संचयिका दिवस (Sanchayika Day)

छात्रो के बीच पैसे बचाने की आदतों को बढ़ावा देने के प्रतिवर्ष 15 सितम्बर को पूरे भारत में संचयिका (स्कूल बैंकिंग) दिवस के रूप में मनाया जाता हैं. संचयिका दिवस पर स्कूल में छात्रो को बचत को बढ़ावा और बैंकिंग सिस्टम के प्रति जागरूक बनाया जाता हैं. इसमें बचत के फ़ायदे बताये जाते हैं. भारत में अभी भी संचयिका दिवस (Sanchayika Day) अधिकतर स्कूलों में नही मनाया जाता हैं परन्तु जैसे-जैसे जागरूकता बढ़ रही हैं लोग बैंकिंग फ़ायदे और उसकी उपयोगिता को समझ रहे हैं उस लिहाज से यह दिवस हर स्कूल और कॉलेज में जरूर मनाया जाना चाहिए.

संचयिका दिवस पर छात्रो और उनके माता-पिता को भी बैंकिंग सिस्टम और पैसों के बचत के बारें में बताना चाहिए. छात्रो को नेट बैंकिंग (Net Banking), मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) और कैशलेस मनी ट्रान्सफर (Cashless Money Transfer) के लाभ को समझाना चाहिए जिससे वे अपने बैंकिंग काम को आसानी से कर सके. आज भी भारत में बैंकिंग काम करने के लिए घंटो बैंक की लम्बी लाइन में लगना पड़ता हैं क्योकि लोग जागरूक नही हैं. अगर आप बड़े शहरो में देखेंगे तो बैंको पर भीड़ ही नही होती हैं क्योकि ज्यादातर लोगो नेट बैंकिंग या मोबाइल बैंकिंग प्रयोग करते हैं. इसमें काफ़ी समय बचता हैं.

संचयिका बैंक (Sanchayika Bank)

संचयिका बैंक मुख्यतः स्टूडेंट से सम्बंधित हैं. इस योजना में छात्रो के लिए बैंक खाता खोला जाता हैं और कम उम्र में बचत करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता हैं. छात्रो को इससे यह पता चलता हैं कि दैनिक जीवन में बैंक और बचत का क्या महत्व हैं. 1970 के शुरूआत में, भारतीय सरकार द्वारा छात्रों के लिए राष्ट्रीय बचत के तहत संचयिका के रूप में स्कूल में बैंकिंग की सुविधा उपलब्ध कराई गई हैं.

संचयिका दिवस का महत्व (Importance of Sanchayika Day)

  1. कम उम्र में छात्रो के बीच पैसे बचाने के आदत को प्रोत्साहित करना
  2. बैंकिंग सुविधा और कार्यो से अवगत कराना
  3. छात्र अपने जीवन के शुरूआती दिनों में ही धन प्रबंधन सीख सकेंगे.
  4. बचत और उसके लाभ के बारे में जानकारी देना