National Epilepsy Day Shayari Status Quotes in Hindi | राष्ट्रीय मिर्गी दिवस शायरी स्टेटस कोट्स

National Epilepsy Day Shayari Status Quotes Wishes Message Image in Hindiराष्ट्रीय मिर्गी दिवस प्रतिवर्ष 17 नवम्बर को मनाया जाता है. इसका मुख्य उद्देश्य समाज में इस बीमारी के प्रति जागरूकता बढ़ाना है. ताकि मिर्गी से पीड़ित व्यक्ति का सही इलाज हो सक और समाज में उनके साथ कोई भेदभाव न हो.

भारत में मिर्गी की बीमारी से करोड़ो लोग पीड़ित है. 15 से 50 साल के लोगों में मिर्गी का सबसे आम कारण न्यूरोसाइटिस्टेरोसिस है. यह बीमारी संक्रमित सुअर का मांस ( पोर्क ) खाने से और बिना धोई भूमिगत सब्जियाँ खाने से होती है. सिर में चोट लगना भी इस बीमारी का कारण होता है. इस बीमारी के होने के अन्य कारण भी है. गावों में मिर्गी आने पर लोग जूता और चप्पल सुघाने की बात करते है जो कि गलत है. अगर किसी व्यक्ति को मिर्गी का दौरा पड़े तो उसे करवट करके लिटा दें.

National Epilepsy Day Shayari in Hindi

National Epilepsy Day Shayari in Hindi
National Epilepsy Day Shayari in Hindi

मिर्गी की बीमारी के बारें में खूब जागरूकता बढायें,
जिस व्यक्ति को मिर्गी आये उसे जूता-चप्पल ना सुंघायें.


मिर्गी के रोगी को दौरा पड़े तो उसे करवट लिटा दें,
दो मिनट में होश ना आयें तो नजदीकी हॉस्पिटल पहुँचा दें.


- Advertisement -

दौरा पड़ने पर रोगी को करवट करके लिटायें,
ताकि मुँह में जमा लार और झाग बाहर निकल जायें.


National Epilepsy Day Status in Hindi

National Epilepsy Day Status in Hindi
National Epilepsy Day Status in Hindi

मिर्गी के रोगी से डरे नहीं,
आगे बढ़कर उसकी मदत करें.


मिर्गी रोग से पीड़ित व्यक्तियों को
ऊँची जगह, आग और पानी से दूर रहना चाहिए.


कार्य स्थल पर मिर्गी के रोगी
से कोई भेदभाव न करें.


National Epilepsy Day Quotes in Hindi

National Epilepsy Day Quotes in Hindi
National Epilepsy Day Quotes in Hindi

मिर्गी का दौरा पड़ने पर मरीज के पास पड़ी
फर्नीचर, धारदार, नुकीली चीजों को हटा दे
ताकि मरीज को किसी प्रकार की चोट ना लगे.


मिर्गी से पीड़ित व्यक्ति को अच्छे डॉक्टर की
सलाह लेनी चाहिए. छोटे या झोला छाप डॉक्टर
ऐसी-वैसी दवा देकर सिर्फ पैसा बनाते है.


मिर्गी एक न्यूरोलॉजिकल रोग है.
इसके रोगियों को चिकित्सक की
सलाह के अनुसार दवाई लेनी चाहिए.
पर्याप्त व्यायाम, स्वस्थ आहार और
पर्याप्त नींद लेनी चाहिए.


इसे भी पढ़े –

Latest Articles