लड़कों पर बेहतरीन कविता | Poem on Boy in Hindi

Motivational Poem in Hindi for Boy

Poem on Boy in Hindi ( Ladke Bhi Rote Hai Jab Ghar Se Door Hote hai ) – लड़के जबतक अपने घर यानि कि माता-पिता की छत्र-छाया में रहते है तबतक उन्हें किसी दुःख का आभास नहीं होता है परन्तु जब वो घर से बाहर निकलते है तो अक्सर उन्हें अपना घर और माँ-बाप याद आते हैं. चंद पैसों के लिए अपनी इच्छाओं को मारते रहते है. लड़को से माता-पिता और इस समाज की कुछ ज्यादा ही अपेक्षायें होती है जिसके कारण लड़के अक्सर अपने जीवन में परेशान और दुखी रहते हैं. इस पोस्ट में कुछ Motivational शायरी और लड़के पर कविता दी गयी है इसके लेखक सतेन्द्र कुमार है. आप नीचे इनका विडियो भी देख सकते हैं.

मैंने चाहतों की सब मुरीदें छोड़ दी,
खुश रहने लगा हूँ जबसे उम्मीदें छोड़ दी.

लड़कों पर कविता | Boy Poem in Hindi

घर में बच्चे लेकिन बाहर मशहूर होते है,
अजी लड़के भी रोते है जब घर से दूर होते हैं.

लड़के भी घर से बाहर मम्मी पापा के बैगर होते है,
यदि लड़की घर की लक्ष्मी तो लड़के भी कुबेर होते है,
बस यादें ही जा पाती है अपने गाँव जमीनों तक,
लड़के भी कहाँ जा पाते है घर कई साल महीनों तक.

अपनों के सपनों के खातिर ये भी मजबूर होते है,
लड़के भी रोते है जब घर से दूर होते है.

खड़े हमेशा सोचते है घर के बारे में
पर खड़े कहीं और होते है,
सिर्फ लड़कियाँ ही नहीं
लड़के भी दिल से बड़े कमजोर होते है.

विश्व जीतने का एक सिकन्दर इनमें भी होता है,
बस रोते नहीं पर एक समन्दर इनमें भी होता है,
यदि लड़की पापा की परी तो लड़के भी कोहिनूर होते है,
अजी लड़के भी रोते है जब घर से दूर होते हैं.

माना लड़कियों को घर छोड़ जाने का एक डर होता है,
लेकिन इनका एक घर के बाद दूसरा घर होता है,
माना कि लड़कों को कोई डर नहीं होता है
ये तो नौकरी तो करते है कई शहरों में पर इनका कोई घर नहीं होता हैं.

चंद पैसों के खातिर इनके भी सपने चूर होते है,
अजी लड़के भी रोते है जब घर से दूर होते हैं.

Boy Poem Video in Hindi

Motivational Shayari Only For Boys in Hindi | लड़कों के लिए मोटिवेशनल शायरी

ये दुनिया भी बदलेगी हर शख्स भी बदलेगा,
लोगो के जुबाँ का ये लफ़्ज भी बदलेगा,
मायूस मत हो ऐ परिंदे घड़ियों के परिवर्तन में
ये ऋतु भी बदलेगी और ये वक्त भी बदलेगा.