Mela Shayari Status Quotes in Hindi | मेला शायरी स्टेटस कोट्स

Mela Shayari Status Quotes Image in Hindi – इस आर्टिकल में मेला शायरी स्टेटस कोट्स इमेज आदि दिए हुए है. इन्हें जरूर पढ़े और शेयर करें.

मेला ही एक ऐसा जगह होता है, जहाँ बचपन की कुछ खुशियाँ पूरी होती है तो कुछ अधूरी रह जाती है. छोटे बच्चों में मेला देखने की बड़ी उत्सुकता होती है. वो नई-नई चीजों को देखकर बड़ा ही खुश होते है. उनका जी करता है कि पूरा मेला ही खरीद लें. कई बार मेले में बच्चे खो जाते है. इसलिए कभी भी बच्चों को मेला ले जाएँ तो सावधान रहे और उनका ख्याल रखें.

आज के दौर में गाँव का हर चौराहा काफी विकसित हो चूका है. इन चौराहों पर हर वो चीज मिलती है जो आपको मेले में मिलती है. अब अगर आप के पास है तो हर दिल मेला है. अगर पैसा नही है तो मेला भी वीरान सा लगता है. लेकिन आज भी मेला का अपना एक अलग ही महत्व है. जिस दिन गाँव में मेला लगता है. उस दिन गाँव की सारी औरतें समय निकलकर और सजकर-तैयार होकर मेला देखने जाती है.

इस पोस्ट में आपको मेला शायरी, मेला स्टेटस, Mela Shayari in Hindi, Mela Status in Hindi, Mela Quotes in Hindi, Mela Shayari Image, Mela Status Image, Mela Quotes Image आदि दिए हुए हैं. जरूर पढ़े.

Mela Shayari in Hindi

Mela Shayari in Hindi
Mela Shayari Image in Hindi

जब भी मैं तुम्हारी यादों का सजाता हूँ मेला,
तुम ही तुम नजर आती हो, मैं खुद को पाता हूँ अकेला.


जिन्दगी में हसरतों का मेला कभी खत्म नही होता है,
हालात कैसे भी हो माँ-बाप का प्यार कम नही होता है.


मानो तो ये जिन्दगी इक मेला है,
खेलों तो ये जिन्दगी इक खेला है,
अगर गम में भी मुस्कारा दो तो
जिंदगी बड़ा ही अलबेला है.


Mela Status in Hindi

Mela Status in Hindi
Mela Status Image in Hindi

बचपन मेले से खुशियाँ खरीद कर लाता है,
जवानी मेले में तो सिर्फ खर्च करके आता है.


जिन्दगी समझ में नही आई तो मेले में अकेला,
और समझ में आ गई तो अकेले में मेला.


दिल में किसी के यादों का मेला मत लगाना,
वरना सारी उम्र तन्हाई में गुजर जायेगी.


खुशियाँ तो गाँव के मेले में मिलती है,
शहर के मेले तो इंसान की औकात दिखा देते है.


Mela Quotes in Hindi

भारत में कई जगहो पर ठंड में मेले लगते है. यह मेले कई दिनों तक चलते है. ठंड में दिन थोड़ा छोटा होता है इसलिए थोड़ा ही घूमने पर शाम हो जाती है. लेकिन मजा खूब आता है. ठंड के मेले में गरमा-गरम गाजर का हलवा, चाट आदि खाने में बड़ा ही मजा आता है. ठंड के मौसम में लोगो के पास काम कम होता है और कम काम करना भी चाहते है. इसलिए ऐसे मौसम में लोग मेले का आनन्द लेते है.

Mela Quotes in Hindi
Mela Quotes Image in Hindi

जैसे जिन्दगी का मजा फ़कीर लेता है,
वैसे ही मेले का मजा गरीब लेता है.


मैंने अपनी जिन्दगी में बहुत सारे मेले देखे लेकिन
बचपन के मेलों से अच्छा कोई मेला नही देखा.


अगर यह न पता हो कि मेले में क्या खरीदना है,
तो इंसान थक और परेशान हो जाता है. ठीक उसी
प्रकार जीवन में जब लक्ष्य नही होता है, तब इंसान
थक और परेशान हो जाता है.


Mela Shayari in English

Jab Bhi Main Tumhari Yadon Ka Sajata Hoon Mela,
Tum Hee Tum Nazar Aati Ho, Main Khud Ko Pata Hoon Akela.


Zindagi Me Hasraton Ka Mela Kabhi Khatm Nahi Hota Hai,
Halat Kaise Bhi Ho Maa-Baap Ka Pyar Kam Nahi Hota Hai.


Jaise Zindagi Ka Maza Fakeer Leta Hai,
Waise Hee Mele Ka Maza Gareeb Leta Hai.


मेला शायरी

मेला शायरी
मेला शायरी इमेज

शादी से पहले जिन्दगी एक मेला है,
शादी के बाद जिन्दगी एक झमेला है.


यह जीवन चार दिन का है मेला,
पता नही कब खत्म हो जाए ये खेला,
मिट्टी के देह का इतना मोह क्यों करे,
जब एक दिन जाना है सबको अकेला.


मेला स्टेटस

जिन्दगी में मेले या तो झमेले है,
यहाँ इंसान अदंर से अकेले है.


क्यों बोझ बन जाते है झुके हुए कंधे,
जिन पर चढ़कर अक्सर मेला देखा करते थे.


Mela Status in English

Zindagi Me Mele Ya Toh Jhamele Hai,
Yahan Insan Andar Se Akele Hai.


Shadi Se Pahle Zindagi Ek Mela Hai,
Shadi Ke Baad Zindagi Ek Jhamela Hai.


Mela Shayari

चार दिन की जिन्दगी दो दिन का मेला,
अहंकार क्यूँ जब इस दुनिया से जाना है अकेला.


जिन्दगी में गर्लफ्रेंड खुशियों का मेला लेकर आती है,
जिन्दगी में बीबी मुसीबतों का झमेला लेकर आती है.
गर्लफ्रेंड कभी भी धोखा देकर भाग सकती है,
जबकि बीबी पूरी जिन्दगी साथ निभाती है.


मेला शायरी हिंदी

दिल के दर्द की दवा नही मिलती है इस दुनिया के मेले में,
दिल के दर्द को सुकून मिलता है तन्हाई और अकेले में.


यह मेरा दिल है कोई मेला नही,
प्यार इतना भी आसान खेला नही.


Mela Shayari Hindi

मंजिल की तलाश थी
और सफर भी अकेला,
आगे किस्मत खड़ी थी
पीछे दुनिया का मेला.
हिमांशी सिंह


पास जाने पर बड़ी आफत है,
माना कि हंसी नजारा है,
चलो दूर से ही देख लेते है ‘मेला’
पैसों का ये खेल सारा है.
शायर रईस रायपुरी


मेरे घर के आगे मोर नाचता था, ना जाने कहाँ गया
जो मुझको बरसो से जानता था, ना जाने कहाँ गया
इस तरक्की की दौड़ में लगने सब शहर आ गये
गाँव में जो एक मेला लगता था, जाने कहाँ गया.
सूरज गोस्वामी


इसे भी पढ़े –

Latest Articles