महाराजा महल मैसूर का इतिहास | Mysore Palace History in Hindi

Mysore Palace

Mysore Palace History in Hindi – महाराजा पैलेस मैसूर या मैसूर पैलस भारत के कर्नाटक राज्य के मैसूर शहर में स्थित हैं यह पर्यटक आकर्षण का सबसे बड़ा केंद्र हैं. बैंगलोर से 140 किमी. की दूरी पर मैसूर अपने भव्य महलों, सुंदर उद्यानों और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के कारण पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता हैं.

किसने बनवाया मैसूर का महाराजा महल | Who built the Maharaja Mahal of Mysore

मैसूर पैलेस का निर्माण महाराजा कृष्णराजेंद्र वाडियार चतुर्थ द्वारा किया गया था. इस पैलेस को बाद में बनवाया गया था, इससे पहले का राजमहल चन्दन की लकड़ियों से बना था. एक दुर्घटना में इस राजमहल को बहुत क्षति हुई जिसके बाद यह दूसरा महल बनवाया गया. पुराने महल को बाद में ठीक किया गया जहाँ अब संग्राहलय है.

मैसूर महल के बारें में रोचक तथ्य | Interesting Points about Mysore Palace in Hindi

  • महाराजा पैलेस मैसूर ( Maharaja Palace Mysore ) भारत के सबसे बड़े महलों में से एक है जिसे प्रतिवर्ष लाखों पर्यटक देखने आते हैं.
  • महाराजा महल मैसूर ( Maharaja Mahal Mysore ) की देखरेख अब पुरातत्त्व विभाग करता है.
  • इस महल की ख़ासियत है इस महल की कल्याण मंडप की काँच से बनी छत, दीवारों पर लगी तस्वीरें और स्वर्णिम सिंहासन.
  • जब लकड़ी का महल जल गया था, तब इस महल का निर्माण कराया गया.
  • 1912 में बने इस महल का नक्शा ब्रिटिश के हेनरी इर्विन ने बनाया था.
  • बहुमूल्य रत्नों से सजे इस सिंहासन को दशहरे के दौरान जनता के देखने के लिए रखा जाता है.
  • मैसूर पैलेस भारत में ताजमहल के बाद सबसे प्रसिद्ध पर्यटक आकर्षणों में से एक हैं.
  • मैसूर पैलेस ( Mysore Palace ) – मूल रूप से ये महल एक गढ़ था. इसके आसपास के सभी क्षेत्रो में खाइयों के साथ एक दृढ़ क्षेत्र बना हुआ था.