पूजा गृह के लिए वास्तु टिप्स | Vastu Tips for Home Mandir

Vastu Tips for Home Mandir (पूजा गृह के लिए वास्तु टिप्स) -धर्म, आस्था पर केन्द्रित माना जाता हैं. भारत में हर हिन्दू के घर में एक पूजा का स्थान जरूर होता हैं जहाँ घर के परिवार ईश्वर की आराधना और प्रार्थना करते हैं. घर में पूजा के स्थान में देवी देवताओ की मूर्ति स्थापित करते समय कुछ सावधानियाँ जरूर बरतनी चाहिए. इस पोस्ट को पढ़कर आप यह जान सकते हैं कि वास्तु टिप्स (Vastu Tips) के अनुसार पूजा घर को कैसे स्थापित करे.

10 वास्तु टिप्स पूजा गृह के लिए (10 Vastu Tips for Your Home Mandir)

  1. वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra) के अनुसार घर में पूजा स्थान उत्तर-पूर्व दिशा में स्थापित करने से घर में शांति और ज्ञान की वृद्धि होती हैं.
  2. सोने वाले कमरे में (शयन कक्ष में) देवी देवताओ की मूर्ति नही रखनी चाहिए. दक्षिण दिशा की ओर पूजा घर को नही स्थापित करना चाहिए.
  3. पूजा घर को शौचालय या स्नानघर के आस-पास या ऊपर-नीचे नही बनाना चाहिए.
  4. पूजा घर के दरवाजे दो पल्ले वाले होने चाहिए.
  5. घर के अंदर शिवालय बनाना वर्जित होता हैं, परन्तु अन्य देवी देवताओ के साथ भगवान शिव की मूर्ति और चित्र अवश्य रख सकते हैं.
  6. घर में मंदिर को पूर्व दिशा में रखना चाहिए और सोते समय पैर मंदिर की तरफ नही होना चाहिए.
  7. मंदिर के सामने झाडू, जूता, चप्पल या पोछा (घर की सफाई करने का समान) न रखे.
  8. यदि आपके घर में मंदिर हैं तो प्रतिदिन जरूर पूजा करे. इससे घर में सकारात्मक उर्जा का संचार होता हैं.
  9. भगवान् की धातु मूर्ति का प्रयोग करे जो आपके घर में हमेशा रहे. मिट्टी की मूर्ति इस्तेमाल करने पर वह टूट सकता हैं, भगवान की मूर्ति का टूटना अशुभ माना जाता हैं.
  10. हनुमान जी की मूर्ति या तस्वीर को उत्तर दिशा में स्थापित करना चाहिए जिससे उनकी दृष्टि दक्षिण दिशा में रहे. इससे नकारात्मक उर्जा नष्ट हो जाती हैं और सकारात्मक उर्जा का संचार होता हैं.