लोरी गीत | Lori Geet

Lori Geet

Lori Geet – ‘लोरी’ का नाम लेते ही माँ की याद आ जाती है. अक्सर बचपन में जब बच्चों को नींद नहीं आती है. तो माँ एक प्यारा-सा गीत ( लोरी ) सुनाकर बच्चे को सुला देती है. कभी हमने सोचा नहीं कि उस लोरी में कितनी शक्ति होती है? इसका अंदाजा तो नहीं लगाया जा सकता है. किन्तु शक्ति तो होती ही है कि बच्चा आराम से सो जाता है. ज्यादातर गाँवों में या गाँव से जुड़े लोग आज भी अपने बच्चों को लोरी सुनाते है.

क्या आपने सुना है कि जब तानसेन जब दीपक राग गाते थे तो आग लग जाती थी. जब वो मल्हार राग या मेघ राग गाते थे तो बर्षा होने लगती थी. हम सभी आश्चर्य में पड़ जाते थे कि क्या ऐसा सम्भव है. कि एक गीत गाने से आग लग जाए या एक गीत गाने से वर्षा होने लगे. मगर जब माँ की ‘लोरी’ का ख्याल आता है तो लगता है कि कुछ भी सम्भव है. अगर आपने बचपन में लोरी नहीं सुना है तो अपने बच्चों को जरूर सुनाएँ।

इस पोस्ट में कुछ बेहतरीन लोरी गीत, Lori Geet, Lori in Hindi, Lori Poem in Hindi, Baby Lori in Hindi, Maa Ki Lori, Good Night Lori for Girlfriend Lyrics in Hindi, Hindi Lori Songs Video आदि दिए हुए हैं. आप अपने मुन्नाा और मुन्नी को इन गीतों को जरूर सुनाएँ।

लोरी गीत | Lori Geet

लिटिल बेबी सो जा,
लाल पलंग पर सो जा,
मम्मी डैडी आएंगे
साथ खिलौने लाएंगे,
एक खिलौना टूटा
लिटिल बेबी रूठा।

Little Baby So Ja – Lori Video

यह Lori Geet बच्चो को खूब पसंद आता है. इससे सुनने के बाद बच्चे जल्दी सो जाते है. अगर आपका बच्चा सोता नहीं है तो इसे जरूर सुनाये।

Video Credit – youtube.com/Happy Bachpan

लल्ला लल्ला लोरी दूध की कटोरी | Lori in Hindi

लल्ला लल्ला लोरी दूध की कटोरी
दूध में बताशा मुन्नी करे तमाशा
छोटी छोटी प्यारी सुंदर परियों जैसी है
किसी की नजर ना लगे मेरी मुन्नी ऐसी है
शहद से भी मीठी दूध से भी गोरी
चुपके चुपके चोरी चोरी
लल्ला लल्ला लोरी
कारी रैना के माथे पे चमके चांद सी बिंदिया
मुन्नी की छोटे-छोटे नैनन में खेले निंदिया
सपनों का पालना आशाओं की डोरी
चुपके चुपके चोरी चोरी चोरी
लल्ला लल्ला लोरी

Lalla Lalla Lori Doodh Ki Karori – Lori Video

Video Credit – youtube.com/Kids Planet Hindi

Aa Leke Chalun Tujhko Aise Desh Mein | Lori Geet

आ लेके चलूं तुझको ऐसे देश में
आ लेके चलूं तुझको ऐसे देश में
मिलती है जहाँ ख़ुशियाँ परियों के भेष में
मिलती है जहाँ ख़ुशियाँ परियों के भेष में
आ लेके चलूं तुझको ऐसे देश में

हो चाँद चाहे आधा हो फिर भी रौशनी
हो चाँद चाहे आधा हो फिर भी रौशनी

उम्मीद जो ना छुटे हर बात है बनी
रातों के सुर से निकले सुबह की रागिनी

लोरी तुझको सुनाऊँ
लोरी तुझको सुनाऊँ
बचपन की एक मैं
लोरी तुझको सुनाऊँ
बचपन की एक मैं

मिलती है जहाँ ख़ुशियाँ परियों के भेष में
आ लेके चलूं तुझको ऐसे देश में

मैं आसमां को खिडकियों से घर में लायी हूँ
मैं आसमां को खिडकियों से घर में लायी हूँ
सारे के सारे तारे यहाँ चुनके लायी हूँ
सपनों में रंग मन के यूँही भरते आई हूँ

हर दर्द भूल जाऊं हर दर्द भूल जाऊं यूँही खेल खेल में
मिलती है जहाँ ख़ुशियाँ परियों के भेष में परियों के भेष में
आ लेके चलूं तुझको ऐसे देश में

देना तू मन की शक्ति मालिक मेरे मुझे
देना तू मन की शक्ति मालिक मेरे मुझे
मेरी कथा व्यथा है सब पता तुझे
मैं जब भी डगमगाऊँ तू थाम लो मुझे

छोड़े हैं सपने सारे
तेरी देख रेख में
छोड़े हैं सपने सारे
तेरी देख रेख में

मिलती है जहाँ ख़ुशियाँ परियों के भेष में
मिलती है जहाँ ख़ुशियाँ परियों के भेष में
आ लेके चलूं तुझको ऐसे देश में

Video Credit – youtube.com/Vridhi Saini

इसे भी पढ़े –