महाकाली शायरी स्टेटस | Mahakali Shayari Status Quotes in Hindi

Mahakali Shayari Status Quotes Image in Hindi – इस आर्टिकल में महाकाली शायरी स्टेटस कोट्स इमेज आदि दिए हुए है. माँ काली ( महाकाली ) के भक्त इसे जरूर पढ़े और अन्य भक्तों को शेयर करें.

महाकाली को ही हम माँ काली भी कहते है. महाकाली हिन्दू धर्म के एक प्रमुख देवी है. माँ ने यह रूप राक्षसों का संघार करने के लिए लिया था. इनकी सबसे ज्यादा पूजा और उपासना बंगाल, उड़ीसा और असम में की जाती है. यहाँ पर महाकाली के भव्य और प्राचीन मंदिर भी है. महाकाली के भक्त देश के कोने-कोने से दर्शन करने के लिए आते है. माँ काली का यह रूप बुराई पर अच्छाई की जीत दिलवाता है.

आपने महाकाली ( माँ काली ) की फोटो या मूर्ति देखी होगी, जिसमें माँ को नरमुंड माला पहने हुए देखा होगा. इसमें माँ की चार भुजाएं है जिसमें एक भुजा में खड्ग, एक में त्रिशूल, एक भुजा में नरमुंड और एक में खप्पर ली है. एक पैर भगवान शिव के ऊपर और जीभ निकली हुई है. माँ का यह रूप देखकर दानव, दैत्य और राक्षस डर जाते है जबकि ममहाकाली के भक्त इसी रूप की पूजा-अर्चना करके आनंदित होते है. माँ काली की आठ भुजा वाली भी चित्र है.

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कोलकाता को माँ काली का निवास स्थान माना जाता है. यहाँ पर दक्षिणेश्वर काली मंदिर और कालीघाट मंदिर बहुत ही प्रसिद्ध है. दोनों मंदिर तंत्र-मन्त्र की सिद्धि के लिए बड़ा ही उपयुक्त माना जाता है. देश भर के तांत्रिक यहां पर महाकाली की पूजा करने आते है. कालीघाट मंदिर अघोर क्रियाओ और तंत्र-मन्त्र के लिए प्रसिद्द है. यह मंदिर 200 वर्ष पुराना है. यहाँ पशुबलि की भी परम्परा है. जन श्रुतियो के अनुसार ऐसा माना जाता है कि रामकृष्ण परमहंस को दक्षिणेश्वर काली मंदिर में महाकाली के दर्शन हुए थे.

Mahakali Shayari

Mahakali Shayari
Mahakali Shayari | महाकाली शायरी
- Advertisement -

महाकाली का देख रूप विकराल
केवल बुरी आत्मा होती है भयभीत,
भक्तों के सारे कष्ट हरती है माँ
अंत में अच्छाई की होती है जीत.


महाकाली के चरणों में जब-जब शीश झुकाते है,
जिंदगी की सारी मुसीबतों से लड़ने की ताकत पाते है.


माँ काली जिसे बुलाती है
वही उनके दर पर जाता है,
जो उनके दर पर जाता है,
अपनी झोली भरकर लाता है.


Mahakali Status

Mahakali Status
Mahakali Status | महाकाली स्टेटस

जरूरी नहीं है किसी बड़े आदमी का साथ,
जरूरी है सिर पर सिर्फ महाकाली का हाथ.


महाकाली के दरबार में जरूर जाएँ,
अगर चाहते है कि जीवन में दुःख ना आयें.


भक्तों पर माँ काली अपनी कृपा बरसाती है,
उनके जीवन से सारे दुःख-दर्द हर ले जाती है.


Mahakali Quotes in Hindi

अरि मद मान मिटावन हारी ।
मुण्डमाल गल सोहत प्यारी ॥
अष्टभुजी सुखदायक माता ।
दुष्टदलन जग में विख्याता ॥


माँ काली के प्राचीन मंदिर
कोलकाता में है. महाकाली के
भक्तों को उनके दर्शन के
लिए यहां जरूर आना चाहिए.


महाकाली जितनी शक्तिशाली है,
उतनी ही ज्यादा दुष्टों और बुरे लोगो
पर क्रोधित भी होती है. माँ के दर्शन से
पूर्व मन साफ़ कर ले.


Mahakali Shayari in Hindi

भक्तों की सारी चिंता हर लेती है,
उनके जीवन को आशा से भर देती है,
महाकाली की पूजा-अर्चना और स्तुति
भक्तों के सारे दुखो को खत्म कर देती है.


कालचक्र की गति हूँ मैं,
चंडी, दुर्गा और सती हूँ मैं,
जिससे बुराई आज भी काँपती है
हाँ !!! वही महाकाली हूँ मैं.


Mahakali Status in Hindi

जो पूरा जीवन महाकाली की भक्ति करता है,
फिर वह दुश्मन की हस्ती से नहीं डरता है.


जिसने अपनी शक्ति को पहचान ली,
उसे खुद के अंदर मिलेगी महाकाली.


Mahakali Shayari in English

Mahakali Ka Dekh Roop Vikral,
Keval Buri Aatma Hoti Hai Bhaybheet,
Bhakton Ke Sare Kasht Harti Hai Maa
Ant Me Achchhai Ki Hoti Hai Jeet.


Mahakali Ke Charano Me Jab-Jab Sheesh Jhukate Hai,
Jindagi Ki Sari Museebton Se Ladane Ki Takat Pate Hai.


Maa Kali Jise Bulati Hai,
Wahi Unke Dar Par Jata Hai,
Jo Unke Dar Par Jata Hai
Apni Jholi Bharkar Aata Hai.


Shayari on Mahakali

जब भी कोई मुसीबत आई,
या हो गई मैं अकेली,
तूने ही सहारा दिया
वो माँ महाकाली.


जय काली कंकाल मालिनी,
जय मंगला महा कपालिनी,
रक्तबीज बधकारिणी माता
सदा भक्त जनकी सुखदाता।


Mahakali Status Hindi

महाकाली और भक्तों में नहीं होती कोई दूरी,
दुःख सारे हर कर, माँ मन की मुराद करती है पूरी।


महाकाली का भक्त होना बड़ी बात होती है,
यह हर किसी के बस की बात नहीं होती है.


Mahakali Shayari Hindi

कालो की काल महाकाली
भवानी माई कलकत्ता वाली
अंगारा जैसे नैयन लाल-लाल
क्रोधित मुख-मंडल गले मुंड माल
दुष्ट दानव का करें संघार
भक्तों का रखे ख्याल
कालो की काल महाकाली
भवानी माई कलकत्ता वाली


मैं आदि हूँ,
मैं अंत हूँ,
मैं सृजन हूँ,
मैं विनाश हूँ,
मैं जन-जन में हूँ,
मैं कण-कण में हूँ,
मैं क्रूर हूँ,
मैं करूणा हूँ,
मैं आत्मा भी हूँ,
मैं परमात्मा भी हूँ,
मैं काल भी हूँ,
मैं काली भी हूँ,
मैं महाकाली हूँ.


महाकाली शायरी

माँ काली (महाकाली ) कई कथाएं प्रचलति है, जिसमें वे दुष्ट राक्षसों का संघार करती है. लेकिन मुझे बचपन एक कहानी याद है जिसे मैंने टीवी पर देखा था. जिसमें महाकाली रक्तबीज नामक राक्षस का वध करती है. रक्तबीज को यह वरदान मिला होता है कि अगर उसका एक बूँद खून धरती पर गिरेगा तो एक नया रक्तबीज पैदा होगा। इसलिए माँ महाकाली एक हाथ में खड्ग और एक हाथ में खप्पर लेकर रक्तबीज का वध करती है. खून की एक बूँद भी धरती पर ना गिरे इसलिए माँ उसे खप्पर में रोपकर पी जाती थी. दुष्ट और पापियों का वध होते देखकर मन में बड़ी प्रसन्नता होती थी.

समस्त सृष्टि की शक्ति जिसमें समाई है,
जिनके आँखों में क्रोधाग्नि की लाली है,
जो पापियों को डराने वाली है
वही तो हमारी माँ महाकाली है.


दुःख, पाप, दुष्ट संघारक है वो,
वो ही है अष्टभुजाओं वाली माँ काली
जो भी माँ के दरबार में आता है
उनका दामन खुशियों से भर जाता है.


महाकाली स्टेटस

माँ महाकाली तेरे ही संतान तो है हम,
फिर क्यों है जीवन में इतना दुःख और गम.


माँ काली की पूजा-भक्ति ध्यान करूंगा,
पूरा जीवन महाकाली का गुणगान करूंगा।


इसे भी पढ़े –

Latest Articles