अनामिका जैन अम्बर शायरी | Anamika Jain Amber Shayari Status Quotes

Anamika Jain Amber Shayari Status Quotes Image in Hindi – इस आर्टिकल में अनामिका जैन अम्बर शायरी स्टेटस कोट्स इमेज आदि दिए हुए है. इन्हें जरूर पढ़े.

डॉ अनामिका अम्बर का जन्म सन 1983 में बुंदेलखंड के ललितपुर जिले के धनगौल ग्राम में हुआ. उनके पिता श्री उत्तम चंद जैन ललितपुर शहर के नामी वकील हैं. उनकी माता श्रीमती गुणमाला जैन गृहणी हैं. अनामिका की आरंभिक शिक्षा ललितपुर के कोंवेंट विद्यालय में हुई.

आज मैं ट्विटर पर अपनी वेबसाइट का प्रोफाइल देख रहा था, जहाँ अनामिका जी की मुझे एक शायरी नजर आई. उसे पढ़ा तो मुझे बहुत पसंद आई और फिर मैंने इनकी ट्विटर प्रोफाइल पर इनकी शेयर की शायरी, स्टेटस कोट्स, मोटिवेशनल लाइन्स की एक आर्टिकल बना दी. आशा करते है आपको अनामिका जी की रचनाएं बहुत ही पसंद आएँगी।

हमे पता है जब ये अम्बर ना बातों से मानेंगे,
लातों से ही लातों के अब सब ये भूत उतारेंगे,
चाहे पाकिस्तान हो अम्बर चाबे चीनी चिन चिन चूं
जो भी हम पर आँख उठाये घर में घुस कर मारेंगे।
#HappyIndependenceDay2021


Anamika Jain Amber Shayari in Hindi

Anamika Jain Amber Shayari in Hindi
Anamika Jain Amber Shayari in Hindi | अनामिका जैन अम्बर शायरी इन हिंदी
- Advertisement -

दौलत,शौहरत,इज़्ज़त पाकर के भी कितने बौने हो
उजले बेशक़ दिखते हो पर भीतर बहुत घिनौने हो
मासूमों की तक़दीरों को रचने का भ्रम है तुमको
याद रहे ऊपर वाले के तुम भी एक खिलौने हो


नन्ही कलियों पर उठे जो आँख उसको फोड़ दो
खुद ही कर लो फ़ैसला क़ानून भी सब तोड़ दो
देख कर मासूम की हालत तवायफ़ कह उठी
पैसे मत देना मुझे पर बच्चियों को छोड़ दो


जो गंगा की धार में अम्बर विष की बूँदे घोलेगी,
ऐसी हरइक कश्ती को हम पार लगाकर आएँगे
यदि दिल में तुम पाल के निकले हो तैमूरी मनसूबे
हम राणा के ‘भाले’ पर फिर धार लगा कर आएँगे


उसी के हाथ में है ध्वंस वही निर्माण देता है
वही अस्तित्व देता है वही पहचान देता है


Anamika Jain Amber Status in Hindi

Anamika Jain Amber Status in Hindi
Anamika Jain Amber Status in Hindi | अनामिका जैन अम्बर स्टेटस इन हिंदी

हर इक बात पर यूँ शिकायत न होती
अगर हमको तुमसे मुहब्बत न होती


अहसासों के गीत हैं भीतर बाहर तान सुरीली है
श्वेत श्याम आँखों से दुनियाँ दिखती रंगरंगीली है


अब हक़ीक़त चाहिए या फिर फ़साना चाहिए
सोचती हूँ मैं, मुझे किस ओर जाना चाहिए


कुछ झूठे लोगों का ये परिचय असली है
चेहरे तो नक़ली हैं पर अभिनय असली है


Anamika Jain Amber Quotes in Hindi

Anamika Jain Amber Quotes in Hindi
Anamika Jain Amber Quotes in Hindi | अनामिका जैन अम्बर कोट्स इन हिंदी

पहली बार झूठ बोलना आसान होता है
बाद में मुश्किल ही मुश्किल
पहली बार सच बोलना मुश्किल होता है
बाद में आसान ही आसान


एक ‘समय’ के बाद
‘उस समय’ की बातें
हर ‘समय’ याद आती हैं
पर वो ‘समय’ फिर
‘किसी समय’ नहीं आता।


पांच अगस्त उन्नीस को धारा तीन सौ सत्तर धरी गई
बीस में प्रभु श्री रामलला के घर की नींव थी भरी गई
इक्कीस में इकतालिस साल का ओलंपिक में भृम तोड़ा
स्वर्ण पृष्ठ में यूँ ही अंकित आज की महिमा करी गई


आप को डुबोने के लिए
ज़्यादातर ऐसे लोग होते हैं
जिनको तैरना ख़ुद
आपने ही सिखाया होगा..


जो हमारे पास है
वो बहुत क़ीमती है,
चीजों की क़ीमत पाने से पहले
और इंसान की क़ीमत खोने के
बाद होती है


अनामिका जैन अंबर स्टेटस

उसपर ज़ुल्म हो तो भी इंसान ही समझा जाए …
वो ज़ुल्म करे तो भी इंसान ही समझा जाए…


दल,दल में दलदल मची छिड़ा ये कैसा क्लेश
राहुल साइकिल पर चढ़े सकते में अखिलेश


थोड़ा सा छुप छुपकर खुद के लिए भी जी लिया करो
कोई नहीं कहेगा थक गए हो आराम करो


अनामिका जैन अंबर शायरी

प्रतिज्ञा तेरी है भीष्म जैसी
कर्म कृष्ण से त्याग रघु सा
हमारी छाती में साँस तेरी
तू ही दीर्घ बाक़ी सब लघु सा
देशभक्ति जज्बा


कुछ भी हो सकता है लेकिन हत्या धर्म का सार नही
वो भी ईश्वर की संताने हैं क्या उनका संसार नही
बेशक मूक हैं लेकिन उनकी आँखे सुनकर तो देखो
धर्म कहाँ कहता पशुओं को जीने का अधिकार नही


सब समझते हैं लोग
और न समझाइए
सेवा करिए मगर
करके मत दिखाइए


कबतक हम करते रहें आखिर यह अफसोस
जिन्हें जगाना था हमें वे खुद हैं बेहोश


Anamika Jain Amber Status

Anamika Jain Amber Status
Anamika Jain Amber Status | अनामिका जैन अम्बर स्टेटस

चाँद सितारे छू आए हम तोड़ के हर बंधन
ओस की बूँदे हैं हम लड़की मन है इक दर्पण


दिल में राज़ छुपा के रक्खे और ज़ुबां पर फिक्र दिखे
कैसे पहचाना जाए दुश्मन जो दोस्त के जैसा हो


केवल अहंकार ही ऐसी दौड़ है,
जहाँ हर जीतने वाला हार जाता है


Shayari on Friend by Anamika Jain Amber

अपनाकर अपनेपन को अपनापन अक्सर देते हैं
खुद को मरहम कर देते हैं ज़ख़्म सभी भर देते हैं
हिम्मत के धागे टूटें तो उसके पास चले जाना
दोस्त हौसलों के दर्ज़ी हैं मुफ़्त रफू कर देते हैं


उसको ठीक से आइना दिखा आए
हम अपने हिस्से की दोस्ती निभा आए


बड़ी मुश्किल से अच्छे दोस्त मिलते हैं ज़माने में
तुम अपने दोस्तों को वक़्त पे इनकार मत करना


अनामिका जैन अंबर की देशभक्ति शायरी

कुछ पंछी पलते हैं केवल राजनीति के दाने पर
यानी जबभी मौका पाया भगवा रखा निशाने पर


Anamika Jain Amber 2 Line Shayari

देख लूँ पत्थरों का भी मैं हौसला
आइने सी संवर लूँ ठहर तो ज़रा


जिनके होने का अहसास हो न हो पर,
जिनके न होने का अहसास बहुत होता है…
HappyParentsDay


अपना- अपना सुकून है यारों
मैं दुआ,वो बददुआ देकर खुश है


खुद की ज़िंदगी खुद में जियो
दूसरे की ज़िंदगी को खुद में नही


Heart Touching 2 Lines By Anamika Jain Amber

खुद को खुद ही ढूँढना पड़ेगा
यूँ गूगल पर सब नही मिलता


कैसे करेगा अब भला सच की बयानी
उसने तो आईने की जुबां ही खरीद ली


बता देता है साहब ये वक़्त का दरपन
किस द से दोस्त है किस द से दुश्मन


Anamika Jain Amber Shayari

Anamika Jain Amber Shayari
Anamika Jain Amber Shayari | अनामिका जैन अम्बर शायरी

न जाने क्यों खामोशियों का साज़ हुए फिरते हैं
हम सच बोलते हैं तो दोस्त नाराज़ हुए फिरते हैं


देश-भक्ति की कोख से जन्मे ये मुँह बोले भाई हैं
योगी बाबा, मोदी जी की साक्षात परछाई हैं


यूँ ही नही दुनिया में, कोई रब हो जाता है
गर मेहरबान हो मुक़द्दर तो सब हो जाता है


सुख का अहसास कितना आभासी है
जिस उ से उम्मीद उसी उ से उदासी है


अनामिका जैन अम्बर के अनमोल विचार

जितनी ज़्यादा इच्छायें
उतनी ही कम इच्छाशक्ति,
जितनी कम इच्छायें
उतनी ज़्यादा इच्छाशक्ति


घोर कालिमा अंधे तम ने बांटी है।
पीर हृदय को हरदम गम ने बांटी है।
वो भी हमको शूल सौंप कर चले गए।
जिन लोगों को खुशबू हम ने बांटी है


“ज़िंदगी” बिल्कुल भी “आसान” नहीं है।
ये बात जितनी जल्दी समझ आ जाए
“ज़िंदगी” उतनी ही जल्दी “आसान” हो जाएगी।


बढ़ती जनसँख्या पर अनामिका जैन अम्बर की शायरी

छीना, झपटी, लूट-मार की ही आदी हो जाती है
भीड़ अगर हो ज्यादा तो फिर उन्मादी हो जाती है
भूख , गरीबी , बेकारी की जड़ को खोदा तो पाया
हद से ज्यादा आबादी भी बर्बादी हो जाती है


अनुदान हमारे कर से लेकर काम करायें,बंद करो
वोट बैंक के नाम पे पलती सभी प्रथायें,बंद करो
परिवार नियोजित हों जिनके बस वही पात्र अधिकारी हो
दो बच्चों से ज्यादा वालों की सुविधायें,बंद करो


दीमक बनकर चूसते जो भारत का खून
उन सब पर लागू करो जनसंख्या क़ानून


बेकारों की भीड़ है अर्थ तंत्र पर चोट
परमाणु से है बड़ा जनसंख्या विस्फोट


अनामिका अम्बर की शायरी

Anamika Amber Shayari
Anamika Amber Shayari | अनामिका अम्बर शायरी

फ़रेब के बाज़ार धोखे की डगर है
संभलना दोस्त हमें तेरी फ़िकर है
“होते नहीं है गुल भी जवां अब बहार में,
लगता है फ़र्क़ आ गया, मौसम के प्यार में,


तमन्नाओं की धरती पर,
सभी तो बो दिए अपने
पराए इस क़दर हो कर मिले
कि रो दिए अपने


पाया है इतना प्यार मैंने दुश्मनों से आज
दिखता नहीं है फ़र्क़ कोई गुल ओ खार में..”


अनामिका अम्बर स्टेटस

आँख में आँसू आ के ठहरा है
दर्द सागर से ज़्यादा गहरा है


जवाब खुद से बहस करने पर मिलते हैं,
दूसरों से बहस करने पर तो सवाल ही खड़े होते हैं


हमारी आंख अक्सर, वो ही खोलते हैं
जिसपे हम आंख बंद करके भरोसा करते हैं


अनामिका जैन अम्बर की शायरी

योगी- धाम में लव जेहादी रण नीति तो फेल मिलेगी
नाम बदलकर आंख लड़ाते आशिक़ों को जेल मिलेगी


कोई ग़ुरूर, बेरुख़ी कोई अना लिए
बैठे हैं यहाँ लोग यूँ अपना पता लिए


जिसे देखते ही लगा इससे खूबसूरत कुछ भी नही
उसे देख कर ये लगा इसमें खूबसूरत कुछ भी नही


Anamika Jain Amber Ki Shayari

हमारे साथ रहते हैं हमें फिर आज़माते हैं
बनकर राज़दां आँखो से काजल तक चुराते हैं
चलो अच्छा हुआ वरना हमें कैसे पता चलता
वही जो लोग सस्ते हैं सबक़ महँगे सिखाते हैं


सोचो जाग रहे होगे वो जिनकी होगी भूख से यारी
शायद ख़्वाब निवाले होंगे, होंगी पलकें भारी भारी


पति नाम की इस बीमारी का उपचार ज़रूरी है
चौबीस घंटे में पतियों पर एक फटकार ज़रूरी है


तू हवा है तेरे साथ बह जाऊँ मैं
दिल में जो है मेरे आज कह जाऊँ मैं
इस तरह एक दूजे के हो जाएँ हम
मुझमें रह जाए तू तुझमें रह जाऊँ मैं


2 Line Shayari Anamika Amber

ख़्वाब ही सही हमसफ़र हो जाए
नींद का अगर अब असर हो जाए


अम्बर उस बाजार को हैं सौ सौ धिक्कार
जिसने नन्हे हाथ मे थमा दिए औज़ार


सब्र करो बुरे वक़्त का भी
एक दिन बुरा वक़्त आता है


Anamika Jain Amber Quotes

ज़रूरत है अगर उसको,
चला आएगा वो इक दिन
किसी को बे वजह यूँ ही,
पुकारा हम नही करते


मत सोचना इस
बात का हिसाब नही है
कि तुम जैसा किसी
और का रुआब नही है


Anamika Jain Amber Sad Shayari

मुहब्बत की हद या वफा देखना है
तुम्हें दिल के टुकड़ों में क्या देखना है


सहने की हद टूट गयी अब दर्द गुज़ारिश करता है
ये मंज़र हो ख़्वाब बुरा बस ऐसी ख़्वाहिश करता है


Anamika Amber Shayari

राम तेरी धरती पर बदली सूरत अब इंसान की
माँ का आँचल धूमिल करते लेकर आड़ किसान की


ऐसे सबको आज़मा कर देख लिया
बहरों को फ़रियाद सुनाकर देख लिया


मात देकर अंधेरे को जल्द ही जीत जाएँगे आगे बढ़ेंगे
दीप उम्मीद का इक जलाकर हम लड़ेंगे लड़ेंगे लड़ेंगे


कई जो कामचोरी के ख़ज़ाने ढूँढ लेते हैं
नही करने के वो लाखों बहाने ढूँढ लेते हैं


अनामिका की शायरी

अंदर से बद सूरत बाहर से चमकीले गोटे लोग,
असली बनकर घूम रहे है सिक्के नक़ली खोटे लोग,
सच्चाई, ईमान, धरम हो या रिश्तेदारी, यारी
बड़ी-बड़ी बातों को करने वाले छोटे छोटे लोग.
अनामिका जैन अम्बर


इसे भी पढ़े –

Latest Articles