेमिका और प्रेमिका को प्रेमी याद आता है। अगर उनके बीच में दूरी है। जब रिश्तों में प्रेम होता है तो अपने घर के सदस्य और रिश्तेदार भी याद आते है।

- Advertisement -

इकतरफा प्रेम में सबसे ज्यादा याद आती है। यह याद रातों में चैन से सोने नही देती है और दिन में बेचैन कर देती है। उसका एक झलक पाने के लिए तरसते रहते है। उसके हाव-भाव को हम इशारा समझने लगते है। उसकी हर अदा बड़ी प्यारी लगती है।

मृत्यु करीब हो तो भगवान याद आते है

जब इंसान ज्यादा बीमार होता है और उसे मृत्यु का भय सताने लगता है, तब उसे ईश्वर याद आते है। जो लोग ईश्वर के अस्तित्व को नही मानते है वो भी ईश्वर भक्ति शुरू कर देते है। मृत्यु का डर इंसान से वह करवा देता है जिसकी कोई उम्मीद नहीं करता है।

अकेलापन हो तो दोस्त याद आते है

जिंदगी में अगर अकेलापन हो तो दोस्त बड़े ही याद आते है। क्योंकि इंसान सबसे ज्यादा खुश दोस्तो के साथ ही रहता है। दोस्तों के बारे में सोचने मात्र से ही बड़ी खुशी मिलती है। सोचते वक़्त कुछ क्षण के लिए अकेलापन भी दूरो जाता है।

दुःख हो तो माँ-बाप याद आते है

दुःख में अक्सर माँ-बाप याद आते है। तबियत खराब हो जाने पर या बीमार पड़ जाने पर माँ-बाप सारी रात जागकर देखभाल करते है। एक आवाज लगाने पर वो तुरंत पास पहुंच जाते है। छोटी से छोटी जरूरतों का ख्याल रखते है।

विदेश में घर की याद आता है

जब घर से दूर रहते है या विदेश में रहते है तो हमें हमारी जन्म भूमि (घर) बड़ा ही याद आता है। क्योंकि जहां हमारा घर होता है और जहां हमारा जन्म होता है वहां की मिट्टी से बड़ा ही लगाव हो जाता है। अपने घर की तरह स्वतंत्रता विदेश या किराये के घर में महसूस नहीं करते है।

मायका में ज्यादा दिन रह जाए तो बीबी याद आती है

वैसे बीबी मायका चली जाएँ तो पति बड़े ही खुश हो जाते है। मगर यह खुशी कुछ ही दिन की होती है। अगर बीबी मायका में ज्यादा दिन राह जाएं तो बीबी की बहुत याद आती है। क्योंकि पति-पत्नी के साथ रहने से एक जुड़ाव हो जाता है।

बुढापे में बच्चे याद आते है

जब इंसान की वृद्धा अवस्था आती है तो वे कमजोर ही जाते है। कमजोर होने से बार-बार बीमार भी पड़ते है। ऐसे में अगर पास बेटा या बेटी ना हो तो वे बहुत याद आते है। अगर पास है तो याद करने की जरूरत नहीं पड़ती है।

प्रेम के कारण कोई स्वाभाविक रूप से याद आता है। लेकिन जीवन में कई ऐसी परिस्थितियां बन जाती है जिसमें विभिन्न लोग याद आते है। यह जीवन का एक क्रम है। इससे हमारे जीवन का सौंदर्य बढ़ जाता है। इस दुनिया में बहुत से ऐसे लोग भी रहते है जिनके जीवन में कोई यादे ही नहीं होती है। सिर्फ पैसा और खालीपन होता है। अगर जीवन में किसी से प्रेम है तो उसकी यादों को सजों कर रखिये। यही जीवन की अनमोल पूंजी है।

इसे भी पढ़े –

Latest Articles