Sunday Shayari | इतवार शायरी

Sunday Shayari

Sunday Shayari in Hindi ( Itwar Shayari ) – इस पोस्ट में इतवार पर बेहतरीन शायरी दी गयी हैं. इन शायरी को जरूर पढ़े और दोस्तों के साथ शेयर करें.

बेस्ट सन्डे शायरी | Sunday Shayari in Hindi

छुट्टी तो आती है, पर कोई आराम नहीं आता,
क्यों औरत के हिस्से में उसका इतवार नहीं आता.


बाकी छः दिन दुनिया है,
तुम मेरा इतवार,
इन्तजार इतना किया है,
कि मुक्कमल हो सके तेरा दीदार.


तुम्हारा होना इतवार के दिन जैसा है,
कुछ सूझता नहीं बस अच्छा लगता हैं.


मेरे दिल के समंदर में अजीब सैलाब था,
जिस दिन इश्क़ का इजहार करने गए वो दिन इतवार था.


जिसको दिन-रात देखते थे हम,
उसने एक बार भी नहीं देखा,
इश्क़ इतने जतन से करते रहे
हमने इतवार भी नहीं देखा.
Sunday Shayari


वो तुम्हें देखकर कमी निकालते है तो निकालते रहे
मेरी हर नजर को तुमपे प्यार आता है
दुनिया देखती है अगर तुम्हारे दाग तो देखती रहे
मुझे बस एक खूबसूरत चाँद नजर आता हैं.


आपको चेहरे से भी बीमार होना चाहिए,
इश्क़ है तो इश्क़ का इजहार होना चाहिए,
अपनी यादों से खो एक दिन की छुट्टी दें मुझे,
इश्क़ के हिस्से में भी इतवार होना चाहिए.
Munawwar Rana


इतवार तो तुझसे प्यार करने का बहाना है,
तेरे साथ उम्र गुजारने का इरादा हैं.


तुम साथ हो तो हर दिन इतवार है,
वरना हर दिन बेकार है.


तुम इतवार सी सुकून हो,
मिलती हो मुश्किल से बहुत.


अब तो इतवार में भी कुछ यूँ हो गयी मिलावट,
छुट्टी तो दिखती है पर सुकून नजर नहीं आता.


वो आई मिली और हम प्यार समझ बैठे,
वो एक दिन नहीं आई और हम इतवार समझ बैठे.
Itwar Shayari


दिल-ए-बर्बाद को आबाद किया है मैंने,
आज मुद्दत में तुम्हें याद किया है मैंने.
जॉन एलिया


वो मेरे स्कूल के आखिरी इतवार सी थी,
आई भी एक रोज, फिर कभी ना आने को.
Sunday Shayari in Hindi


इसे भी पढ़े –