पूरना मलावाथ के सफ़लता की कहानी | Success Story of Malavath Poorna in Hindi

Malavath Poorna Biography Success Story in Hindi – “मलावाथ पूरना या पूरना मलावाथ” ने मात्र 13 साल, 11 महीने  की उम्र में ( 25 मई, 2014 ) को दुनिया की सबसे ऊँची चोटी माउण्ट एवरेस्ट ( Mount Everest ) पर चढने में सफलता प्राप्त की. वह इस शिखर पर पहुँचने वाली सबसे युवा महिला हैं.

Malavath Poorna

Malavath Poorna (मलावाथ पूरना) ने जिस उम्र में माउण्ट एवरेस्ट फतह किया, उस उम्र की लड़कियाँ भारत जैसे देश में बड़ी मुश्किल से अपना लक्ष्य निर्धारित कर पाती है. पूरना की जीवनी जितनी जीवंत हैं उतनी ही प्रेरणादायक भी हैं जो ये सोचते हैं कि लड़कियाँ वो नही कर सकती जो लड़के कर सकते हैं.

मलावाथ पूरना की जीवनी | Malavath Poorna Biography in Hindi

नाम – पूरना मलावाथ ( Poorna Malavath )
जन्म – 10 जून, 2000
जन्म स्थान – निज़ामाबाद, तेलंगाना (भारत)
माता – लक्ष्मी मलावाथ ( Laxmi Malavath )
पिता – देवीदास मलावाथ ( Devidas Malavath )
राष्ट्रीयता – भारतीय
शौक – वॉलीबॉल और कबड्डी खेलना
प्रसिद्धि – माउन्ट एवरेस्ट को फतह करने वाली सबसे कम उम्र की लड़की

पूरना मलावाथ के पिता खेतों में काम करने वाले मामूली किसान हैं जिनको यह उम्मीद नही था कि उनकी बेटी कुछ ऐसा कर दिखाएगी जिससे उनका सर गर्व से ऊँचा हो जाएगा.

पहली बार पूरना मलावाथ ने माउन्ट एवरेस्ट को देखा और अपने कोच के पास गई और कहा – “यह लम्बा नहीं हैं, हम एक दिन में चढ़ सकते हैं.” वह 13 साल की थी.

पूरना के जीवन पर आधारित फिल्म “Poorna: Courage Has No Limit”

“पूरना (Poorna)” एक Indian Film हैं जो पूरना मलावाथ के जीवन पर आधारित हैं. इस फिल्म को राहुल बोस ( Rahul Bose ) के द्वारा निर्देशित किया गया हैं.