वायु प्रदूषण पर कविता | Air Pollution Poem in Hindi

Air Pollution Poem Kavita Poetry in Hindi – इस आर्टिकल में वायु प्रदूषण पर कविता दी गई है. जरूर पढ़े.

आज के दौर में लगभग हर बड़ा शहर वायु प्रदूषण का शिकार है. किसी शहर में कम तो किसी शहर में ज्यादा है. प्रदूषण एक ऐसी समस्या जिसके लिए सबको मिलकर लड़ना चाहिए। दिल्ली में दिवाली के आस-पास वायु प्रदूषण काफी बढ़ जाता है. इसका मुख्य कारण दिवाली के फोड़े पटाखे और आस-पास राज्यों में जलाये हुए पराली को इसका कारण माना जाता है. वायु प्रदूषण एक ऐसी समस्या है जिसपर सरकारों को आपस में मिलकर कार्य करना चाहिए।

Air Pollution Poem in Hindi

हमने प्रकृति से नाता तोड़ा है,
हवाओं में भी खूब जहर छोड़ा है
इसका ठिकरा दुसरे के सिर पर फोड़ा है
सुधर जाओ दुनिया वालों अभी थोड़ा है.

हवाओं में सबसे ज्यादा जहर
गाड़ियों के धुएं ने घोला है,
शहर का हर पाँचवा आदमी
सांस का मरीज है लेकिन
हमने फ़ैक्ट्री पर फैक्ट्री खोला है.

- Advertisement -

शहरों में पेड़ काटते ज्यादा
और लगाते बड़ा ही कम है,
इन पढ़े-लिखे लोगो को कैसे समझायें
इसी बात का तो गम है.

ऐसी तरक्की का क्या फायदा
बच्चों को स्वच्छ हवा ना दे सके,
कोरोना का जब कहर बढ़ा
साँसें लगी टूटने तब हम अपनों को
ऑक्सीजन रुपी दवा ना दे सके.

तरक्की-दौलत के नशे में चूर है,
हम प्रकृति से बहुत दूर है,
बीमारियों ने सबको घेरा है
सफलता का ये कैसा सवेरा है.
वेदप्रकाश पांडेय


वायु प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण सड़कों पर चलने वाली गाड़ियाँ है. युवाओं को कोशिश करनी चाहिए कि वे ज्यादा से ज्यादा पब्लिक ट्रांसपोर्ट ( Public transport ) का प्रयोग करें। इससे पैसों की बचत भी होती और वायु प्रदूषण भी कम होगा। आस-पास जाने के लिए वाहन का इस्तेमाल ना करें। बल्कि वहाँ तक पैदल चलकर जाएँ। इससे आपका स्वास्थ्य अच्छा होगा और पर्यावरण को स्वच्छ बनाने में आपकी मद्त होगी।

दिवाली पर थोड़े कम पटाखे फोड़े, इससे खुशियाँ कम नहीं हो जाएंगी। किसान पराली जलाने के बजाए उसका कैसे सदुपयोग करें। यह बात सरकार को सुनिश्चित करनी चाहिए। परमाणु हथियारों के आविष्कार के कारण सबसे ज्यादा वायु प्रदूषण होता है. इसके लिए हर देश की सरकार को सोचना पड़ेगा। ग्लोबल वार्मिंग ( Global Warming ) एक बहुत बड़ी समस्या है. शायद अभी हममें जागरूकता का अभाव है.

हर युवा अपने जीवन कुछ अच्छा कार्य करना चाहता है. अगर आप काबिल है पैसे कमा रहे है. तो आपको कुछ पेड़ जरूर लगाने चाहिए। इस दुनिया में बदलाव खुद से ही शुरू होता है. अगर आप सोचते है कि मुझ अकेले के करने से क्या होगा? करके देखिये बदलवा भी होगा और आपको अच्छा भी लगेगा।

वायु प्रदूषण पर कविता

वायु प्रदूषण ऐसे ही बढ़ेगा,
तो आने वाले वक़्त में
हवा भी बिकने लगेगा।

प्रदूषित हवाओं का
असर दिखने लगा है
एयर पूरिफिएर ( Air Purifier )
बजारों में बिकने लगा है.

तरक्की के नशे में पागल
आम लोगो को ठगने लगा है,
स्वच्छ हवा सबको मिलेगा
पर उसके लिए पैसा लगेगा

सोचो हमने खुद का
कितना नुक्सान किया है,
पेड़ों को काटकर हमने
अपने पैरों को काट लिया है.

मेरी इन उलटी-सीधी
लाइनों का भाव समझ लेना
आपको ज्ञान नहीं दे रहा
प्रकृति से मेरा लगाव समझ लेना।

वायु प्रदूषण ऐसे ही बढ़ेगा,
तो आने वाले वक़्त में
हवा भी बिकने लगेगा।
– कीर्ति चंद्रा


आपको तो यह पता है कि घरों के हवा को स्वच्छ और साफ़ करने के लिए Air Purifier बाजारों में बिक रहा है. बड़े शहरों में जो अमीर लोग रहते है वे अपने घरों में ऑक्सीजन का सिलेंडर भी रखते है. ताकि उनके घर के हवा में ऑक्सीजन अच्छी मात्रा में रहे. वायु को स्वच्छ बनने में मदत करें ताकि आपको ऑक्सीजन खरीदना ना पड़े.

Air Pollution Poem Image

Air Pollution Poem in Hindi
Air Pollution Poem in Hindi | एयर पॉलुशन पोएम इन हिंदी | वायु प्रदूषण पर कविता

Poem on Air Pollution Image

वायु प्रदूषण पर कविता
वायु प्रदूषण पर कविता | Poem on Air Pollution in Hindi | Vayu Pradooshan Par Kavita

इन कविताओं को मेरे कुछ मित्रों ने भेजा है. आशा करता हूँ यह लेख Air Pollution Poem in Hindi आपको पसंद आया होगा। इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। प्रकृति को स्वच्छ बनाने में अपना योगदान जरूर दें. धन्यवाद

इसे पढ़े –

Latest Articles