खुद्दारी शायरी स्टेटस | Khuddari Shayari Status in Hindi

Khuddari Shayari

Khuddari Shayari Status Quotes Image in Hindi – इस आर्टिकल में खुद्दारी शायरी स्टेटस दिए हुए हैं. इन्हें जरूर पढ़े. खुद्दारी का मतलब आत्मसम्मान होता है. हर इंसान की अपनी नजर में इज्जत होती है और वही इज्जत वह दूसरों की नजरों में देखना चाहता है.

जो लोग ईमानदारी से अपना जीवन जीते है वो खुद्दार ही होते है. लालच और स्वार्थ में आकर अपने आत्मसम्मान का सौदा नहीं करते है. परन्तु अब जमाना बदल रहा है लोग पैसे के लिए खुद्दारी और आत्मसम्मान को भी दांव पर लगाने में नहीं हिचकिचाते है. ‘खुद्दारी‘ पर बेहतरीन शायरी पढ़े.

Khuddari Shayari

किसी को कैसे बताएँ ज़रूरतें अपनी
मदद मिले न मिले आबरू तो जाती है
वसीम बरेलवी


मुझे दुश्मन से भी खुद्दारी की उम्मीद रहती है,
किसी का भी हो सर कदमों में सर अच्छा नहीं लगता.
जावेद अख्तर


खुद्दारी गिरवी रखता हूँ,
जमीर दूसरों को थमा देता हूँ,
और ये दुनिया कहती है
मैं पैसा अच्छा कमा लेता हूँ.


Two Line Khuddari Shayari

Khuddari Shayari | Khuddari Status | Khuddari Shayari in Hindi | खुद्दारी शायरी | Khuddari Shayari in Urdu

जब समझ में आ जाएँ अपनी की मक्कारी,
तो खुद के अंदर जिन्दा कर लेना खुद्दारी.


किसी रईस की महफ़िल का ज़िक्र ही क्या है
ख़ुदा के घर भी न जाएँगे बिन बुलाए हुए
अमीर मीनाई


खुद्दरियों में हद से गुजर जाना चाहिए,
इज्जत से न जी पाये तो मर जाना चाहिए.


दुनिया मेरी बला जाने महँगी है या सस्ती है
मौत मिले तो मुफ़्त न लूँ हस्ती की क्या हस्ती है
फ़ानी बदायुनी


खुद्दारी शायरी

जमाने को हमसे शिकायत बहुत है,
कि हमे जी हुजूरी आती नहीं है,
कोशिश बड़ी की झुकाने की सिर को,
पर करे क्या, ये खुद्दारी जाती नहीं है.


पाँव कमर तक धँस जाते हैं धरती में
हाथ पसारे जब ख़ुद्दारी रहती है
राहत इंदौरी


Khuddari Shayari in Urdu

मेरी ख़ुद्दारी सदा करती है मेरी रहबरी
मैं कभी पत्थर से अपने सर को टकराता नहीं
इबरत बहराईची


बादशाहों से भी फेंके हुए सिक्के न लिए
हम ने ख़ैरात भी माँगी है तो ख़ुद्दारी से
राहत इंदौरी


मुफ़लिसी ने कर दिया है उस की ख़ुद्दारी का ख़ून
वो पहनता है किसी की मेहरबानी का लिबास
रम्ज़ अज़ीमाबादी


Khuddari Shayari 2 Line

एक चिराग अन्धकार पर भारी है,
जीवन में खुद्दारी का सफर जारी है.


मैं तिरे दर का भिकारी तू मिरे दर का फ़क़ीर
आदमी इस दौर में ख़ुद्दार हो सकता नहीं
इक़बाल साजिद


अना ख़ूद्दार की रखती है उस का सर बुलंदी पर
किसी पोरस के आगे हर सिकंदर टूट जाता है
मयंक अवस्थी


Khuddari Love Shayari

ख़ुद्दारी-ए-इश्क़ ने सिखाया मुझ को
दिल दे के किसी को बे-ज़बाँ हो जाना
सूफ़ी तबस्सुम


अपनी खुद्दारी को निलाम नहीं कर सकते है,
उसका नंबर तो है पर बात नहीं कर सकते है.


हाथ खाली है तेरे शहर से जाते-जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते.


मुझे तो सच्चाई की फनकारी ले डूबी,
बड़ा खुद्दार था, मुझे खुद्दारी ले डूबी,
दवा तो वो थी कि तुझसे दूर ही रहता
मुझे तेरे इश्क की बीमारी ले डूबी.


हाँ, किरदार में मेरे अदाकारियाँ नहीं है,
खुद्दारी है, गुरूर है पर मक्कारियाँ नहीं है.


Khuddari Whatsapp Status

Khuddari Shayari | Khuddari Status | Khuddari Shayari in Hindi | खुद्दारी शायरी | Khuddari Shayari in Urdu

जो हकीकत की नजरों में खुद्दार होता है,
वही दुनिया की नजरों में गद्दार होता है.


मुझे पता है मेरी खुद्दारी तुम्हें खो देगी,
मैं भी क्या करूँ मुझे माँगने की आदत नहीं.


रूठा हुआ है मुझ से इस बात पर जमाना,
शामिल नहीं है मेरी फितरत में सिर झुकाना.


इतनी तो खुद्दारी लाजमी थी,
उसने हाथ छुड़ाया और मैंने छोड़ दिया.


Khuddari Shayari Image

इस खुद्दारी भरी दुनिया में मुस्कान ही तो है,
जो हैसियत देख कर नहीं मिलती.


आ कही मिलती हैं हम ताकि बहारे आ जाएँ,
इस से पहले कि तअल्लुक में दरारें आ जाएँ,
ये जो खुद्दारी का मैला सा अंगोछा है मेरा
मैं अगर बेच दूँ इसको तो कई कारें आ जाएँ.


अपनी ख़ुद्दारी सलामत दिल का आलम कुछ सही
जिस जगह से उठ चुके हैं उस जगह फिर जाएँ क्या
सालिक लखनवी


Khuddari Status in Hindi

कुछ रातें ऐसी थी जो ख्वाहिशों पे भारी थी,
उन्हें अपनी अदा पर नाज था हमें खुद्दारी प्यारी थी.


माना कि आज मेरे हालात कुछ खराब है,
मगर खुद्दारी मुझमें अभी भी बरकरार है.


तुम्हारे इश्क़ ने न जाने हमें क्या-क्या सिखा दिया,
आशिक़ बनने निकले थे, खुद्दार बना दिया.


खुद्दारी स्टेटस

आज जी भर के आईना देख लेने दे ऐ दोस्त,
मुद्दतों बाद किसी की आँखों में खुद्दारी देखी है.


किसी की खुद्दारी तो किसी का ईमान छीन लेता है,
पैसा ऐसा चीज है साहब चेहरे से मुस्कान छीन लेता है.


खुद्दारी सहेज कर रखना,
दौलत तो आती जाती रहेगी.


Khuddari Shayari in Hindi

खुद्दारी में हमने तो खुदा को भुला दिया,
फिर तुम्हारी क्या औकात है…


मेरी खुद्दारी इजाजत नहीं देती,
कैसे कहूँ कि मुझे तेरी जरूरत है.


इसे भी पढ़े –