जम्मू कश्मीर के बारें में रोचक जानकारियाँ | Jammu and Kashmir History

Jammu and Kashmir

History of Jammu and Kashmir in Hindi – जम्मू और कश्मीर भारत का एक विशेष और विवादित राज्य हैं, यह भारत के सबसे उत्तर में स्थित हैं. कश्मीर अपने प्राकृतिक सुन्दरता के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध हैं. यहाँ की सुंदर घाटी आने वाल पर्यटकों का मन मोह लेती हैं. पूरे विश्व से लाखो पर्यटक हर साल घूमने आते हैं. कश्मीर को धरती का स्वर्ग भी कहा जाता हैं. चारों तरफ बर्फ़ की चादर, चीड़ और देवदार के पेड़, गिरते बर्फ़, बोट हाउस, कश्मीरी संस्कृति, कश्मीरी सेव, कश्मीरी कपड़े बहुत सारे ऐसी खास बाते हैं जिसकी वजह से पर्यटक यहाँ खीचें चले आते हैं.

कश्मीर एक मुस्लिम बाहुल्य राज्य हैं, पर इनकी रहन-सहन एवं सस्कृति में हिन्दू धर्म की छाप मिलती हैं. कश्मीर की सीमा के नजदीकी देश – पकिस्तान, अफगानिस्तान, तिब्बत, सिक्यांग आदि हैं. जम्मू और कश्मीर के तीन मुख्य क्षेत्र हैं –

  1. हिन्दू बाहुल्य (जम्मू)
  2. मुस्लिम बाहुल्य (कश्मीर)
  3. बौद्ध बाहुल्य (लद्दाख)

Key Facts and History of Jammu and Kashmir जम्मू और कश्मीर का प्रमुख तथ्य और इतिहास

  1. 1 9 25 में महाराजा हरि सिंह जम्मू और कश्मीर रियासत के शासक बन गये थे.
  2. 22 अक्टूबर 1 9 47 को, जम्मू कश्मीर राज्य के कुछ हिस्सो में नागरिक विद्रोह हुआ और पकिस्तान ने चुपके से आक्रमण कर दिया. पहले तो महाराजा हरी सिंह लड़े फिर बाद में भारत से मदद माँगी और कुछ शर्तों पर 26 अक्टूबर 1 9 47 को जम्मू कश्मीर का विलय भारत में हो गया.
  3. राजा हरि सिंह ने शेख अब्दुल्ला की सहमति से भारत में कुछ शर्तों के तहत विलय किया था.
  4. जम्मू और कश्मीर मुख्य रूप से तीन क्षेत्रो को मिलाकर बना हैं जिसमें जम्मू, कश्मीर घाटी और लद्दाख़ हैं. “श्रीनगर” ग्रीष्मकालीन राजधानी हैं और “जम्मू” शीतकालीन राजधानी हैं.
  5. यहाँ पर मुख्य रूप से उर्दू, हिंदी, पंजाबी, डोगरी, कश्मीरी, लद्दाखी,पुरीग, गुरजी, दादरी आदि भाषाएँ बोली जाती हैं, यहाँ की अधिकारिक या राज्यभाषा उर्दू हैं.
  6. इस राज्य की प्रमुख नदियाँ सिन्धु, झेलम और चेनाब हैं.
  7. जम्मू कश्मीर के पड़ोसी राज्य हिमाचल प्रदेश और पंजाब हैं.
  8. इस राज्य के प्रमुख वन एवं राष्ट्रीय उद्यान हैं – दाचीगाम राष्ट्रीय उद्यान, हेमिस हाई आल्टीटयूड राष्ट्रीय उद्यान
  9. जम्मू काश्मीर के प्रमुख शहर – गुलमर्ग, पहलगाम, लेह, लद्दाख और श्रीनगर हैं. यही शहर अधिक्तर पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं. शादी के बाद अधिकत्तर लोग हनीमून के लिए इन्ही जगहों को पसंद करते हैं.
  10. यहाँ का राजकीय पशु “हंगुल” हैं.
  11. राज्य का राजकीय वृक्ष “चिनार” हैं.
  12. इस राज्य का राजकीय फूल “कमल” हैं.
  13. राज्य का राजकीय पक्षी काले गर्दन वाला “सारस” हैं.
  14. जम्मू और कश्मीर में जिलों की संख्या 22 हैं, यहाँ का क्षेत्रफल 222236 किमी. हैं.
  15. इस राज्य की प्रमुख झील – डल झील, वुलर झील, मानस बल झील, बैरिनाग झील, नागिन झील, शेषनाग झील, अनन्तनाग झील आदि हैं.
  16. भारत का सबसे बड़ी मीठे पानी की झील “वुलर झील” हैं.
  17. धारा 370 भारतीय संविधान के द्वारा जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा दिया गया हैं और इसमें इस राज्य को विशेष अधिकार भी हैं.
  18. जम्मू कश्मीर पहाड़ी क्षेत्रो से घिरा हुआ हैं, इसलिए यहाँ पूरे साल ठंडा तापमान होता हैं.
  19. कश्मीर घाटी के मूल निवासी कश्मीरी पंडित, हिंदू शैव मत के मानने वाले हैं.
  20. आजादी के बाद कश्मीर की वादी में लगभग 15% हिंदू थे जो अब बचकर केवल 4% रह गये हैं.
  21. जम्मू और कश्मीर राज्य की कुल आबादी में से, लगभग 72.62% ग्रामीण क्षेत्रों के गांवों में रहते हैं.
  22. यहाँ की प्रमुख फसलें गेहूँ, धान,मक्क, जौ, बाजरा और ज्वार आदि हैं.
  23. जम्मू कश्मीर राज्य में “राज्यसभा की 4 और लोकसभा की 6” सीटें हैं.
  24. आज़ादी के बाद, कश्मीर में पाकिस्तान ने घुसपैठ करके कश्मीर के कुछ हिस्सों पर अपना कब्जा कर लिया और बचा हिस्सा जम्मू-कश्मीर राज्य भारत का अंग हैं जो कि विवादित भी हैं.
  25. जम्मू कश्मीर के अधिकांश जिले हिमालय पर्वत से ढका हुआ हैं.
  26. जम्मू कश्मीर किए प्रसिद्ध वस्तुएं जिसे अक्सर पर्यटक खरीदते हैं जैसे अखरोट की लकड़ी पर बनी हस्तशिल्प, लेदर की वस्तुएं, कालीन, पश्मीना एवं जामावार शाल, केसर, क्रिकेट बैट और सूखे मेवे आदि.
  27. कश्मीरी लोगों की सांस्कृतिक पहचान का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा कश्मीरी (कोशूर) भाषा है. इस भाषा को केवल कश्मीरी पंडितों और कश्मीरी मुसलमानों द्वारा कश्मीर की घाटी में बोली जाती है.
  28. अलगाववादी संगठन ने कश्मीरी पंडितों से केंद्र सरकार के खिलाफ विद्रोह करने के लिए कहा, परन्तु जब कश्मीरी पंडितों ने ऐसा करने से इनकार कर दिया तो उनकी हत्या की जाने लगी और 4 जनवरी 1990 को कश्मीर का यह मंजर देखकर कश्मीर से 1.5 लाख हिंदू पलायन कर गए.