डिप्रेशन के लक्षण, कारण और निवारण | Depression in Hindi

Depression in Hindi

Depression Symptoms Cause and Treatment in Hindi – WHO (World Health Organization) के अनुसार, 2015 में – भारत में लगभग 6 करोड़ लोग डिप्रेशन या तनाव से पीड़ित थे जिनकी वर्तमान में संख्या और अधिक हो गयी होगी. अखबार और न्यूज़ में आपने ऐसा जरूर सुना होगा कि डिप्रेशन या तनाव की वजह से भारत में हर घंटे एक छात्र आत्महत्या कर लेता है.

डिप्रेशन या तनाव क्या हैं? | What is Depression?

डिप्रेशन, तनाव या अवसाद का तात्पर्य मनोभावों सम्बन्धी दुःख से होता हैं. आयुर्विज्ञान में कोई भी व्यक्ति डिप्रेस्ड की अवस्था में स्वयं को लाचार और निराश महसूस करता हैं. इसमें व्यक्ति के लिए सुख, शान्ति, सफ़लता, ख़ुशी यहाँ तक रिश्तें और सम्बन्ध भी झूठे प्रतीत होने लगते हैं. उसे चारों तरफ निराशा, तनाव, अशांति और अरूचि प्रतीत होती हैं. अवसाद के भौतिक कारण भी बहुत से होते हैं. इनमें कुपोषण, आनुवांशिकता, हार्मोन, मौसम, तनाव, बीमारी, नशा, अप्रिय स्थितियों में लम्बे समय तक रहना आदि प्रमुख कारण हैं.

डिप्रेशन या तनाव के और भी बहुत से कारण हैं लेकिन सबसे महत्वपूर्ण यह जानना हैं कि इसके लक्षण क्या हैं और इससे कैसे बचा जा सकता हैं.

अवसाद या डिप्रेशन के लक्ष्ण | Depression Symptoms in Hindi

नीचे दिए गये लक्ष्ण से आप अनुमान लगा सकते है कि आप Depression के शिकार है या नहीं हैं.

  • सामान्य मनोरंजन के चीजों में अरूचि.
  • नींद की कमी या अधिकता.
  • चिड़चिड़ापन या छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा होना.
  • किसी निराशाजनक बात का मन में बार-बार आना और अपने काम में ध्यान केन्द्रित करने में कठिनाई.
  • ज्यादा मात्रा में और ज्यादातर समय Negative Thoughts का आना.
  • भूख की कमी या अत्यधिक खाना.
  • ज्यादा शराब पीना.
  • किसी को देखकर या किसी के बारें में सोचकर मन में हीनता की भावना आना.
  • Hopeless और Helpless महसूस करना.
  • आपको लगता है जिन्दगी में कुछ नहीं हैं और आपके मन में Suicide Thoughts आते हैं.

पुरूषों में डिप्रेशन | Depression in Men

पुरूषों में महिलाओं की अपेक्षा निराशा और Self-hatred की भावना कम होती हैं. पुरूषों में तनाव या डिप्रेशन के लक्ष्ण इस प्रकार होते हैं – बातों में चिड़चिड़ापन और गुस्सा आना, आक्रामक होना या हिंसा करना, लापरवाह होना और अत्यधिक शराब पीना आदि.

महिलाओं में डिप्रेशन | Depression in women

महिलायें, पुरूषों की अपेक्षा ज्यादा डिप्रेस्ड और तनाव में रहती हैं. इसकी कुछ वजहें Hormones से सम्बन्धित हैं, जैसेकि – PMS – Premenstrual Syndrome (महावारी पूर्व सिंड्रोम), PMDD – Premenstrual Dysphoric Disorder, Postpartum Depression, और Perimenopausal Depression.

महिलाओं में डिप्रेशन के लक्ष्ण ज्यादा सोने, वजन बढ़ने, ज्यादा खाने, निराश होने के रूप में नजर आते हैं.

बुजुर्गों में डिप्रेशन | Depression in Elderly

बुढ़ापें के साथ-साथ स्वास्थ सम्बन्धी समस्याएं अधिक आती हैं, जो डिप्रेशन या तनाव का मुख्य कारण होता हैं. दूसरों पर आर्थिक निर्भरता, आय का कम होना या न होना, परिवार से सम्मान व प्यार न मिलना आदि बुढ़ापें में डिप्रेशन के अन्य कारण हैं.

किशोरो में डिप्रेशन | Depression in Teen

वर्तमान समय में युवा बड़ी ही जल्दी या किसी छोटी सी हार के कारण आसानी से डिप्रेशन या तनाव के शिकार हो जाते हैं. ये ज्यादातर आर्थिक स्थिति ठीक न होना, प्रेम-प्रसंग, नशे की लत, गलत संगत, इन्टरनेट पर समय बर्बाद करने की लत, गेम की लत आदि डिप्रेशन के कारण कारण होते हैं. डिप्रेशन के कारण ये आत्महत्या तक कर लेते हैं.

डिप्रेशन के कारण | Cause of Depression in Hindi

Depression के बहुत से कारण होते हैं जिसकी वजह से व्यक्ति डिप्रेस्ड होता हैं. वर्तमान समय की Lifestyle और Relationship डिप्रेशन की मुख्य वजह हैं.

  • लम्बें समय तक अकेले रहना या अकेलापन.
  • आर्थिक समस्याएं और खर्चो का अधिक होना.
  • वैवाहिक जीवन या रिश्तों में अनबन.
  • खराब बचपन
  • शराब या नशीली दवाओं की लत.
  • बेरोजगारी या कम वेतन पर काम करना.
  • काम का बोझ या जिम्मेदारियों का बोझ.
  • बार-बार की असफ़लता.
  • मजबूरी में अप्रिय कार्य को करना.

यदि आपको पता है कि आप किस वजह या किस कारण डिप्रेशन में है तो आप इसका इलाज आसानी से कर सकते हैं जैसे कि यदि आप बेरोजगार है तो आप रोजगार प्राप्त करके डिप्रेशन से छुटकारा प्राप्त कर सकते हैं. यदि वित्तीय समस्याएं है तो आप अपने खर्चों को कम करें और कोई काम करने की सोचे या करे जिससे आप धन कम सके.

डिप्रेशन से कैसे बचे | Depression Treatment in Hindi

लोगो में डिप्रेशन के अलग-अलग लक्ष्ण या कारण हो सकते हैं, इनका इलाज भी अलग-अलग होगा. जिसे नीचे निम्नलिखित विन्दुओं के माध्यम से बताया गया हैं.

  • अपनी दिनचर्या में व्यायाम या योग को शामिल करें.
  • संतुलित आहार ले व निद्रा ले.
  • ईश्वर की पूजा या प्रार्थना जरूर करें. इससे मानसिक शान्ति और बल मिलता हैं.
  • सकारत्मक सोच के लिए अच्छी किताबें या ब्लॉग पढ़े.
  • रुचिकर कार्य करे और अपने कार्य में मन लगायें.
  • अपने अंदर से अहंकार, घृणा, द्वैष, ईर्ष्या आदि जैसे बुराइयों को निकाल दें. इससे आपके रिश्ते में अनबन हो सकती हैं और आप डिप्रेस्ड हो सकते हैं.
  • दोस्तों या परिवार से अपने समस्या या डिप्रेशन के बारें में बात करें. आपको निश्चित ही समाधान मिलेगा.
  • हर समस्या का समाधान होता हैं, आपका डिप्रेशन जिस समस्या के वजह से है उसका भी समाधान होगा बस आप थोडा धैर्य रखे.
  • यदि आप के मन में आत्महत्या या किसी अन्य तरह के बुरे विचार आ रहे हो तो अपने परिवार वालो से बात करें, दोस्तों से बात करें या किसी मनोंचिकित्सक से संपर्क जरूर करें.
  • जो व्यक्ति अपने जीवन में ईमानदार और परिश्रमी होते हैं, वो अपने जीवन में बहुत कम या न के बराबर डिप्रेशन के शिकार होते हैं.

इसे भी पढ़े –

डिप्रेशन का आसान इलाज | Depression Treatment in Hindi