शमा शायरी | Shama Shayari

Shama Shayari

Shama Parwana Shayari in Hindi – इस पोस्ट में बेहतरीन शमा शायरी ( Shama Shayari ), शमा परवाना शायरी ( Shama Parwana Shayari ) आदि दिए हुए हैं. इस पोस्ट को जरूर पढ़े.

बेस्ट शमा शायरी | Best Shama Shayari

हूँ मैं परवाना मगर कोई शमा तो हो रात तो हो,
जान देने को हूँ हाजिर मगर कोई बात तो हो.


कितने परवाने जले राज़ ये पाने के लिए,
शमा जलने के लिए है या जलाने के लिए.


शमा जिस आग में जलती है नुमाइश के लिए
हम उसी आग में गुम-नाम से जल जाते हैं
क़तील शिफ़ाई


ऐ शमा तुझ पे रात ये भारी है जिस तरह,
मै ने तमाम उम्र गुज़ारी है इस तरह.
नातिक लखनवी
Shama Shayari Urdu


तू कहीं हो दिल-ए-दीवाना वहाँ पहुँचेगा
शमा होगी जहाँ परवाना वहाँ पहुँचेगा
बहादुर शाह ज़फ़र


जिसने दिल पे चोट न खायी कभी वो दर्द किसी का क्या जाने,
खुद शमा को मालूम नहीं क्यों जल जाते हैं परवाने.
Shama 2 Line Poetry


किसी को प्यार का मतलब बस इतना सा समझाना,
शमा के पास जाकर के परवाने का जल जाना.


कभी दिल को कभी शमा को जला कर रोये,
तेरी याद को दिल से लगा कर हम रोये,
रात की गोद में जब सो गयी सारी दुनिया,
चाँद को तेरी तस्वीर बना कर हम रोये.


वो शमा की महफ़िल ही क्या,
जिसमे परवाना जल कर ख़ाक न हो,
मज़ा तो तब आता है चाहत का मेरे दोस्त,
जब दिल तो जले मगर राख न हो.
Shama Parwana Shayari in Hindi


वो चाँद है मगर आप से प्यारा तो नहीं,
परवाने का शमा के बिन गुजारा तो नहीं,
मेरे दिल ने सुनी है एक प्यारी सी आवाज़,
कहीं महफ़िल में आपने मुझे पुकारा तो नहीं.


बहते वक़्त की रफ़्तार रुक गयी होती,
शरम से आँखें झुक गयीं होती,
अगर दर्द जानती शमा परवाने का,
तो जलने से पहले बुझ गयी होती.


ये सिलसिला उल्फ़त का चलता ही रह गया,
दिल की चाह में दिलबर मचलता ही रहा गया,
कुछ देर जल के शमा खमोश हो गयी,
परवाना मगर सदियों तक जलता ही रह गया.


परवाने को शमा पर जल कर कुछ तो मिलता होगा,
यूँ ही मरने के लिए कोई मुहब्बत नहीं करता.


सब इक चराग़ के परवाने होना चाहते हैं
अजीब लोग हैं दीवाने होना चाहते हैं
असअ’द बदायुनी