Haridwar Shayari Status Quotes Slogan in Hindi | हरिद्वार शायरी स्टेटस कोट्स

Haridwar Shayari Status Quotes Slogan Image in Hindi – इस आर्टिकल में हरिद्वार शायरी स्टेटस कोट्स स्लोगन इमेज आदि दिए हुए है. इन्हें जरूर पढ़े.

हरिद्वार का अर्थ हिंदी में “हरि (भगवान) का द्वार” होता है. यह हिन्दूओं के लिए एक पवित्र तीर्थ स्थान है जहाँ लोग जाकर गंगा में स्नान करते है. जहाँ मंदिरों में जाकर ईश्वर की पूजा और आराधना करते है. हरिद्वार उत्तराखंड का एक जिला है. गंगोत्री से होकर गंगा जी हरिद्वार में प्रवेश करती है और इस स्थान के महत्व को बढ़ा देती है.

जब मैं अपने दोस्त के साथ पहली बार हरिद्वार पहुँचा तो मुझे कुछ पता नही था. सिर्फ इतना पता था कि हर की पौड़ी में स्नान करने के बाद ही मंदिर में दर्शन के लिए जाते है. इसलिए सीधा मैं हर की पौड़ी पर पहुँचा और स्नान किया. फिर गंगा जी के आरती का आनन्द लिया. फिर शाम तक इधर-उधर, कई मंदिरों में घूमें. फिर शाम को रूम लिए और वहाँ पर रुके.

अगर आप हरिद्वार की यात्रा पर जा रहे है तो हर की पौड़ी ( Har Ki Pauri ), गंगा आरती ( Ganga Aarti ), मनसा देवी मंदिर ( Mansa Devi Temple ), शांति कुंज ( Shanti Kunj ), माया देवी मंदिर ( Maya Devi Temple ), सप्त ऋषि आश्रम ( Sapt Rishi Ashram ), चंडी देवी मंदिर ( Chandi Devi Temple ), पवन धाम ( Pawan Dham ), दक्ष महादेव मंदिर ( Daksha Mahadev Temple ), भारत माता मंदिर ( Bharat Mata Mandir ), वैष्णो देवी मंदिर ( Vaishno Devi Temple ), पतंजलि योग पीठ ( Patanjali Yoga Peeth ) आदि Tourist Places घूमने का आनन्द ले सकते है.

हर की पौड़ी का इतना महत्व क्यों है?

पौराणिक कथाओं और जन श्रुतियों के अनुसार जब समुन्द्र मंथन से अमृत निकला और उसे राक्षस लेकर भागने लगे. तब अमृत की कुछ बूँदें जिस स्थान पर गिरी थी उसे हर की पौड़ी पर ब्रह्मा कुंड माना जाता है. यह सबसे पवित्र घाट माना जाता है. हरिद्वार घूमने आने वाले देश और विदेश के तीर्थयात्री इस घाट पर जरूर स्नान करते है.

पैड़ी का हिंदी में अर्थ होता है ‘सीढ़ी‘. ऐसा माना जाता है विक्रमादित्य के भाई भर्तृहरि ने यहीं तपस्या करके अमर पद पाया था. भर्तृहरि की स्मृति में राजा विक्रमादित्य ने पहले पहल यह कुण्ड तथा पैड़ियाँ (सीढ़ियाँ) बनवायी थीं. इनका नाम ‘हरि की पैड़ी’ इसी कारण पड़ गया. फिर बाद में बोलचाल की भाषा में इसे “हर की पौड़ी” कहा जाने लगा. इसे हरिद्वार का हृदय स्थल कहा जाता है.

Haridwar Shayari

Haridwar Shayari in Hindi
Haridwar Shayari in Hindi | Haridwar Shayari Image

छोड़कर सब मोह माया, घर और परिवार
कम से कम एक बार जरूर जाएँ हरिद्वार.


जज्बातों से भी बना इक सुंदर-सा संसार होता है,
जहां मनुष्य और ईश्वर का मिलन हो वो हरिद्वार होता है.


इंसान का वो दिन त्यौहार होता है,
जितने दिन वो हरिद्वार में होता है.


यहाँ बहती निर्मल गंगा की धार है,
यह हर आदमी का द्वार है,
यह हरि का द्वार है,
यह हरिद्वार है.


Haridwar Status in Hindi

Haridwar Status in Hindi

हरि का द्वार हो या हरिद्वार हो दोनों
जगह भाग्यशाली मनुष्य ही पहुँचता है.


अगर ईश्वर और प्रकृति से आपको है प्यार,
तो पूरे परिवार के साथ जरूर आयें हरिद्वार.


ना हो नौकरी और ना चल रहा हो व्यापार,
तो कुछ पूण्य कमाने जरूर पहुँचे हरिद्वार.


हरिद्वार स्टेटस

लोगो को मरने के बाद भी मिलता है उद्धार,
जिसकी अस्थियाँ पहुँच जाती है हरिद्वार.


जब भी आप हरिद्वार जाएँ,
तो हर की पौड़ी पर जरूर नहाएँ.


मैं सब मोह-माया छोड़कर एक दिन हरिद्वार आऊंगा,
सुना है ईश्वर के समीप होने की अनुभूति होती है.


Haridwar Slogan in Hindi

आओ चले ईश्वर के द्वार,
आओ चले हम हरिद्वार.


मरने से पहले एक बार,
जरूर आयें हरिद्वार.


बेचैनी का जब बढ़े मन में विचार,
गंगा में डुबकी लगायें आकर हरिद्वार.


Haridwar Quotes in Hindi

मन की शान्ति के लिए हरिद्वार की गंगा आरती देखे,
और कुछ घंटे एकांत में गंगा के किनारें जरूर बिताएं.


हरिद्वार में ईश्वर दर्शन के लिए चढ़ाई करना पड़ता है,
जिसके मन में भक्ति भाव होता है वही परिश्रम करके
ईश्वर के दर्शन का शुभ लाभ लेता है.


जब भी आप हरिद्वार जाएँ तो यह ध्यान रखे कि
आपकी वजह से गंगा में गंदगी न हो और अगर कोई
गन्दा कर रहा हो तो उसे प्यार से समझायें.


Haridwar Shayari in English

Chhodakar Sab Moh Maya, Ghar Aur Pariwar,
Kam Se Kam Ek Baar Jaroor Jaayen Haridwar.


Jajbaton Se Bhi Bna Ek Sundar-Sa Sansar Hota Hai,
Jahan Manushy Aur Ishwar Ka Milan Ho Wo Haridwaar Hota Hai.


Insan Ka Wo Din Tyauhar Hota Hai,
Jitane Din Wo Haridwar Hota Hai.


हरिद्वार शायरी

हर की पौड़ी में डुबकी लगाये और कुछ दिन रहे हरिद्वार,
उसका उद्धार क्यों नही होगा जो आये भगवान के द्वार.


हृदय भक्ति भाव से पूरा भर जाता है,
जब कोई हरिद्वार की भूमि पर आता है.


हरिद्वार पर शायरी

क्या काशी, क्या हरिद्वार सब है बेकार,
माता-पिता के चरणों में ही हैं मुक्ति का द्वार.


इसे भी पढ़े –

Latest Articles