रबीन्द्रनाथ टैगोर शायरी | Rabindranath Tagore Shayari Status Quotes in Hindi

Rabindranath Tagore Shayari Status Quotes Image in Hindi – इस आर्टिकल में रबीन्द्रनाथ टैगोर शायरी स्टेटस कोट्स इमेज आदि दिए हुए है. इन्हें जरूर पढ़े.

रबीन्द्रनाथ टैगोर को रबीन्द्रनाथ ठाकुर और गुरूदेव के नाम से भी जाना जाता है. आप एक महान कवि, साहित्यकार, दार्शनिक, संगीतकार, चित्रकार और एशिया के प्रथम साहित्य नोबल पुरस्कार विजेता है. पूरे विश्व में आप एक मात्र कवि है जिनकी रचनाएं दो देशों की राष्ट्रगान है.

रबीन्द्रनाथ टैगोर का जन्म 07 मई, 1861 में हुआ. इनके पिता का नाम देवेंद्र नाथ टैगोर और माता जी का नाम शारदा देवी था. गुरूदेव ने देश और विदेश दोनों जगह शिक्षा प्राप्त की. इनका विवाह मृणालिनी देवी के साथ हुआ.

Rabindranath Tagore Shayari in Hindi

जिनकी पावन रचनाओं को सुन
हृदय में नाचता मोर है
साहित्य को माली बनकर जो सींचे
उनका नाम टैगोर है ।।।
वेदप्रकाश वेदांत


आध्यात्म आपमें रचता बसता
सभ्यता की आप आवाज थे
नई चेतना और संस्कृति के
गुरुवर आप आगाज़ थे ।।
वेद प्रकाश वेदान्त


जलिया वाले बाग में
अंग्रेजों ने नर संहार किया
दुधमुंहे बच्चों पर भी
न दया आयी न विचार किया
इस बात से खफा होकर के
टैगोर ने नाईट हुड त्यागा था
मत पूछो उस दिन भारत
कितना लाचार अभागा था ।।
वेदप्रकाश वेदांत


Rabindranath Tagore Status in Hindi

खुश रहना बहुत सरल है,
लेकिन सरल होना बहुत मुश्किल है।
Rabindranath Tagore


उपदेश देना सरल है,
पर उपाय बताना कठिन।
Rabindranath Tagore


जो मन की पीड़ा को स्पष्ट रूप में कह नहीं सकता,
उसी को क्रोध अधिक आता है।
Rabindranath Tagore


Rabindranath Tagore Quotes in Hindi

साहित्य कला और संगीत के
रवींद्र नाथ टैगोर जी एक
महान प्रकाश स्तम्भ हैं
ये बहुमुखी प्रतिभा का सूर्य
अपने प्रकाश के आलोक में
हर युग को अनवरत नहलाएगा ।।
वेद प्रकाश वेदांत


रबिन्द्रनाथ टैगोर शायरी

एशिया का प्रथम नोबेल
पुरस्कार आपको मिला था
देश आप पर गर्वित था
हर चेहरा खिला खिला था
कवि ही नहीं चित्रकारी और
संगीत आपमें बसता है
उदास दर्शन और शरीर विज्ञान
आज आपकी बदौलत हँसता है ।।
वेदप्रकाश वेदांत


दुनियाँ के कोने कोने में
गुरुदेव आपका नाम है
जिह्वा पर हैं माँ सरस्वती
हृदय में पुरुषोत्तम राम हैं ।।
वेदप्रकाश वेदांत


Rabindranath Tagore Shayari

बंगाली साहित्य को अपनी
बुद्धिमत्ता से आपने सींचा है
जिज्ञासाओं को धनुष बनाकर
शब्दों का बाण आपने खींचा है
नोबेल लाकर आपने साहित्य की
फुलवारी की महक को बढ़ाया है,
आपके गीत को राष्ट्रगान बनाकर
दो देशों ने दिल में बसाया है ।।
वेदप्रकाश वेदांत


जाने कब किसको ईश्वर
दे दें अनुपम वरदान
तेरहवीं सन्तान के रूप
में आकर टैगोर बने महान ।।
वेदप्रकाश वेदांत


रबीन्द्रनाथ टैगोर शायरी इन हिंदी

हजार कवितायें और
ये गीत लिखे दुगुना
आठ-आठ कहानी कथा
और लेख लिखे तिगुना ।
जितने ही बड़े कवि थे
उतने ही बड़े चित्रकार
इनकी प्रतिभा के आगे
चित्रगुप्त भी गये हार ।।
वेदप्रकाश वेदांत


Shayari on Rabindranath Tagore in Hindi

क्रोध-अहंकार-लालच आपने दिखाई नहीं,
विद्यालय की कक्षा आपके मन को भाई नहीं,
पावन प्रकृति के आप ठहरे उपासक
बंदिशों में जीने की कला आपको आई नहीं ।।
वेदप्रकाश वेदांत


कवियों में सबसे ऊँचा मुकाम आपने पाया है
एक नहीं दो देशों ने जन गण मन को गाया है
कवि कल्पना के उड़ान का नोबेल लेकर आना
भारत के साहित्य जगत में नया सवेरा लाया है ।।
वेदप्रकाश वेदांत


इसे भी पढ़े –

Latest Articles