भोजपुरी शायरी स्टेटस | Bhojpuri Shayari Status Quotes Thoughts

Bhojpuri Shayari Status Quotes Thoughts Image – इस आर्टिकल में भोजपुरी शायरी स्टेटस कोट्स इमेज आदि दिए हुए है. इन्हें जरूर पढ़े.

भोजपुरी ( Bhojpuri ) भाषा मुख्यतः पश्चिम बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा बोली जाती है. भोजपुरी में आपको उर्दू भाषा के शब्दों का मिश्रण भी आपको मिलेगा. हर जुबान और हर भाषा का अपना एक अलग ही महत्व है. पूरे भारत में लगभग 5 से 6 करोड़ लोग भोजपुरी बोलते है. भोजपुरी भाषा में फ़िल्में और गीत पूरे उत्तर प्रदेश और बिहार में देखे और सुने जाते है.

Bhojpuri Shayari

तोहरा से लगन लगा लेहली
बोला का अब तू सिला देबू
दिल तोड़ि के जइबू तुहू या
अँखियाँ से जाम पिला देबू ।।
वेदप्रकाश वेदांत


जबसे प्यार भइल तोहसे
अँखियाँ तबसे न सोवेळी
का बतलाई दिल के बात
ई रात रात भर रोवेळी
मिले के ख़ातिर मनवा में
रहि रहि उठे ला पीर
समझत नईखी काहे केहू
हम हईं राँझा तू हऊ हीर ।।
वेदप्रकाश वेदांत


प्यार जबसे तोहरा से हो गइल बा
भूख प्यास चैन सब खो गइल बा
होश में न बानी हम कइलू कवन जादू
बिन पियले बोतल के नशा हो गइल बा ।।
वेदप्रकाश वेदांत


Bhojpuri Status

बड़ा सम्हारि के जिनगियां में प्यार कइली,
प्यार मिलल नाहीं ऊपर से बेरोजगार भइली।


हमरा मितवा बड़ा ज्ञान क बात बतावेला,
ई प्यार क भूत बाबूजी क चप्पल उतारेला।


Bhojpuri Quotes

प्यार के खेला ग़ज़ब बा भैया
करबा ता पछतईबा
चार दिन बस खुश रहबा
बाकी दिन ग़म खईबा
पर जेके न प्यार मिली
उहो खूब ललचाई
पूरा जवानी बीत गइले पे
उहो खूब पछताई।
वेदप्रकाश वेदांत


प्यार के तू मूरत हऊ
दुनियाँ से खूबसूरत हऊ
हमके न चाही चाँद के टुकड़ा
ई दिल के बस तूही ज़रूरत हऊ ।।
वेदप्रकाश वेदांत


नींद चैना के आपस में
तकरार हो जाला
जब केहू के केहू से
प्यार हो जाला
दिल धड़कावे पवन
पुरवईया बहुत
तेज साँस की नदिया
के धार हो जा ला ।।
वेदप्रकाश वेदांत


भोजपुरी शायरी

ग़म में पड़िके ग़ज़ल लिखा
औ प्यार में पड़िके गीत
ग़र दूनो के दूनों लिख दिहला
ता बाड़ा तू सच्चा मीत ।।
वेदप्रकाश वेदांत


बाड़ू बहुत हसीन तोहर नैना हवे कमाल के
ज़माना बा मनचला तनिक रहिहा सम्भाल के
ई सतरह के उमरिया खतरा के हा निशानी
निकलिहा घर से सिर पे ओढ़नी तू ढाल के ।।
वेदप्रकाश वेदांत


दिल के तू चैना चुरा लेहलू
दिवाना हमके तू बना देहलू
तोहरे नैना के दरिया में
हम डूब रहल बानी
बोला दिलवा पे कवन
चक्कर चला दिहलू ।।
वेदप्रकाश वेदांत


Bhojpuri Thoughts

प्यार ग़र कइला ता निभावेके पड़ी
इक दूजे के दिल में बसावेके पड़ी
मुश्किल से केहू निभा पावेला ई रिश्ता
पावन प्रेम हर घड़ी तुहें दिखावेके पड़ी ।।
वेदप्रकाश वेदांत


चतुर नयन जस विशिख समाना
अधर शहद अस लै निज प्राना
प्रभु लायव किन्ह रूपवा खज़ाना
भेजेव का उर्वसि यह ग्रामा ।।
वेदप्रकाश वेदांत


भोजपुरी मजेदार शायरी

मटकत चलति कमर गगरिया डोले
देखतहि मन ब्याकुल होय होले-होले
धीरज आपा खोय हृदयतन
गाँठ प्रीत की खोले मन में राग घोले ।।
वेदप्रकाश वेदांत


इसे भी पढ़े –

Latest Articles