संत रविदास जयंती शायरी | Ravidas Jayanti Shayari Status Quotes in Hindi

Guru Ravidas Jayanti Shayari Status Quotes Wishes Message Image Photo in Hindi – इस आर्टिकल में संत रविदास जयंती पर शायरी स्टेटस कोट्स इमेज फोटो आदि दिए हुए है.

रविदास एक महान संत, कवि, दार्शनिक, समाज सुधारक और ईश्वर के भक्त थे. इनका जन्म 15वीं शताब्दी में हुआ था. इनके जन्म को लेकर लोगो के विभिन्न-विभिन्न राय है. प्रतिवर्ष माघ पूर्णिमा के दिन इनकी जयंती मनाई जाती है. भक्ति कालीन कवियों में संत रैदास का महत्वपूर्ण स्थान है. रैदास की अनेक कृतियों में उनके अनेक नाम देखने को मिलता है. देश के विभिन्न भागों में उनके उनके नाम प्रचलित है जिनमें उच्चारण की दृष्टि से बहुत थोड़ा अंतर है. रैदास ( पंजाब ), रयदास, रदास ( बीकानेर की प्रतियों में ), रयिदास आदि नाम इस उच्चारण की भिन्नता को ही प्रकट करते है. इसलिए लोकप्रचलन और सुविधा की दृष्टि से उनका मूल नाम रैदास को स्वीकार किया जाता है.

Guru Ravidas Jayanti Shayari in Hindi

Guru Ravidas Jayanti Shayari in Hindi
Guru Ravidas Jayanti Shayari in Hindi | गुरू रविदास जयंती शायरी इन हिंदी

मोह-माया में फँसा
जीवन भटकता रहता है,
इस माया को बनाने
वाला ही मुक्ति दाता है.
संत रविदास जयंती की शुभकामनाएं


Guru Ravidas Jayanti Status in Hindi

मन चंगा तो
कठौती में गंगा।
हैप्पी रविदास जयंती


Guru Ravidas Jayanti Quotes in Hindi

Guru Ravidas Jayanti Quotes in Hindi
Guru Ravidas Jayanti Quotes in Hindi | गुरु रविदास जयंती कोट्स इन हिंदी
- Advertisement -

कोई भी व्यक्ति छोटा या बड़ा
अपने जन्म के कारण नहीं
बल्कि अपने कर्म के कारण होता है।
व्यक्ति के कर्म ही उसे
ऊँचा या नीचे बनाते है.
Happy Sant Ravidas Jayanti 2022


हमे हमेशा कर्म करते रहना चाहिए
और साथ-साथ मिलने वाले फल की
भी आशा नहीं छोड़नी चाहिए क्योंकि
कर्म हमारा धर्म है और फल हमारा सौभाग्य।
गुरू रविदास जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं


Guru Ravidas Jayanti Wishes in Hindi

रविदास जन्म के कारनै
होत न कोउ नीच।
नकर कूं नीच करि डारी है,
ओछे करम की कीच।।
संत रविदास जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं


Guru Ravidas Jayanti Message in Hindi

Guru Ravidas Jayanti Message in Hindi
Guru Ravidas Jayanti Message in Hindi | गुरु रविदास जयंती मैसेज इन हिंदी

संत परंपरा के महान योगी और
समाज सुधारक ज्ञान देने वाले
परम ज्ञानी संत श्री रविदास जी
को मेरा कोटि कोटि नमन… !!



ऐसा चाहूँ राज मैं जहाँ मिले सबन को अन्न
छोट बड़ो सब सम बसे रविदास रहे प्रसन्न
हैप्पी गुरु रविदास जयंती


संत रविदास जी के दोहे

जाति-जाति में जाति हैं, जो केतन के पात।
रैदास मनुष ना जुड़ सके जब तक जाति न जात।।


बांधू न बंधन छांऊं न छाया,
तुमहीं सेऊं निरंजन राया।।


रैदास कहै जाकै हृदै, रहे रैन दिन राम।
सो भगता भगवंत सम, क्रोध न व्यापै काम।।


संत रैदास के दोहे

हरि-सा हीरा छांड कै, करै आन की आस।
ते नर जमपुर जाहिंगे, सत भाषै रविदास।।


तोडूं न पाती पूजौं न देवा,
सहज समाधि करौं हरि सेवा।।


रहिमन निज संपति बिना, कोउ न बिपति सहाय।
बिनु पानी ज्‍यों जलज को, नहिं रवि सकै बचाय।।


इसे भी पढ़े –


Latest Articles