ओशो शायरी स्टेटस | Osho Shayari Status Quotes in Hindi

Osho Shayari Status Quotes Image in Hindi – इस आर्टिकल में ओशो शायरी स्टेटस कोट्स इमेज आदि दिए हुए है. इन्हे जरूर पढ़े और पसंद आने पर दोस्तों के साथ शेयर करें।

ओशो एक भारतीय दार्शनिक, विचारक और धर्मगुरू के रूप में जानते है. इनके बचपन का नाम “चंद्र मोहन जैन” था. बाद में इन्होंने अपना नाम बदलकर रजनीश रख लिया। 1960 के दशक में ‘आचार्य रजनीश‘ और एक दशक बाद “भगवान श्री रजनीश” के नाम से जाने गए. लेकिन ओशो नाम से ही इनकी ज्यादा प्रसिद्धि है.

ओशो का जन्म मध्यप्रदेश के रायसेन शहर के कुच्वाडा गाँव में हुआ. इनके पिता का नाम बाबूलाल जैन और माता का नाम सरस्वती जैन जो कि तारणपंथी दिगंबर जैन थे. विद्यार्थी काल से परम्परागत नियम और रूढ़िवादी विचार इन्हें नहीं भाते थे. उम्र बढ़ने के साथ ही नास्तिक हो गए. पढ़ाई के दौरान ही तर्क करने की शक्ति बहुत अच्छी थी. आप एक अच्छे वक्त भी थे.

इस आर्टिकल में Osho Shayari in Hindi, Osho Status in Hindi, Osho Quotes in Hindi, ओशो शायरी, ओशो स्टेटस, ओशो के अनमोल विचार, Osho Shayari, Osho Status, Osho Quotes आदि दिए हुए है. इन्हे जरूर पढ़े.

Osho Shayari in Hindi

Osho Shayari in Hindi
Osho Shayari in Hindi | Osho Status in Hindi | Osho Quotes in Hindi
- Advertisement -

ओशो जिंदगी के रहस्यों को खोल देते है,
जो जीवन का सत्य है, उसे बिना डरे बोल देते है.


खुद को जान लो, ईश्वर को जान लोगे,
वरना सब कुछ पाकर भी दुःख भोगोगे।


हृदय दे तो इस मिजाज का परवरदिगार दें,
जिंदगी की मुसीबतों को हँसकर गुजार दें.


Osho Status in Hindi

Osho Status in Hindi
Osho Status in Hindi | Osho Shayari in Hindi | Osho Quotes in Hindi

ऐसा क्या हमने सिखा दिया इस दिल को है,
कि जीवन का सत्य स्वीकारना भी मुश्किल है.


ईश्वर को कहाँ-कहाँ जाकर खोजते है लोग,
ईश्वर कण-कण में है, यह भी मानते है लोग.


खुद से मिला नहीं, खुदा की बात करता है,
जिंदगी भर खुद को नजरअंदाज करता है.


Osho Quotes in Hindi

Osho Quotes in Hindi
Osho Quotes in Hindi | Osho Shayari in Hindi | Osho Status in Hindi

मनुष्य का जीवन इतना अशांत है,
कि शान्ति भरी आँखें, आनंद भरा
हृदय और प्रेम भरा जीवन दिखाई
ही नहीं देता है.


जीवन में अशांति का एक मूल कारण यह भी है
कि जो लोग ऐसा सोचते है कि उनके जीवन में कोई
अन्य व्यक्ति अशांति पैदा कर रहा है.
वो अपने जीवन में कभी शांति नहीं पा सकते है.


अमीर तो वही है जिसकी
इच्छा ही समाप्त हो गयी है,
जिसे परमात्मा रुपी अनमोल
रत्न मिल गया है. असीम धन
होने के बावजूद भी धन की भूख हो
तो उसे सिर्फ दरिद्रता कहते है.


ओशो शायरी

एक बार मैं काफी बीमार था. मन बड़े नकारात्मक विचार आ रहे थे. तब मैंने ऑनलाइन कुछ अच्छा और सकारात्मक पढ़ने के लिए ढूँढा। कोई एक लेख पढ़ते हुए उसमें दिए एक लिंक पर क्लिक किया। उसके बाद यूट्यूब पर ओशो का एक वीडियो खुला। जिसे सुनकर मैं बड़ा ही प्रभावित हुआ. मेरे मन के नकारात्मक विचार सकारात्मक होने लगे. उस दिन मैंने ओशो के बारे में जाना।

उनकी एक वीडियो सुनने के बाद लगातार मैंने पांच दिनों तक Youtube पर केवल ओशो को सुना। उनके विचार नये रूप से सोचने के लिए मजबूर कर देते है. उनके कुछ विचारों से मैं सहमत नहीं हूँ लेकिन मैं उन्हें अपना गुरू मानता हूँ. आज ओशो के बारें में लिखकर मैं बड़ी हे प्रसन्नता का अनुभव कर रहा हूँ.

ओशो शायरी
ओशो शायरी | ओशो स्टेटस | ओशो के अनमोल विचार

हकीकत में खुदा तो हर इंसान के अंदर है,
खुद में उतर देख कितना आनंदमय मंजर है.


जो शज़र सूख गया है वो हरा कैसे हो,
मैं पैगंबर तो नहीं मेरा कहा कैसे हो,
जिसको जाना ही नहीं उसको खुदा क्यूँ मानें
और जिसे जान चुके है वो खुदा कैसे हो.


जो दुनिया को पाना चाहेगा,
वो खुदा से कैसे मिल पायेगा,
जो खुदा से मिल जाएगा,
वो इस दुनिया को क्यों पाना चाहेगा।


ओशो स्टेटस

प्रकृति मुस्कुराती है, कण-कण मुस्कुराता है
जब तुम मुस्कारते हो तो खुदा मुस्कुराता है.


खुद को तकलीफ देकर खुदा को नहीं पाओगे,
बल्कि खुदा और खुद से ही बहुत दूर हो जाओगे।


उसे कोई कैसे दुखी कर सकता है,
जिसकी किसी से कोई उम्मीद ही ना हो.


ओशो के अनमोल विचार

जब कोई प्रसन्न मन से कार्य करता है,
तो सुख उसका अनुसरण करता है,
ठीक उसी प्रकार जैसे मनुष्य के साथ
उसका छाया भी चलता रहता है.


जन्म लेते ही मृत्यु की तरफ चलने लगते है,
जब मृत्यु ही जीवन का अटल सत्य है तो
इस भय किस बात का. केवल अज्ञानता के कारण
ही मृत्यु से भय उतपन्न होता है.


भूल होने का डर मन में नहीं रखना चाहिए,
क्योंकि इंसान से कोई ना कोई भूल हो ही जाता है.
केवल मुर्दों से ही कोई भूल नहीं होता है.
भूल में कोई बुराई नहीं है लेकिन एक भूल दुबारा
नहीं होनी चाहिए।


Osho Shayari

मैं अपने आप की तलाश में हूँ,
मेरा कोई रहनुमा नहीं है,
वो क्या दिखाएंगे राह मुझको
जिन्हें कुछ अपना पता नहीं है.


खुद पे अब तो यही फैसला छोड़ दे,
या खुदी छोड़ दे या खुदा छोड़ दे,
मुझे पे कर तू यकीन दोस्तों की तरह
दुश्मनों की तरह सोचना छोड़ दे.


Osho Status

जब प्रेम और घृणा दोनों ही ना हो,
तब हर चीज़ साफ़ और स्पष्ट हो जाती है.


रस्सी से बंधा इंसान आसानी से मुक्त हो सकता है,
लेकिन विचारों से बंधा बड़ी मुश्किल से मुक्त होता है.


इसे भी पढ़े –

Latest Articles