Khas Shayari | खास शायरी

Khas Shayari

Khas Shayari in Hindi – इस पोस्ट में ख़ास शायरी, Khas Dost Shayari, Khas Log Shayari, Shayari Kuch Khaas, Khas Logo Ke Liye Shayari आदि दिए हुए है. इस पोस्ट को जरूर पढ़े और शेयर करें.

लेटेस्ट खास शायरी | Latest Khas Shayari

अक्ल कहती है कि मारा जाएगा,
इश्क़ कहता है कि देखा जाएगा.


चेहरे सब के याद हैं,
बस वक्त का इन्तजार हैं.


ना जाने कौनसी शोहरत पर आदमी को नाज है,
जो ख़ुद आखिरी सफ़र के लिए भी औरों का मोहताज हैं.


इस बार मिलने की शर्त ये रखेंगे,
दोनों अपनी घड़ियाँ उतार फेकेंगे.


जहाँ शमा की जगह दिल जलाए जाते हैं,
बड़े अदब से वहाँ हम बुलाए जाते हैं.


किया है प्यार जिसे हम ने जिंदगी की तरह,
वो आदमी भी मिला हम से अजनबी की तरह.
Khas Log Shayari


होश का पानी छिड़को, मदहोशी की आँखों पर,
अपनों से न उलझो, गैरों की बातों पर.


नजर से दूर है फिर भी फ़िजा में शामिल है,
किसी के प्यार की खुश्बू हवा में शामिल हैं.


मालिक तेरी रजा रहें और तू ही तू रहें,
बाकी न मैं रहूँ और न मेरी आरज़ू रहें.


तकदीर के ही तो खेल हैं सारें,
कभी दिल हारे, कभी दिल से हारें.


निभाएं किस तरह रिश्तें समझ में कुछ नहीं आता,
किसी से दिल नहीं मिलता तो कोई दिल से नहीं मिलता.
Khas Logo Ke Liye Shayari


जमाना कुछ भी कहे
उसकी परवाह ना कर,
जिसे जमीर ना माने
उसे सलाम ना कर.


जो नहीं हैं हमारे पास वो ‘ख्वाब’ हैं,
पर जो है हमारे पास वो ‘लाजवाब’ हैं.


जीता रहा मैं मैंने दुनिया का क़ायदा नहीं देखा,
दोस्ती की तो दिल से की कभी फ़ायदा नहीं देखा.
Khas Dost Shayari


लकीरें तो हमारी भी बहुत ख़ास है,
तभी तो आप जैसे लोग हमारे पास हैं.


करवट में कत्ल नींद का इक बार कर के देख,
तू भी तो कभी मेरा इंतज़ार कर के देख.


वक्त जब भी शिकार करता हैं,
हर दिशा से वार करता हैं.


भगवा ओढ़े हिन्दू, हरा पहने मुसलमान,
मैं कौन सा रंग पहन लूँ जो बन जाऊं इंसान.


किसी की चाहत पर दिल से अमल करना,
दिल टूटे ना उसका इतनी फ़िक्र करना.


इन आँखों को जब तेरा दीदार हो जाता हैं,
दिन कोई भी हो लेकिन त्यौहार हो जाता हैं.


जड़े बाकी है अब भी, अभी उजड़ा नहीं हूँ,
मैं लम्हा ही सही पर अभी गुजरा नहीं हूँ.