नक़ाब शायरी स्टेटस | Naqaab Shayari Status Quotes in Hindi

Naqaab Shayari Status Quotes Image Photo in Hindi – इस आर्टिकल में नकाब शायरी स्टेटस कोट्स इमेज फोटो आदि दिए हुए है.

नक़ाब एक उर्दू शब्द है जिसे अंग्रेजी में Mask कहते है और हिंदी में मुखौटा, मुखावरण, परदा आदि कहा जाता है. हिन्दू धर्म में महिलाएं मुँह को छुपाने के लिए घूँघट का प्रयोग करती है जबकि मुस्लिम धर्म में महिलाएं मुंह छुपाने के लिए बुरका का इस्तेमाल करती है. शहरों में धूप और धूल से बचने के लिए मुँह को दुप्पट्टे से नकाब की तरह लड़कियाँ ढँक लेती है.

Naqaab Shayari in Hindi

Naqaab Shayari in Hindi
Naqaab Shayari in Hindi | नक़ाब शायरी इन हिंदी

दुनिया में कौन सही कौन गलत है,
यह तो सिर्फ वक़्त ही बताता है,
जिंदगी जब मुसीबतों का समंदर लाता है
तो अपनों के चेहरे से नकाब हटाता है.


Naqaab Shayari
Naqaab Shayari | नक़ाब शायरी

नकाब में रहते है
अक्सर चेहरा दिखाते नहीं,
आँखों से कत्ल करते है
और मुस्कुराते भी नहीं।


Naqaab Status in Hindi

Naqaab Status in Hindi
Naqaab Status in Hindi | नकाब स्टेटस इन हिंदी
- Advertisement -

जलवों की साजिशों को ना रखो हिजाब में,
ये बिजलियाँ हैं रुक ना सकेंगीं नक़ाब में।


बड़ी आरज़ू थी मोहब्बत को बेनकाब देखने की,
दुपट्टा जो सरका तो जुल्फें दीवार बन गयीं।


उनके खूबसूरत चेहरे से नकाब क्या उतरा,
जमाने भर की नीयत बेनकाब हो गई।


नक़ाब स्टेटस

लोग बुरे कर्मों की वजह से ही गिरते है,
यहाँ शराफत का नकाब लगाए फिरते है.


डर जाता हूँ देख उसे ख्वाब में,
जब प्रेम आता है दोस्ती के नकाब में.


Naqaab Quotes in Hindi

इतना खूबसूरत चेहरा बनाया है
उस खुदा ने फिर क्यों इसे नकाब
के पीछे छुपाते है. क्या खुदा की
तौहीन करते है हम.


नक़ाब शायरी इन हिंदी

हर साँस का हिसाब है,
जिंदगी अधूरी किताब है,
जानना मुश्किल ज़रा
यहाँ चेहरों पर कई नकाब है.
अभय अग्रहरी ( Yourquote )


शराफत का दोहरा नकाब लिए फिरते है,
चरित्र पर दाग सवा-लाख लिए फिरते है,
जिनके खुद के बहीखाते बिगड़े हुए है
वो भी हमसे हमारा हिसाब लिए फिरते है.
अक्षिता तिवारी ( Yourquote )


Naqaab Shayari in Urdu

इस दौर में इंसान का चेहरा नहीं मिलता
कब से मैं नक़ाबों की तहें खोल रहा हूँ
मुग़ीसुद्दीन फ़रीदी


आँखें ख़ुदा ने दी हैं तो देखेंगे हुस्न-ए-यार
कब तक नक़ाब रुख़ से उठाई न जाएगी
जलील मानिकपूरी


तसव्वुर में भी अब वो बे-नक़ाब आते नहीं मुझ तक
क़यामत आ चुकी है लोग कहते हैं शबाब आया
हफ़ीज़ जालंधरी


नक़ाब पर शेर

चराग़-ए-तूर जलाओ बड़ा अंधेरा है
ज़रा नक़ाब उठाओ बड़ा अंधेरा है
साग़र सिद्दीक़ी


नक़ाब-ए-रुख़ उठाया जा रहा है
वो निकली धूप साया जा रहा है
माहिर-उल क़ादरी


ज़रा नक़ाब-ए-हसीं रुख़ से तुम उलट देना
हम अपने दीदा-ओ-दिल का ग़ुरूर देखेंगे
शकील बदायुनी


नक़ाब शायरी इन उर्दू

है देखने वालों को सँभलने का इशारा
थोड़ी सी नक़ाब आज वो सरकाए हुए हैं
अर्श मलसियानी


दीदार से पहले ही क्या हाल हुआ दिल का
क्या होगा जो उल्टेंगे वो रुख़ से नक़ाब आख़िर
वासिफ़ देहलवी


देखता मैं उसे क्यूँकर कि नक़ाब उठते ही
बन के दीवार खड़ी हो गई हैरत मेरी
जलील मानिकपूरी


बेनकाब शायरी

मुफलिसी का मारा
चेहरा बेनकाब किये फिरता हूँ,
बदसूरत सा शख्स हूँ
बस ईमान लिए फिरता हूँ.
अर्चना शर्मा


आशा करता हूँ यह लेख Naqaab Shayari Status Quotes Image Photo in Hindi आपको जरूर पसंद आया होगा। इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

इसे भी पढ़े –

Latest Articles