सफल और असफल व्यक्ति में क्या अंतर होता है

असफल और सफल लोगों में क्या अंतर होता है? यह प्रश्न प्रत्येक के दिमाग में घूमता उमड़ता रहता है लेकिन इसका उत्तर ढूँढ पाना प्रत्येक के लिए मुश्किल होता है, अगर जिस व्यक्ति ने भी उत्तर ढूँढ लिया उसे सफल होने से दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती, लेकिन सच तो यह है कि ज्यादातर लोग सफल ही नहीं होना चाहते क्योंकि असफलता पर आँसू बहाना इनकी दिनचर्या में शामिल हो जाता है.

खुद को प्रोत्साहित करना

सफल व्यक्ति के बारे में पढ़ें या देखें तो यही पायेंगें की असफलता हाथ लगने के बाद भी खुद को प्रोत्साहित करता हैं उसका कथन होता है कि असफलता का मतलब यह नहीं की लक्ष्य के दिशा में चला गया प्रत्येक कदम गलत होता है, वह यह सोचता है कि इसमें से उठाये गए कुछ कदम ही गलत है और वह विचरण करने लगता है कि कौन-कौन से कदम गलत थे और उन कदमो को ढूँढ बाहर निकालता है जबकि असफल व्यक्ति लक्ष्य के दिशा में उठाए गए प्रत्येक कदम को गलत मानने लगता है.

हमेशा सीखने की ललक अपने अंदर विकसित करें

हम देखते हैं कि सफल व्यक्ति कभी खुद को सर्वश्रेष्ठ नहीं मानता और अपने सीखने की ललक को हर वक्त बनाये रखता है उसे भली-भाँति पता होता है कि किसी भी क्षेत्र में ली गयी जानकारी कभी भी व्यर्थ नहीं जाती और लक्ष्य के प्राप्ति में कहीं ना कहीं काम आ ही जाती.

प्रत्येक कार्य की सूचि तैयार करें

बिना सूचि तैयार किये अगर हम लक्ष्य प्राप्ति की दिशा में निकल पड़े तो यह प्रत्येक कदम पर व्यवधान के सामना के लिए तैयार रहें, क्योंकि बिना सूचि तैयार किये हम कार्य की प्राथमिकता को नहीं जान पाते और इस तरह कुछ कार्य को समय से पहले और कुछ को समय के बाद करते है जो किसी भी कोण से लक्ष्य के लिए हानिकारक होता है.

साप्ताहिक आराम दें

खुद को तरोताज़ा होने के लिए साप्ताहिक आराम राम बाण से कम नहीं होता है, क्योंकि ज्यादा कार्य करने की स्थिति में व्यक्ति शारीरिक तथा मानसिक दोनों तरह से थक जाता है जो कहीं से भी लक्ष्य के साथ-साथ सेहत के लिए अच्छा नहीं होता है.

सफल व्यक्तियों की जीवनी पढ़ें

सफल व्यक्ति के जीवनी पढ़ना लक्ष्य प्राप्ति की दिशा में 100 प्रतिशत लाभप्रद होता है,इससे उस सफल व्यक्ति के संघर्ष से एक प्रेरणा मिलता है जो लक्ष्य के दिशा में आगे बढ़ने के लिए हर समय विशेष व्यक्ति को प्रेरित करता है.