झूला शायरी स्टेटस कोट्स | Jhula Shayari Status Quotes in Hindi

Jhula Shayari Status Quotes in Hindi – इस आर्टिकल में बेहतरीन झूला शायरी स्टेटस कोट्स इमेज आदि दिए हुए हैं. जरूर पढ़े.

सावन के महीने में वर्षा ऋतु शुरू हो जाती है और चारों ओर हरियाली ही हरियाली नजर आता है. ऐसे में पेड़ पर झूले पर बच्चों को झूलते देखकर मन अति प्रसन्न हो जाता है. बचपन की यादें ताजा हो जाती है. आप कितने भी उदास हो कुछ देर बच्चों को झूला झूलते देख लो तो मन प्रसन्न हो जाता है उन बच्चों में अपना बचपना नजर आने लगता है. खुशियाँ कितनी अनमोल होती है जो बिना रूपये के मिलती है. ये अक्सर बच्चे और गरीब के हिस्से में ही आती है.

Jhula Shayari in Hindi

खुशियों का झूला छोड़कर,
दुनियादारी का झूला झूल गये,
जिम्मेदारी अपने सिर इतनी ले ली
कि जीना ही भूल गये.

Khushiyon Ka Jhula Chhodakar,
Duniyadari Ka Jhula Jhool Gaye,
Jimmedaari Apne Sir Itni Le Lee,
Ki Jeena Hee Bhool Gaye.


Jhula Shayari in Hindi | Jhula Status in Hindi | Jhula Quotes in Hindi | झूला शायरी | झूला स्टेटस | Jhoola Shayari in Hindi
- Advertisement -

इन्टरनेट की दुनिया में गाँव का शोर मौन है,
पेड़ के उस झूले पर आजकल झूलता ही कौन है.

Internet Ki Duniya Me Gaanv Ka Shor Maun Hai,
Ped Ke Us Jhoole Par Aajkal Jhulta Hee Kaun Hai.


सावन में झूलों की कतारें
बागो मे फूलों की बहारें
विहंग सारे चहक उठे
आयी जब बारिश की फूहारें।
मोनिका श्री

Sawan Ke Jhulon Ki Kataren,
Bagon Me Fulon Ki Baharen,
Vihang Sare Chahak Uthe,
Aayi Jab Barish Ki Fuhaaren.
Monika Shree


सबकुछ भूल गया पर नहीं भूला,
गाँव के पेड़ पर लगा बचपन का झूला.

Sab Kuchh Bhool Gaya Par Nahi Bhoola,
Gaanv Ke Ped Par Laga Bachapan Ka Jhoola.


Jhula Shayari

Jhula Shayari in Hindi | Jhula Status in Hindi | Jhula Quotes in Hindi | झूला शायरी | झूला स्टेटस | Jhoola Shayari in Hindi

बहुत लोग झूला झूलते वक़्त डर जाते है,
पर जो डरते नहीं है, वही असली मजा कर पाते है.

Bahut Log Jhoola Jhoolte Waqt Dar Jaate Hai,
Par Jo Darate Nahi Hai, Wahi Asali Maza Kar Paate Hai.


सावन के झूलो की मस्ती, भोले की भक्ति,
आदि से अनंत तक महाकल की शक्ति.

Savan Ke Jhulo Ki Masti, Bhole Ki Bhakti
Aadi Se Annat Tak Mahakal Ki Shakti.


Jhula Status in Hindi

झूले सी होती है जिन्दगी,
कभी आगे ले जाती है तो कभी पीछे.

Jhule Si Hoti Hai Zindagi,
Kabhi Aage Le Jati Hai To Kabhi Peechhe.


सावन का महीना दिल को बड़ा भाता है,
नीम के पेड़ का वो झूला याद आता है.

Savan Ka Maheena Dil Ko Bada Bhata Hai,
Neem Ke Ped Ka Wo Jhula Yaad Aata Hai.


Jhoola Shayari

आंखो में आंसू भर कर
तेरी यादों में खो जाती हूँ
तेरे ख्यालों के झूले पर अक्सर
सिर रख कर मै सो जाती हूँ ।
मोनिका श्री


देखो पेडों पर लटका झूला
जोह रहा है किसी का बाट
पर सबके सब तो मशगूल हैं
हाथों में लिए मोबाइल स्मार्ट ।
मोनिका श्री


Jhula Quotes in Hindi

झूला जितना पीछे जाता है,
उतना ही आगे आता है,
एकदम बराबर…
सुख और दुःख दोनों ही जीवन
में बराबर मिलते है.
जिन्दगी का झूला पीछे जाएँ तो
डरो मत, वह आगे भी आएगा.

Jhula Jitna Peechhe Jata Hai,
Utna Hee Aage Aata Hai,
Ekdam Barabar…
Sukh Aur Dukh Dono Hee Jeevan
Me Barabar Milte Hai.
Jindagi Ka Jhula Peechhe Jaayen To
Daro Mat, Wah Aage Bhi Aayega.


लोग कहते है नफ़रत खराब चीज है,
तो मोहब्बत ने कौन सा झुला झुलाया है.

Log Kahte Hai Nafarat Kharab Cheej Hai,
To Mohabbat Ne Kaun Sa Jhula Julaaya Hai.


बचपन की वो लोरियां फिर से सुना दे माँ,
अपने बाहों के झूले में झूला फिर से झुला दे माँ.

Bachapan Ki Wo Loriyan Fir Se Suna De Maa,
Apne Baahon Ke Jhoole Me Jhula Fir Se Jhula De Maa.


झूला शायरी

कहां गयी पीपल की छांव
खो गयी कतारें झूलों की
इस मोबाइल की दुनिया में
महक तक ना बची
प्रेम-पत्र मे फूलों की ।
मोनिका श्री


काश! तेरी बाहों के झूले में
कुछ पल झूल पाते हम
जमाने की खुशियाँ साथ होती
भूल जाते दुनियाँ के सारे गम ।
मोनिका श्री


झूला स्टेटस

ये चिड़िया भी मेरी बेटी से कितनी मिलती-जुलती है.
कहीं भी साख-ए-गुल देखे तो झूला डाल देती है.

Ye Chidiya Bhi Meri Beti Se Kitani Milati-Julati Hai,
Kahin Bhi Saakh-e-Gul Dekhe To Jhula Daal Deti Hai.


झूले-सी हो गयी है तेरी यादें,
मैं आगे बढ़ती हूँ और वो पीछे ले आती है.

Jhoole-Si Ho Gayi Hai Teri Yaaden,
Mai Aage Badhati Hoon Aur Wo Peechhe Le Aati Hai.


Jhoola Shayari in Hindi

झूठे इश्क की डोर पर
एक बार जो झूला झूल गया
गिरना तो उसका निश्चित है
जीना भी खुशी से भूल गया !
मोनिका श्री


सावन के झूले पड़ गये,
बागों मे पपीहा बोल रहा,
झूले पर मुस्काता श्याम,
गोपियों का मन डोल रहा.
मोनिका श्री


सावन के झूले पर शायरी

Jhule Par Shayari
Jhule Par Shayari | सावन के झूले पर शायरी

बागों मे कलियां महक उठीं
पेडों पर झूलों की कतारें
दिल मिले, मन चहक उठे
आयी जब सावन की बहारें ।
मोनिका श्री


झूले पर शायरी

कहां गयी पीपल की छांव
खो गयी कतारें झूलों की
इस मोबाइल की दुनिया में
महक तक ना बची
प्रेम-पत्र मे फूलों की ।
मोनिका श्री


तेरी यादों के झूले पर
अक्सर मै झूल जाती हूँ
जब तेरी बंसी की धुन
कानो मे पडती है
मैं क्या हूँ ,कौन हूँ
ये तक मैं भूल जाती हूँ ।
मोनिका श्री


Jhule Par Shayari

तेरी प्रित के झूले मे
मै कुछ ऐसे झूल गयी
तू मेरा संसार बना
और मै जग को भूल गयी ।
मोनिका श्री


जब जब तेरी याद आयी
एहसासों के झूले पर झूल गये
ठहर गयी धडकन तक मेरी
दिन -रैन सभी कुछ भूल गये ।
मोनिका श्री


इसे भी पढ़े –

Latest Articles