HomeKavi and Kavita

Kavi and Kavita

अब तो बरस जा – कविता

एक बार आकर देख कैसा, ह्रदय विदारक मंजर है पसलियों से लग गयीं हैं आंतें, खेत अभी भी बंजर है टकटकी बाँध तकती निगाहों पर, तनिक...

कविता | Kavita

इस पोस्ट में आपको कविता, दोहे और बड़े-बड़े कवियों की रचनाएँ मिलेंगी. नीचे दी गयी कबिताये और दोहे बहुत ही मोटिवेशनल हैं इसे आपको...

किसान कविता | Kisan Kavita

Kisan Kavita - कवि सुदीप भोला के द्वारा किसानो को समर्पित यह कविता हृदय को जब छूती हैं तो आँखों से अपने आप ही...

कबीर के दोहे – भाग 1

Kabir Ke Dohe - कबीर के दोहे हमें बहुत कुछ सिखाते हैं और इन छोटे-छोटे दोहों से हमें वह ज्ञान और जानकारी प्राप्त होती...

कबीर के दोहे (Kabir Ke Dohe)

Kabir Ke Dohe - कबीर के दोहे आज भी हमें बहुत सारी ज्ञान की बाते  बताते हैं. कबीर जी हिंदी साहित्य के भक्ति युग...