अब तो बरस जा – कविता

एक बार आकर देख कैसा, ह्रदय विदारक मंजर है
पसलियों से लग गयीं हैं आंतें, खेत अभी भी बंजर है

टकटकी बाँध तकती निगाहों पर, तनिक तो तरस खा
बहुत हुई परीक्षा रे मेघा, अब तो बरस जा

सूखी घास, सूखे पौधे, छाँव वाले वृक्ष भी सूखे हैं
निर्जन हैं खेत, जीव जन्तु, पंक्षी भी भूखे हैं

इस से पहले कि सूख जाये आँखो का पानी, तनिक तो तरस खा
बहुत हुई परीक्षा रे मेघा, अब तो बरस जा

न पंक्षी चहकते हैं, न ही कोयल गाती है
दरारें पड़ीं धरा के सीने में, दहकती पवन तन जलाती है

बिना काल ये अकाल क्यों है, क्रोध में महाकाल क्यों है
जल से जीवित जीवन पर, तनिक तो तरस खा
बहुत हुई परीक्षा रे मेघा, अब तो बरस जा

मृत्यु कर रही है तांडव, बिखरे अस्थि पंजर हैं
नदियाँ सिमटी अंजलि में, उमड़े रेत के समन्दर हैं

अभी भी आशा की डोर पकड़ी सांसों पर, तनिक तो तरस खा
बहुत हुई परीक्षा रे मेघा, अब तो बरस जा !!!

#कवि डा. हरेन्द्र चाहर

Latest Articles

Good Morning Images for Life Advice in Hindi | जिन्दगी की सलाह देते सुप्रभात इमेज

Good Morning Images for Life Advice in Hindi - इस आर्टिकल में जिन्दगी की सलाह देते कुछ बेहतरीन सुप्रभात इमेज दिये हुए है. इन्हें...

संविधान दिवस पर शायरी स्टेटस | Constitution Day Shayari Status in Hindi

Samvidhan Diwas Constitution Day Shayari Status Image in Hindi - इस आर्टिकल में संविधान दिवस पर शायरी स्टेटस इमेज आदि दिए हुए है. इन्हें...

संविधान दिवस पर कविता | Constitution Day Poem in Hindi

संविधान दिवस पर कविता | Constitution Day Poem in Hindi - संविधान दिवस प्रति वर्ष 26 नवम्बर को मनाया जाता है. इसे क़ानून दिवस...

अनपढ़ पर शायरी स्टेटस | Illiterate Shayari Status Quotes in Hindi

Illiterate Anpadh Shayari Status Quotes Image in Hindi - इस आर्टिकल में अनपढ़ पर शायरी स्टेटस कोट्स इमेज आदि दिए हुए है. इन्हें जरूर...