तितली शायरी | Butterfly Shayari | Butterfly Status

Butterfly Shayari

Butterfly Shayari Status Images in Hindi – इस आर्टिकल में बेहतरीन Titli Shayari दिए हुए है. इस जरूर पढ़े और दोस्तों के साथ शेयर करें।

अक्सर फूलों पर मड़राते हुए या बगीचों में उड़ते हुए अपने तितली को जरूर देखा होगा। तितली देखने में रंग-बिरंगी और बड़ी ही सुंदर लगती है. बचपन में हम तितलियों के पीछे भागते है और उन्हें पकड़ने का भी प्रयास करते है. तितलियों को पकड़कर उसके साथ खेलते है.

मादा तितली अपने अंडे पेड़ की पत्तियों के निचली सतह पर देती है. अण्डे से कुछ दिनों बाद एक छोटा-सा कीट निकलता है जिसे कैटरपिलर लार्वा कहा जाता है। यह पौधे की पत्तियों को खाकर बड़ा होता है और फिर इसके चारों ओर कड़ा खोल बन जाता है। अब इसे प्यूपा कहा जाता है। कुछ समय बाद प्यूपा को तोड़कर उसमें से एक सुन्दर छोटी-सी तितली बाहर निकलती है. तितली का दिमाग़ बहुत तेज़ होता है। देखने, सूंघने, स्वाद चखने व उड़ने के अलावा जगह को पहचानने की इनमें अद्भुत क्षमता होती है।

Butterfly Shayari

मकड़ी जैसे मत उलझो
तुम गम के ताने बाने में,
तितली जैसे रंग बिखेरो
हँस कर इस जमाने में.


रिश्ते हमेशा तितली के जैसे होते है,
ज़ोर से पकड़ो तो मर जाते है,
छोड़ दो तो उड़ जाते है,
और अगर प्यार से पकड़ो तो अपना रंग छोड़ जाते है.


Butterfly Status

तितलियों से बच्चों की मोहब्बत अधूरी रह गई,
पर इस मोहब्बत में कई तितलियाँ मर गई.


अक्सर गिरवी रख देती है पंख,
जब प्यार में होती है तितलियाँ।


Butterfly Shayari in Hindi

Butterfly Shayari | Butterfly Status | Butterfly Shayari in Hindi | Butterfly Status in Hindi | Titli Shayari

आज ये तितलियाँ भी मुझसे शिकायत करती है,
क्यों तोड़े थे हमारे फूल, उस बेवफ़ा के ख़ातिर।


सच-सच बतलाना तितली,
तू इतनी खुशियाँ कहाँ से लाती है,
मैं चाहे जितने ढंग से जी लू
पर ये खुशियाँ कम पड़ जाती है.


आज तितलियों को कुछ इस तरह हुई गलतफ़हमी,
फूल गुलाब का समझकर मेरे महबूब की गालों पर जा बैठी।


Butterfly Status in Hindi

Butterfly Shayari | Butterfly Status | Butterfly Shayari in Hindi | Butterfly Status in Hindi | Titli Shayari

ना उड़ाकर यूँ हवा में तितली बनकर,
शिकारी बैठे है हर जगह जाल बुनकर।


जिसके रूह में गुलाब की खुशबू होगी,
मोहब्बत की तितलियाँ उसी के करीब होगी।


Titli Shayari

मैं तितली सी उड़ जाऊं बन के गगन में
मैं दिल सबका बहलाऊं बैठूं चमन में
मैं नाजुक हूँ, मैं नादान हूँ
मैं ना तोड़ूँ किसी का भी दिल ख्वाब में


इसे भी पढ़े –