Amir Shayari | Amiri Shayari Status in Hindi | अमीर शायरी

Amir Shayari

Amir Amiri Ameer Shayari Status Image in Hindi for Whatsapp and Facebook – इस आर्टिकल में बेहतरीन अमीर शायरी, अमीरी शायरी, अमीरों की शायरी और स्टेटस दिए हुए है. इसे जरूर पढ़े.

अपने जीवन में हर इंसान अमीर बनना चाहता है. अमीर तब तक अमीर रहता है जब तक वो मेहनत करता है. और गरीब तब तक ही गरीब रहता है जब तक वो मेहनत नहीं करता है. अच्छा व्यवहार, अच्छी शिक्षा, अच्छी आदतें और मेहनत ही हमें अमीर बनाती है.

हमेशा याद रखना, अगर अमीर हो तो अमीरी का घमंड मत करना। गरीब हो तो तब तक ईमानदारी से मेहनत करना जब तक तुम महसूस न करो कि अमीर हो गए है.

चरित्र और स्वास्थ को खोकर कमाया गया दौलत सिर्फ दुःख देता है. इसलिए दौलत कमाते वक्त ये हमेशा ध्यान रहे कि आपका चरित्र और स्वास्थ खोने न पाएं। कुछ लोग दिल से अमीर होते है और कुछ लोग दौलत से अमीर होते है. मेरी समझ में यहाँ सभी अमीर है.

Amir Shayari

इस दौर में गरीबों को भूख ने निचोड़ा है,
और अमीरों को अब इंसानियत ने छोड़ा है.


अपनी नजरों से हम नजर कैसे मिलाते,
अगर जमीर हम बेचते तो अमीर हो जाते।


खुदा किसी को इतनी अमीरी नहीं देता,
कि वो आने वाला कल भी खरीद सके,
खुदा किसी को इतनी गरीबी नहीं देता,
कि वो आने वाला कल भी बदल न सके.


इस कम्बख्त मौत ने सारा फ़ासला ही मिटा दिया,
एक अमीर को लाकर गरीब के पास ही लिटा दिया।


Amir Status

माना मैं अमीर नहीं पर आज भी,
मैं अपने दोस्तों के गम खरीद लेता हूँ.


जब हमें उनसे इश्क़ था,
उन दिनों हम बड़े अमीर थे.


जिनके आंगन में अमीरी का शजर लगता है,
उनका हर एब भी जमानें को हुनर लगता है.


Amir Shayari in Hindi

Amir Shayari | Amiri Shayari | Amir Status in Hindi | Amir Shayari in Hindi | Ameer Shayari

अमीर के घर बैठा कौआ भी मोर लगता है,
गरीब का भूखा बच्चा भी चोर लगता है.


मैं खुल के हँस तो रहा हूँ फ़क़ीर होते हुए,
वो मुस्कुरा भी न पाया अमीर होते हुए.


छोड़ो ये अमीरी गरीबी,
दिल की दुनिया में सब अमीर होते हैं,
जो सिर्फ ले सब से और न दे सके किसी को,
प्यार में बस वही गरीब होते हैं।


मुक्कदर का गरीब, दिल का अमीर था,
मिलकर बिछड़ना मेरा नसीब था,
चाह कर भी कुछ कर न सके हम
घर जलता रहा और समंदर करीब था.


Amir Status in Hindi

अमीर सोचता है कितना है धन-दौलत और सोना,
रात होते ही गरीब सोचता है कि अब मुझे कहाँ है सोना।


अमीर हो तो किसी गरीब को सताना नहीं,
गरीब मैं हूँ इसमें मेरी कोई खता नहीं।


अमीरी में अक्सर अमीर अपनी सुकून को खोता है,
मजदूर खाकर सूखी रोटी बड़े आराम से सोता है.


Amiri Shayari Status

लोग कहते है कि आदमी को अमीर होना चाहिए,
और हम कहते है कि आदमी का जमीर होना चाहिए।


अमीर इतने बनो कि आप कितनी भी
कीमती चीज को चाहो खरीद सको,
कीमती इतने बनो कि
अमीर से अमीर भी आपको खरीद न सके.


ऐ खुदा इतनी भी अमीरी न आए,
कि दिल से दोस्तों की जगह मिट जाए.


Amiro Ki Shayari

Amir Shayari | Amiri Shayari | Amir Status in Hindi | Amir Shayari in Hindi

अमीरी की फसल मैं भी काट लेता,
थोड़े से तलवे, अगर मैं चाट लेता।


कुछ रिश्ते मुनाफ़ा नहीं देते,
मगर जिंदगी को अमीर बना देते है.


अगर पल भर को भी, मैं बे-जमीर जाता,
यकीन मानिये मैं कब का अमर हो जाता।


Amir Logo Ki Shayari

ठोकरों में रखते हैं इस जहाँ की दौलत,
कुछ फकीर तो इतने अमीर होते है.


दौलत से अमीरी इतना कि तेरी पूरा शहर खरीद लूँ,
किस्मत से गरीब इतना कि तेरा साया भी नसीब नहीं मुझे।


अमीर वो नहीं होते जिनके घर में खोखा और पेटी हो,
अमीर तो वो होते है जिसके घर में हंसती बहुए और बेटी हो.


Ameer Shayari Status

अमीर बने तो ख़ुशी मिली,
सुकून आज भी ढूंढ रहे है.


एक रूपया माँगता था, दो रूपया थमा देते थे,
कुछ इस तरह पापा मुझे अमीर बना देते थे.


गरीब दूर तक चलता है खाना खाने के लिए,
अमीर दूर तक चलता है खाना पचाने के लिए.


अमीरी शायरी

Amir Shayari | Amiri Shayari | Amir Status in Hindi | Amir Shayari in Hindi | Ameer Shayari | अमीरी शायरी

अमीर होते है जिन्हें पैसा कमाने का जूनून होता है,
पर जनाब इन अमीरों से पास कहाँ सुकून होता है.


अमीरी की अकड़ में सस्ते उपहार पहचान कर लेना,
आज “गरीब रिश्तों” पर तुम थोड़ा एहसान कर देना।


गरीब को जो झोली होती हैं,
उसमें अमीर के दौलत से ज्यादा दुआ होती है.


अमीर शायरी

ऐ दोस्त, ये अमीरों की बस्ती है,
यहाँ पर मोहब्बत पैसों सस्ती है.


शुक्र है हँसी बाजार में नहीं बिकती साहब,
करना गरीबों से अमीर इसे भी छीन लेते।


हम उन दिनों बड़े ही अमीर थे,
जब खुदा और प्रकृति के करीब थे.


अमीरों की शायरी

मेरा नाम कैसे अमीरों में आया,
शरारत नहीं ये सियासत हुई है.


इश्क़ मेरा मासूम था बस ये गलती थी मेरी,
लफ्जों से ही अमीर था मैं जेबें फ़टी थी मेरी।


मेरी हिस्से की धुप भी वो खाएं बैठे है,
इस कदर अमीरी की महल ऊँची बनाएं बैठे है.


मैं अमीर हूँ… अभी तक गरीब नहीं हुआ,
क्योंकि ‘माँ’ से अभी तक दूर नहीं हुआ.


इसे भी पढ़े –