opções binárias no news untuk binary option que es mejor forex o opciones binarias zulutrade opciones binarias các kênh đầu tư hiện nay is octafx legit

मृणालिनी साराभाई की जीवनी | Mrinalini Sarabhai Biography in Hindi

Mrinalini Sarabhai Biography in Hindi – मृणालिनी साराभाई भारत की प्रसिद्ध शास्त्रीय नृत्यांगना थी, उन्हें ‘अम्मा’ के नाम से भी जाना जाता हैं. शास्त्रीय नृत्य में उनके योगदान और उपलब्धियों के देखकर भारत सरकार ने ‘पद्मभूषण’, ‘पद्मश्री’ और अन्य कई सम्मानों से सम्मानित किया गया हैं.

नाम – मृणालिनी साराभाई ( Mrinalini Sarabhai )
पूरा नाम – मृणालिनी विक्रम साराभाई ( Mrinalini Vikram Sarabhai ) विवाह के बाद
जन्म – 11 मई, 1918
जन्म स्थान – केरल
माता – अम्मू
पिता – डॉ. स्वामीनाथन
व्यवसाय – शास्त्रीय नृत्य
राष्ट्रीयता – भारतीय
प्रसिद्धि का कारण – शास्त्रीय नृत्य
पति – विक्रम साराभाई
बच्चे – मल्लिका साराभाई (लड़की), कार्तिकेय साराभाई (पुत्र)
पुरस्कार एवं सम्मान – पद्मभूषण, पद्मश्री, कालिदास सम्मान
मृत्यु – 21 जनवरी, 2016
मृत्यु स्थान – अहमदाबाद, गुजरात

प्रारम्भिक जीवन और शिक्षा | Early Life and Education

मृणालिनी साराभाई के पिता डॉ. एस. स्वामीनाथन मद्रास हाईकोर्ट में वकील थे, इनकी माँ अम्मू स्वामीनाथन एक सामाजिक कार्यकर्ता एवं स्वतंत्रता सेनानी थी. मृणालिनी का बचपन स्विट्ज़रलैंड में बीता और इन्होने वहाँ ‘डेलक्रूज स्कूल’ से पश्चिमी सभ्यता से सम्बन्धित नृत्य सीखी. इन्होने रबींद्रनाथ टैगोर की देख-रेख में शांति निकेतन में शिक्षा ग्रहण की और यहीं से नृत्य इनकी जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया.

मृणालिनी साराभाई से सम्बंधित अन्य तथ्य | Other Important Facts about Mrinalini Sarabhai

  1. जिस दौर में कलाकार नृत्य की एक या दो शैली बड़ी मुश्किल से सीख पाते थे तब मृणालिनी साराभाई ने नृत्य के कई अलग-अलग शैलियों की बारीकियाँ सीखीं.
  2. मीनाक्षी सुदंरम पिल्लै और मुथुकुमार पिल्लै से भरतनाट्यम सीखा. उनके हर एक गुरू का अपनी अपनी कला में जबरदस्त योगदान था.
  3. विश्वविख्यात सितार वादक “पंडित रविशंकर” के भाई पंडित उदय शंकर के साथ भी काम किया.
  4. मृणालिनी साराभाई कुछ दिनों के लिए अमेरिका भी गईं और वहां जाकर “ड्रामाटिक आर्ट्स” की बारीकियां सीखीं.
  5. मृणालिनी साराभाई को देश के प्रसिद्ध नागरिक सम्मान ‘पद्मभूषण’ और ‘पद्मश्री’ से सम्मानित किया गया. ‘यूनिवर्सिटी ऑफ़ ईस्ट एंगलिया’, नॉविच यूके ने भी उन्हें डॉक्टरेट की उपाधि दी थी.

इसे भी पढ़े –

Latest Articles