Radha Krishna Shayari (राधा कृष्ण शायरी)

Radha Krishna Shayari (राधा कृष्ण शायरी) – राधा-कृष्ण के प्रेम को पूरी दुनिया जानती हैं. राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी अपने आप में प्रेम की परिभाषा हैं. प्रेम पर बहुत बड़े-बड़े ग्रन्थ लिखे गये हैं लेकिन राधा-कृष्ण के प्रेम के सामने वो बौने नजर आते हैं.

इस पोस्ट में आपको राधा-कृष्ण पर शायरी (Radha Krishna Par Shayari) मिलेगी जिसे आप सोशल मीडिया पर शेयर कर सकते हैं. इसे आप अपना स्टेटस भी बना सकते हैं.

राधा-कृष्ण शायरी हिंदी में (Radha-Krishna Shayari in Hindi)

कृष्ण की प्रेम बाँसुरिया सुन भई वो प्रेम दिवानी,
जब-जब कान्हा मुरली बजाएँ दौड़ी आये राधा रानी.
जय श्री राधे कृष्ण (Jai Shree Radhe Krishna)
New Radha Krishna Shayari


कर्तव्य पथ पर जाते-जाते केशव गये थे रूक,
देख दशा राधा रानी, ब्रम्हा भी गये थे झुक.
राधा-कृष्ण (Radha-Krishna)
Radha Krishna Shayari


सुध-बुध खो रही राधा रानी,
इंतजार अब सहा न जाएँ,
कोई कह दो सावरे से,
वो जल्दी राधा के पास आएँ.
राधे-राधे (Radhe-Radhe)


मधुवन में भले ही कान्हा किसी गोपी से मिले,
मन में तो राधा के ही प्रेम के है फूल खिले.
प्रेम से बोलो राधे-राधे (Prem Se Bolo Radhe-Radhe)


नन्दलाल की मोहनी सूरत दिल में बसा रखे हैं,
अपने जीवन को उन्ही की भक्ति लगा रखे हैं,
एक बार बाँसुरी की मधुर तान सुनादे कान्हा,
एक छोटी से आस लगा रखे हैं.


“राधा” के सच्चे प्रेम का यह ईनाम हैं,
कान्हा से पहले लोग लेते “राधा” का नाम हैं.


यदि प्रेम का मतलब सिर्फ पा लेना होता,
तो हर हृदय में राधा-कृष्ण का नाम नही होता.

 


जिस पर राधा को मान हैं,
जिस पर राधा को गुमान हैं,
यह वही कृष्ण हैं जो राधा
के दिल हर जगह विराजमान हैं.


प्रेम की भाषा बड़ी आसान होती हैं.
राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी ये पैगाम देती हैं.


राधा की हृदय में श्री कृष्ण,
राधा की साँसों में श्री कृष्ण,
राधा में ही हैं श्री कृष्ण,
इसीलिए दुनिया कहती हैं
राधे-कृष्ण राधे-कृष्ण