कर्तव्य पर अनमोल विचार | Duty Quotes in Hindi

Duty Quotes Shayari Status Thoughts Sayings Suvichar Image Photo in Hindi – इस आर्टिकल में कर्तव्य पर सुविचार अनमोल वचन दिए हुए है.

Duty Quotes in Hindi

क्या हार में, क्या जीत में
किंचित नहीं भयभीत मैं
कर्तव्य पथ पर जो भी मिला
यह भी सही वो भी सही
वरदान नहीं मांगूंगा
हो कुछ पर हार नहीं मानूंगा
अटल बिहारी बाजपेयी


कोई अन्य मार्ग ना होने पर
बाध्य होकर जो स्वीकार किया जाता है,
वह कर्तव्य नहीं कहा जा सकता।
महादेवी वर्मा


पुरुष प्रेम में यौवन ढूँढता है!
स्त्री प्रेम में बचपन
पुरुष प्रेम में स्वच्छंदता चाहता है!
स्त्री प्रेम में बंधन
पुरुष प्रेम को अधिकार मानता है!
स्त्री प्रेम को कर्तव्य
पुरुष प्रेम को ओढ़ता है!
स्त्री प्रेम को जीती है
पुरुष प्रेम को नमक कहता है!
स्त्री प्रेम को शक्कर!
ओशो


- Advertisement -

कर्तव्य ही धर्म है
और प्रेम ही ईश्वर है,
सेवा ही पूजा है और
सत्य ही भक्ति है.


शिक्षक होना एक सुखद एहसास है,
शायद ही और कोई पेशा हो जो भविष्य
के बेहतर समाज का निर्माण,
अपना कर्तव्य समझ कर कर रहा हो.


Duty Shayari in Hindi

इंसानियत को ना माने
जीवन उसका व्यर्थ है सारा,
दूसरों के दुःख-दर्द को समझना
यही कर्तव्य है हमारा।


चाहे गर्मी की धार हो,
चाहे बरसात की बौछार,
जब आ डटे है कर्तव्यपथ पर
हम नहीं मानते हार.


शिक्षा ही वो माध्यम है जो,
कर्तव्य मार्ग को बतलाती है,
अच्छा कौन बुरा है कौन,
इन सब का बोध कराती है.


छल करोगे तो छल मिलेगा,
आज नही तो कल मिलेगा,
अगर जीयोगे जिन्दगी सच्चाई से,
तभी सुकून हर एक पल मिलेगा.


Duty Status in Hindi

निर्बल के केवल कर्तव्य होते हैं अधिकार नहीं
यदि अधिकार चाहते हो तो शक्तिशाली बनो.


जब अन्याय कानून बन जाए,
तब विरोध कर्तव्य बन जाना चाहिए.


कर्तव्य पर सुविचार

जीवन क्या,
एक दीर्घ तपस्या थी,
जिसका मुख्य उद्देश्य
कर्तव्य का पालन था?
प्रेम चन्द


हर अवसर और हर परिस्थिति में,
जो भी अपना कर्तव्य दिखाई दे,
उसे ही अपना धर्म समझकर पूरा
करना चाहिए।


कर्तव्य, वफ़ा, ईमान हूँ मैं,
निःस्वार्थ प्रेम, विश्वास भी हूँ
मैं वसुधैव कुटुम्बकम हूँ।
मैं तो हिंदुस्तान हूँ.


मनुष्य का कर्तव्य है
कि वह कर्म और प्रयास
भरपूर करें, क्योंकि सफलता
वातावरण और मौके पर
निर्भर करती है।


अन्याय के खिलाफ
आवाज उठाना हमारा धर्म है
और अपने धर्म की रक्षा
करना हमारा कर्तव्य।


Duty Thoughts in Hindi

वह शक्ति हमें दो दयानिधे,
कर्तव्य मार्ग पर डट जावें।
पर सेवा पर उपकार में हम,
जग जीवन सफल बना जावें।
मुरारीलाल शर्मा ‘बालबंधु’


जब कठिन कर्म पगडंडी पर
राही का मन उन्मुख होगा
जब सब सपने मिट जाएँगे
कर्तव्य मार्ग सन्मुख होगा
तब अपनी प्रथम विफलता में
पथ भूल न जाना पथिक कहीं!
शिवमंगल सिंह सुमन


किसी भी देश की तरक्की के लिए
अनुशासित जीवन और कर्तव्य के
प्रति समर्पण मूलभूत मार्ग है.


सौभाग्य उसी को
प्राप्त होता हैं,
जो अपने कर्तव्य पथ पर
अडिग और अग्रसर रहते हैं.


कर्तव्य मार्ग पर व्यक्ति को
अकेले ही चलना पड़ता है,
इसमें रिश्ते-नाते कोई साथ नही होते
और यह आवश्यक भी है.


कर्तव्य पर अनमोल विचार

जिन्दगी में दो चीजों का
गिनती करना छोड़ दो,
खुद का दुःख और दूसरो के सुख का
जिंदगी आसान हो जाएगी।


कर्तव्य का मार्ग
कभी फूलों से भरा नहीं होता,
यह कांटों से भरा रास्ता है।


जीवन की स्थिरता व प्रगति के लिए
कर्तव्य परायण होना जरूरी।


जीवन एक कर्तव्य है,
जिसका पूर्णता: निर्वहन
करना चाहिए।


इसे भी पढ़े –

Latest Articles