Democracy Quotes in Hindi | लोकतंत्र पर अनमोल विचार

Democracy Quotes in Hindi

Democracy Quotes in Hindi ( लोकतंत्र पर अनमोल विचार ) – लोकतंत्र में नेता जनता से इतना वादा कर देते हैं कि बाद में उन्हें जनता की नजरों में सच साबित कर पाना बड़ा ही मुश्किल होता हैं. इस पोस्ट में लोकतंत्र / प्रजातंत्र पर कुछ बेहतरीन विचार दिए हुए हैं. इन्हें जरूर पढ़े और शेयर करें.

प्रजातंत्र पर अनमोल विचार | Democracy Quotes in Hindi

लोकतंत्र की सबसे बड़ी खूबसूरती यह होती हैं कि एक आम आदमी भी अपने अधिकार के द्वारा देश के नेता को चुन सकता हैं और बड़े से बड़े नेता के सामने चुनाव भी लड़ सकता हैं.

लोकतंत्र में सारी शक्तियां एक व्यक्ति में निहित नहीं होती हैं जिसके कारण कोई व्यक्ति सत्ता में आकर तानाशाह नहीं बन सकता हैं.

लोकतंत्र को इस प्रकार बनाया गया कि भ्रष्टाचार और बेईमानी न हो लेकिन सबसे अधिक भ्रष्टाचार और बेईमानी उन्हीं देशों में है जहाँ लोकतंत्र हैं.

लोकतंत्र सिर्फ नाम का है, हकीकत में जो अशिक्षित है और जो गरीब है उन्हें न्याय मिलने में कठिनाई होती हैं.

प्रजातंत्र तब सफल है जब एक शिक्षित और योग्य व्यक्ति शासक हो.

Quotes on Democracy in Hindi
Quotes on Democracy in Hindi

डेमोक्रेसी कोट्स इन हिंदी | Quotes on Democracy in Hindi

आदि काल में भी छल, बल और धन से सत्ता को हासिल किया जाता था और आज के समय में भी अधिकत्तर वहीं नेता है जो छल, बल और धन का उचित प्रयोग करना जानते हैं.

प्रजातंत्र नामक लोलीपॉप जनता को दिखया जाता है लेकिन वास्तव में इसे अमीर ही खाते हैं.

प्रजातंत्र में गरीबों के नाम पर वोट लिया जाता है और दिखाने के लिए दो-चार गरीब को भी नेता बनाया जाता है.

प्रजातंत्र से अच्छा तो वह राजतंत्र था जिसमें राजा अपनी प्रजा से झूठे वादें नहीं करते थे.

प्रजातंत्र की सफलता तब है जब इस भारत के आखिरी गाँव का आदमी भी शिक्षित हो, वो अपने मत का प्रयोग अपनी सूझ-बूझ से करे न कि जाति-धर्म के आधार पर.

Democracy Thoughts in Hindi
Democracy Thoughts in Hindi

Democracy Thoughts in Hindi | Democracy Quotations in Hindi

यदि जनता ही ईमानदार नहीं है तो वो कैसे एक ईमानदार नेता चुन सकती है. यहाँ प्रजातंत्र और लोकतंत्र की शक्तियाँ महत्वहीन हो जाती हैं.

जिस देश में प्रजातंत्र है वहाँ ईमानदार और योग्य नेताओं की हमेशा कमी रहती हैं.

चाहे लोकतंत्र हो या राजतन्त्र, गरीब और अशिक्षित लोगो का हमेशा शोषण हुआ है.

लोकतंत्र में ऐसे क़ानून बनाने में हमेशा कठिनाई होती हैं जो नेताओ के बुरे कार्यों को उजागर कर दें.

प्रजातंत्र की शक्ति प्रजा में होती हैं यदि वह अपनी शक्ति का प्रयोग कर शिक्षित, ईमानदार और योग्य नेता को चुनता हैं तभी प्रजातंत्र की जीत होती हैं.

इसे भी पढ़े –