Quotes on Eye | आँख पर कोट्स

मैंने एक कहानी पढ़ी थी जिसमें यह लोगो को आभास कराया जाता है कि एक व्यक्ति के लिए आँख का होना कितना आवश्यक हैं. भगवान का यह एक बहुत अनमोल तोहफा हैं. कहानी में एक ऐसा रेस्तरां होता हैं – जहाँ पर पूरी तरह से अँधेरा होता हैं और अन्य रेस्तरां की तरह सारी व्यवस्था होती हैं. जब लोग रेस्तरां में घुसते है तो सबसे पहले उन्हें बैठने के लिए सीट ढूढ़नी पड़ती हैं. उसके बाद उन्हें हर कार्य को करने और समझने के लिए दुगनी मेहनत करनी पड़ती हैं और अंत में जब खाना खाते हैं तो उन्हें सबसे ज्यादा तकलीफ होती हैं क्योकि उन्हें समझ में नही आता है कि खाने में क्या हैं और किसी तरह छूकर बड़ी मुश्किल से थोड़ा बहुत खाना खाते हैं. महज कुछ घंटों में उस रेस्तरां में बैठे तमाम लोगो को अहसास होता हैं कि आखों की बिना जीवन कितना बुरा हो सकता हैं. आँखें भगवान के द्वारा दिया हुआ अनमोल उपहार हैं.

आँख पर कोट्स हिंदी में | Eye Quotes in Hindi

  1. चाय आज भी दुसरे नंबर पर है जिससे आदमी की आँखे खुलती है, धोखा अभी भी पहले नंबर पर हैं.
  2. आँखें कितनी छोटी होती हैं पर इसमें पूरे आसमान को देखने का हुनर होता हैं.
  3. खूबसूरती देखने वालो की नजरों और मन में होता हैं वरना कमियाँ तो लोग भगवान् में भी निकाल देते हैं.
  4. जो लोग दूसरों की आँखों को आँसू देते हैं उन्हें यह नही भूलना चाहिए कि उनके पास भी दो आँखे हैं.
  5. मनुष्य के लिए भगवान् का सबसे खूबसूरत उपहार आँख हैं.
  6. कुछ लोग आँसुओं की तरह होते हैं पता नही चलता हैं कि साथ दे रहे हैं या साथ छोड़ रहे हैं.
  7. सोच की आँखे आसमान पर हो तो ज़मीन के सारे काम छोटे लगते हैं.
  8. दूसरों की नजरों में अच्छा बनने से अच्छा है कि आप ख़ुद की नजरों में अच्छा बने.
  9. कुछ तो मेरी आँखों को पढ़ने का हुनर सीख, हर बात बताने की नही होती हैं.
  10. आखोँ की ख़ूबसूरती उसके देखने की कला से हैं न कि सुंदर बनावट से.
  11. किसी की आँखों से उसके मन में चल रही उसकी भावनाओं का पता लगाया जा सकता हैं.
  12. हम तो फना हो गए उनकी आँखे देखकर, ग़ालिब न जाने कैसे वो आइना देखते होंगे.

Shayari on Eye in Hindi | आँख पर शायरी हिंदी में

मैं उम्र भर जिनका न कोई दे सका जवाब,
वह इक नजर में, इतने सवालात कर गयें.
————————————
जो आँखों से बयाँ होता हैं,
वो लफ़्ज शायरी में कहाँ होता हैं.
————————————
नशीली आँखों से वो जब हमें देखते हैं,
हम घबरा कर आँखे झुका लेते हैं,
कौन मिलायें उन आँखों से आँखे,
सुना है वो आँखों से अपना बना लेते हैं.
————————————
कभी-कभी जीना भी मुहाल कर देती हैं आँखे,
खुली हो तो तलाश और बंद हो तो ख्वाब.
————————————
देखा है मेरी नजरों ने,
एक रंग छलकते पैमाने का,
यूँ खुलती है आँखे किसी की,
जैसे खुले दर मैखाने का.
————————————