परवरिश पर सुविचार | Parenting Quotes in Hindi

Parenting Quotes Thoughts Sayings Image Photo in Hindi – इस आर्टिकल में परवरिश पर सुविचार अनमोल वचन दिए हुए है. इन्हें जरूर पढ़े.

Parenting Quotes in Hindi

औरत की इज़्ज़त करो,
इसलिये नहीं कि वह एक औरत है,
बल्कि यह साबित करने के लिए की,
आपकी परवरिश एक अच्छी माँ ने की है.


व्यक्ति की प्रवृत्ति, व्यवहार, तमीज,
और सोच बता देती है कि उसकी परवरिश हुई है
या वह सिर्फ पाले गए हैं.


आपके बच्चों के संस्कार आपकी परवरिश
और आपके घर की संस्कृति के परिचायक हैं।


- Advertisement -

वक्त करता है बरसों परवरिश
हादसा यूँ एकदम नहीं होता।


आपके संस्कार बताते है कि
आपकी परवरिश कैसी हुई है
ऐसे ही आपकी परवरिश बताती है
कि आपका परिवार कैसा है।


परवरिश पर सुविचार

मुझे नाज है अपनी परवरिश पर क्योंकि
मैं गुस्से में भी बात करने की तमीज नहीं भूलता।


परवरिश और संस्कार बहुत मायने रखते हैं,
सिर्फ़ पढ़ लिखकर कोई इंसान नहीं बनता।


जिंदगी में तपिश भी बहुत जरुरी हैं,
क्योंकि अक्सर वे पौधे मुरझा जाते हैं,
जिनकी परवरिश छाया में होती है.


मुझे रुलाने की कोशिश भी मतकरना,
मेरी परवरिश ही दर्द ने की है.


जब आपके विचार आपकी पहचान बन जाये
तो समझ जाना कि आपके मां-बाप ने आपकी
अच्छी परवरिश की है।


Quotes on Parenting in Hindi

संतान की परवरीश किसी
साधना से कम नहीं, और
माता पिता की सेवा किसी
आराधना से कम नहीं।


समाज का नजरिया इतना खराब हैं कि
लड़का रास्ते में लड़की छेड़ देता हैं तब भी
गलती माँ की परवरिश की होती हैं.


हर माता-पिता अपने बच्चों की
परवरिश अच्छी करते है. हर बार
बच्चों की गलतियों के लिए
माँ-बाप जिम्मेदार नहीं होते है.


बच्चों की प्रथम पाठशाल घर ही होती है,
माँ बच्चों की पहली शिक्षिका होती है और
दादी-नानी प्रधानाध्यापिका होती है,
बच्चे यही से संस्कार सीखना शुरू करते है,
यही परवरिश बच्चे के व्यक्तित्व में उम्र के
साथ बढ़ती जाती है.


बच्चों की परवरिश ऐसी होनी चाहिए,
जहाँ शिक्षा का माहौल हो और नैतिकता
सबके व्यवहार में हो. ताकि हर बच्चा बड़ा
होकर निडरता के साथ जिंदगी जिए.


परवरिश पर अनमोल वचन

अपनी सफलता का रौब
माँ-बाप को मत दिखाओ,
क्योंकि उन्होंने अपने सपनों को
गिरवी रखकर तुम्हारी परवरिश
बड़े सिद्द्त से की है.


व्यक्ति के शब्दों का चयन यह दर्शाता है,
कि उसकी परवरिश कैसी हुई है… !!!


परवरिश जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है,
क्योंकि आपका किरदार उसी से बनता है…!!!


मैं चाहकर भी किसी
और का बुरा कैसे चाहूँ,
मेरे किरदार में मेरी माँ
की परवरिश दिखती है.


इसे भी पढ़े –

Latest Articles