लेखक शायरी स्टेटस | Writer Shayari Status Quotes in Hindi

Writer Shayari Status Quotes Slogan Image in Hindi – इस आर्टिकल में लेखक शायरी स्टेटस कोट्स इमेज आदि दिए हुए है. इन्हें जरूर पढ़े और शेयर करें।

मैं ऐसा मानता हूँ कि लेखक हर किसी व्यक्ति के अंदर होता है. जब कोई व्यक्ति अपनी पहली शायरी, कविता, गजल या कोई नज़्म लिखता है तो उसे बड़ी ख़ुशी मिलती है. अगर लिखने के पैसे मिले तो आत्मविश्वास सातवें आसमान पर होता है. एक समय था जब कवि और लेखक ग़रीबी और आर्थिक तंगी में जीते थे. लेकिन आज के दौर में एक अच्छा लेखक काफी अच्छा पैसा कमा रहा है.

ब्लॉग के माध्यम से सबसे ज्यादा पैसा लेखक ही कमा रहे है. पहले शायरी, कविता, ग़ज़ल, कहानी लिखने वाले ही लेखक होते थे, लेकिन आज के दौर में हर विषय और हर क्षेत्र में अपने ज्ञान के माध्यम से लेख लिखने वालों की संख्या करोड़ो में है. इसका लाभ लेखक और पाठक दोनों को हो रहा है. लेखक और पाठक के मध्य पुल का काम गूगल करता है. गूगल ( Google ) ने Full Time और Part Time करोड़ो लोगों को पैसा कमाने का आधार दिया है.

Writer Shayari in Hindi

Writer Shayari in Hindi
Writer Shayari in Hindi | राइटर शायरी इन हिंदी | लेखक पर शायरी

इक लेखक होना भी आसान नहीं होता
रातभर जागता है दिन में भी नहीं सोता
ग़म आँसू पीड़ा और वेदनाओं को लिखता है
दिल में दर्द रहता है पर आँखों से नहीं रोता ।।
वेदप्रकाश वेदांत


- Advertisement -

मैं लेखक मतवाला हूँ
पीता नहीं मैं हाला हूँ
बस इतनी सी कमजोरी है
सच को सच कहने वाला हूँ ।।
वेदप्रकाश वेदांत


शब्द, क़लम और पन्नों पर
जिसका पूरा पूरा हक है
दुनियाँ की बातें लिखने वाला
वही तो आदर्श लेखक है ।।
वेदप्रकाश वेदांत


Writer Status in Hindi

Writer Status in Hindi
Writer Status in Hindi | राइटर स्टेटस इन हिंदी | लेखक स्टेटस

अपने युग का सच लिखना ही बनता इक इतिहास है
उठा लो अब हाथों में क़लम ये क्षमता तुम्हारे पास है ।।
वेदप्रकाश वेदान्त


होती ग़र ख़बर की तेरी मुस्कुराहटें भी झूठी हैं
तो हँसमुखों की श्रेणी में तेरा नाम न लिखता ।।
वेदप्रकाश वेदांत


मेरी पीड़ा को हरकर करेगा तू क्या
इस पीड़े में पड़कर क़लम चलती है ।।
वेदप्रकाश वेदांत


Writer Quotes in Hindi

इस दौर की कहानी लिखूँगा मैं
हर पत्थर को पानी लिखूँगा मैं
लिख दोगे ग़र रेत पर नाम मेरा
तो भी दरिया तूफानी लिखूँगा मैं ।।
वेदप्रकाश वेदांत


लेखक होना आम हो रहा है
जो लिख भी नहीं सकता
उसका नाम हो रहा है
साहित्य को सींचने का
जो बीड़ा उठाये हैं
उनकी लाचारी में सुबह
तंगी में शाम हो रहा है ।।
वेदप्रकाश वेदांत


लेखक शायरी

लेखक शायरी
लेखक शायरी | Writer Shayari | Lekhak Shayari

अकेलापन जब एकांत में बदलने लगता है,
तब एक लेखक का कलम चलने लगता है.


वो अदना लेखक बदनाम है
जो सुबह को लिखता शाम है
इस युग का कबिरा बनके दिखा
जो बिन लिखे कमाया नाम है ।।
वेदप्रकाश वेदांत


लेखक ग़र तू भी हो गया मौन
तो इस दौर की कहानी लिखेगा कौन?
तू कर्म अपना कर, उपेक्षित होने से बच
आने वाली पीढी के सामने रख सच ।।
वेदप्रकाश वेदांत


राइटर शायरी

राइटर शायरी
राइटर शायरी | Writer Shayari

दिन को दिन रात को रात लिख
डर मत इस युग की बात लिख
सच की स्याही कागज़ पे उतार
जिससे जैसी हो मुलाकात लिख ।।
वेदप्रकाश वेदांत


राइटर शायरी इन हिंदी

आग को दरिया का पानी लिख सके तो लिख
इस दौर की बिगड़ी कहानी लिख सके तो लिख
गुमसुदा सा है देश ये, सबका पौरुष निस्तेज है
इनके लिए कुछ तूफ़ानी लिख सके तो लिख ।।
वेदप्रकाश वेदांत


क्या साहब आप भी हिटलर वाली बात करते हो
मेरे शब्दों को चुराकर मुझी पर आघात करते हो
हम वहीं के वहीं बैठे हैं ये दुनियाँ संसार लिखकर
तुम लेखक बनकर बड़े बड़ों से मुलाक़ात करते हो ।।
वेदप्रकाश वेदांत


लेखक पर शायरी

पानी नहीं अब मैं आग लिखूँगा
हर चेहरे के पीछे का दाग़ लिखूँगा
सत्य का लेखक हूँ शब्द हैं हथियार मेरे
इस युग के पंगु शासकों का अभाग लिखूँगा ।।
वेदप्रकाश वेदांत


दुनियाँ की लाचार कहानी क्या कहना
ढूँढ़ रहे सब पत्थर में पानी क्या कहना
पढ़ते लिखते बाल पक रहे किसे ख़बर
बुढापे में आ रही जवानी क्या कहना ।।
वेदप्रकाश वेदांत


कवि पर शायरी

लेखक हूँ लिखता हूँ
लिखना ही मेरा काम है
इस युग की सच्चाई लिख
दुनियाँ में करना नाम है ।।
वेदप्रकाश वेदांत


Writer Shayari

जुबाँ, शब्द, मन और भावों पर
जिसका पूरा पूरा अधिकार है
पन्नों में दुनियाँ की सैर कराने वाला
वो लेखक दस नावों की पतवार है ।।
वेदप्रकाश वेदांत


लेखक स्टेटस

मेरा भी नाम लिख ग़ालिब शायरों की हस्ती में
सुना है ग़म के मारे ही बसते हैं तेरी बस्ती में !!
वेदप्रकाश वेदांत


शायरों का ग़ालिब कोई उम्र नहीं होता
ग़र ग़म साथ दे तो ताउम्र हम शायर हैं ।।
वेदप्रकाश वेदांत


यूँ ही नहीं लेखकी में मशहूर हुए हम
स्वेद माथे से टपका है क़लम डुलाने में ।।
वेदप्रकाश वेदांत


इसे भी पढ़े –

Latest Articles