ख़ुशी शायरी | Khushi Shayari

Khushi Shayari – जीवन के सारे कार्य हम अपनी और अपनों की ख़ुशी के लिए ही करते हैं. इस पोस्ट में बेहतरीन हैप्पी शायरी ( Happy Shayari ), ख़ुशी शायरी ( Khushi Shayari ), Happiness Shayari दी हुई हैं. इस पोस्ट को जरूर पढ़े और दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

बेस्ट हैप्पी शायरी | Best Happy Shayari

ना ख़ुशी खरीद पाता हूँ ना ही गम बेच पाता हूँ,
फिर भी ना जाने मैं क्यूँ हर रोज कमाने जाता हूँ.


ख़ुशी कहाँ हम तो गम चाहते हैं,
ख़ुशी उसको दे दो जिसको हम चाहते हैं.


पता न चला कि इश्क के जाल में फँसे कब थे,
मरते वक्त याद न आया कि हँसे कब थे.


मुझे ख़बर नहीं ग़म क्या है और ख़ुशी क्या है
ये ज़िंदगी की है सूरत तो ज़िंदगी क्या है


ये चेहरे की ख़ुशी सिर्फ़ तेरे इन्तजार की हैं,
क्योकि दिल में आज भी उम्मीद तेरे दीदार की हैं.


सजते रहे ख़ुशियों की महफ़िल, हर खुशियाँ सुहानी रहे,
आप जिन्दगी में इतना ख़ुश रहे कि हर ख़ुशी आपकी दिवानी रहे.


तेरे बिना ख़ुशियों का चिराग जलता नही.
शहर की रौशनी से ये दिल बहलता नहीं,


कभी ख़ुशी की आशा, कभी मन की निराशा,
कभी ख़ुशियों की धूप, कभी हकीकत की छाँव,
कुछ खोकर कुछ पाने की आशा,
शायद यही हैं जीवन की परिभाषा.


खुशियाँ छुपी है छोटी-छोटी अरमानों में,
पता नही क्यों ढूढ़ते हैं इसे महंगी दुकानों में.


उस ख़ुशी का हिसाब कैसे हो,
जो तुम पूछ लो ‘जनाब कैसे हो’.