अरूणिमा सिन्हा की मोटिवेशनल स्टोरी | Arunima Sinha Hindi Motivational Story

Arunima Sinha

Arunima Sinha in Hindi – माउंट एवरेस्ट फतह करने वाली पहली भारतीय विकलांग हैं जिसे कभी सोचा नही जा सकता हैं उसे अरूणिमा सिन्हा ने करके दिखाया. इससे पहले भारत से राष्ट्रीय स्तर की पूर्व वालीवाल खिलाड़ी भी रह चुकी हैं. जो व्यक्ति लड़कियों को कमज़ोर समझते हैं उन्हें इस पोस्ट को पढ़े और नीचे दिए विडियो को जरूर देखे.

Arunima Sinha Biography in Hindi | अरूणिमा सिन्हा जीवन परिचय हिंदी में

नाम अरूणिमा सिन्हा (Arunima Sinha)
जन्म 1988 (उत्तर प्रदेश, अम्बेडकर नगर)
राष्ट्रीयता भारतीय
प्रोफेशन राष्ट्रीय स्तर की पूर्व वालीबाल खिलाड़ी और पर्वतारोही, (सी आई एस एफ) में हेड कांस्टेबल के पद पर 2012 से कार्यरत
प्रसिद्धि कारण माउन्ट एवरेस्ट फ़तह करने वाली पहली भारतीय विकलांग
पुरस्कार पदम् श्री खेल में

Arunima Sinha Train Accident | अरूणिमा सिन्हा ट्रेन एक्सीडेंट

यह दुर्घटना 12अप्रैल 2011 को लखनऊ से दिल्ली जा रही ट्रेन में हुआ था. कुछ बदमाशो (अपराधी ) ने अरूणिमा का बैग और सोने की चैन खीचनें का प्रयास किया, जब अरूणिमा न उनका विरोध किया तो उन अपराधियों ने चलती ट्रेन (पद्मावती एक्सप्रेस) से अरूणिमा को बाहर फेक दिया जिसके कारण वह अपना एक पैर गवां दी और उन्हें शरीर पर कई जगह गंभीर चोटे आई.

पैर को खो देने के बाद लोग इतने निराश हो जाते हैं परन्तु अरूणिमा सिन्हा ने जो कर दिखाया उसे सपने में भी नही सोचा जा सकता हैं. एक साहसिक और हिम्मती लड़की का परिचय देते हुए इन्होने 21 मई 2013 को दुनिया की सबसे ऊँची चोटी “माउन्ट एवेरेस्ट (29028 फुट)” फतह कर एक नया इतिहास रच दिया. ट्रेन दुर्घटना से पहले कई राष्ट्रीय प्रतियोगिताओ में वॉलीबाल और फुटबॉल टीमों का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं.

Learning from Arunima Sinha’s life | अरुणिमा सिन्हा के जीवन से सीख

अरुणिमा सिन्हा के जीवन से हमें बहुत कुछ सीख मिलती हैं, जो जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा देती हैं.

  1. जहाँ चाह हैं वहाँ राह हैं” अगर आप किसी काम को पूरे दिलो-दिमाग से करते हैं तो आपको निश्चित ही सफलता मिलती हैं.
  2. परिश्रम से किसी भी लक्ष्य को हासिल किया जा सकता हैं, मुसीबतों से डरे नही क्योकि यही आपको मजबूत बनाती हैं और लक्ष्य तक पँहुचाती हैं.
  3. दृढ़ सकल्प और धैर्य के साथ आगे बढ़ने से निश्चित ही लक्ष्य की प्राप्ति होती हैं.
  4. इंसान पैसों से नही सोच से गरीब होता हैं. जब मन में लक्ष्य को प्राप्त करने का जूनून हो तो सारी दुनिया आपके साथ हो या न हो पर भगवान आपके साथ जरूर होंते हैं.
  5. जो लोग हाथ-पैर होते हुए भी कुछ नही करना चाहते हैं उनके लिए अरूणिमा सिन्हा एक प्रेरणा स्त्रोत हैं.

अरूणिमा सिन्हा स्पीच – इसे जरूर देखे (Arunima Sinha Speech in Hindi – A Must Watch For Everyone)

इस विडियो को जरूर देखे. इसमें अरूणिमा सिन्हा ने अपने पूरे जीवन के बारे में बताया हैं. यह बहुत ही मोटिवेशनल विडियो है.