Save Water Poem in Hindi | जल संरक्षण पर कविता

Save Water Poem in Hindi

Save Water Poem in Hindi ( Jal Par Kavita Hindi Mein ) – इस पोस्ट में बेहतरीन “जल संरक्षण पर कविता ( Poem on Save Water )” दी गई हैं. इस कविता को जरूर पढ़े और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें. जल के महत्ता को अब लगभग हर कोई समझने लगा हैं पर हम आज भी जल का दुरूपयोग करते हैं, जिसकी वजह स्वच्छ जल हर जगह उपलब्ध नहीं हैं.

Best Save Water Poem | जल संरक्षण पर बेहतरीन कविता

यदि आप अपने आने वाले कल को बचाना चाहते हैं तो आपको जल बचाना ही होगा. जल से ही जीवन हैं और जीवन बढ़कर कुछ भी नहीं.

Poem on water in hindi for children | जल पर बच्चों के लिए हिंदी में कविता

मुँह धोऊँगा पानी से
मुन्ना बोला नानी से
प्यासे पानी पीते हैं
पानी से हम जीते हैं
जाने कब से पानी है
कितनी बड़ी कहानी है
कहीं ओस है, बर्फ कहीं
पानी ही क्या भाप नहीं
सब रूपों में पानी है
कहती ऐसा नानी है
नदियाँ बहतीं कल-कल-कल
झरने गाते झल-छल-छल
तालों में लहराता जल
कुओं में आता निर्मल
धरती पर जीवन लाया
खेत सींचकर लहराया
करता है यह कितने काम
कभी नहीं करता आराम
पर जब बाढ़ें लाता है
भारी आफत ढाता है।

रचनाकार – श्रीप्रसाद


Poem on Jal in Hindi | जल पर कविता

पानी जीवों के लिए कितनी ख़ास होती हैं,
प्यास लगने पर पानी की तलाश होती हैं,
धरती-अम्बर को जोड़ने का एक प्रयास होती हैं.
पानी ईश्वर है जिससे जीवन की आस होती हैं.

नल-टोटी से बूँदों में गिरे तो क्यों नही खास होता है,
जब कोई पानी बर्बाद करे तो क्यों नहीं एहसास होता है,
सबका पानी बचाने के लिए क्यों नहीं प्रयास होता हैं,
पानी ही जीवन है ऐसा बोलने पर क्यों नहीं सबको विश्वास होता हैं.

प्यास को जो मिटायें वो पानी हैं,
जो तन-मन के मैल को हटायें वो पानी हैं,
पानी है तो जीवन में रवानी हैं
इसके बिना जीवन की नही कोई कहानी हैं.