किसान कविता | Kisan Kavita

Kisan Kavita – कवि सुदीप भोला के द्वारा किसानो को समर्पित यह कविता हृदय को जब छूती हैं तो आँखों से अपने आप ही आँसू निकलने लगते हैं. यह सोचकर दिल भर जाता हैं कि भारत में किसानो की क्या हालत हैं.

भारत के हर एक उस नागरिक को इस कविता को पढना चाहिए जो नेता बनने के ख्वाब रखता हैं, जो किसानो के लिए कुछ करने का जज्बात रखता हैं. इस कविता में कवि ने किसानो के पूरे जीवन के दर्द को समेट दिया हैं

किसान कविता – हिंदी

जो देता हैं खुशहाली, जिसके दम से हरियाली,
आज वही बरबाद खड़ा हैं, देखो उसकी बदहाली,
बहुत बुरी हालत हैं ईश्वर, धरती के भगवान की,
टूटी माला जैसे बिखरी किस्मत आज किसान की.

ऐसी आंधी चली कि घर का तिनका-तिनका बिखर गया,
आख़िर धरती माँ से उसका प्यारा बेटा बिछड़ गया,
अखबारों की रद्दी बनकर बिकी कथा वलिदान की,
टूटी माला जैसे बिखरी किस्मत आज किसान की.

इतना सूद चुकाया उसने कि अपनी सुध भूल गया,
सावन के मौसम में झूला लगाकर फाँसी झूल गया,
अमवा के डाली पर देखो लाश टगी ईमान की,
टूटी माला जैसे बिखरी किस्मत आज किसान की.

एक अरब पच्चीस करोंड़ की भूख जो रोज मिटाता,
कह नही पता वो किसी से जब भूखा सो जाता,
फिर सीने पर गोली खाता सरकारी सम्मान की,
टूटी माला जैसे बिखरी किस्मत आज किसान की.

जो अपने कंधो पर देखो खुद हल लेकर चलता हैं,
आज उसी की कठिनाई का हल क्यों नही निकलता हैं,
जिनसे हैं उम्मीद उन्हें, उनको बस चिंता हैं मतदान की,
टूटी माला जैसे बिखरी किस्मत आज किसान की.

देख कलेजा फट जाता हैं, आँखों से आँसू बहते,
ऐसा ना हो कलम रो पड़े सच्चाई कहते-कहते,
बाली तक गिरवी रख्खी हैं बेटी के अभिमान की,
टूटी माला जैसे बिखरी किस्मत आज किसान की.

चीख पड़ी खेतो की माटी, तड़प उठी गम से धरती,
बिना कफ़न जब पगदंडी से गुजरी थी उसकी अर्थी,
और वही विदा हो गया जिसे चिंता थी कन्यादान की.
टूटी माला जैसे बिखरी किस्मत आज किसान की.


किसान कविता – इंग्लिश

Jo deta hain khushahaalee,
Jisake dam se hariyaalee,
Aaj vahee barabaad khada hain,
Dekho usakee badahaalee,
Bahut buree haalat hain eeshvar, dharatee ke bhagavaan kee,
Tootee maala jaise bikharee kismat aaj kisaan kee.

Aisee aandhee chalee ki ghar ka tinaka-tinaka bikhar gaya,
Aakhir dharatee maan se usaka pyaara beta bichhad gaya,
Akhabaaron kee raddee banakar bikee katha validaan kee,
Tootee maala jaise bikharee kismat aaj kisaan kee.

Itana sood chukaaya usane ki apanee sudh bhool gaya,
Saavan ke mausam mein jhoola lagaakar phaansee jhool gaya,
Amava ke daalee par dekho laash tagee eemaan kee,
Tootee maala jaise bikharee kismat aaj kisaan kee.

Ek arab pachchees karond kee bhookh jo roj mitaata,
Kah nahee pata vo kisee se jab bhookha so jaata,
Phir seene par golee khaata sarakaaree sammaan kee,
Tootee maala jaise bikharee kismat aaj kisaan kee.

Jo apane kandho par dekho khud hal lekar chalata hain,
Aaj usee kee kathinaee ka hal kyon nahee nikalata hain,
Jinase hain ummeed unhen, unako bas chinta hain matadaan kee,
Tootee maala jaise bikharee kismat aaj kisaan kee.

Dekh kaleja phat jaata hain, aankhon se aansoo bahate,
Aisa na ho kalam ro pade sachchaee kahate-kahate,
Baalee tak giravee rakhkhee hain betee ke abhimaan kee,
Tootee maala jaise bikharee kismat aaj kisaan kee.

Cheekh padee kheto kee maatee, tadap uthee gam se dharatee,
Bina kafan jab pagadandee se gujaree thee usakee arthee,
Aur vahee vida ho gaya jise chinta thee kanyaadaan kee.
Tootee maala jaise bikharee kismat aaj kisaan kee.

किसान पर शायरी, कोट्स और स्टेटस